close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: जल संकट पर अशोक गहलोत ने की उच्चस्तरीय बैठक, दिए कई निर्देश

पेयजल संकट और अकाल की स्थिति से निपटने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पेयजल कृषि विभाग के अधिकारियों को खास तौर पर कंटीन्जेसी प्लान तैयार करने के निर्देश दिए. 

राजस्थान: जल संकट पर अशोक गहलोत ने की उच्चस्तरीय बैठक, दिए कई निर्देश
सीएम ने सीएमओ में उच्चस्तरीय बैठक ली.

जयपुर: राजस्थान में मानसून की कम बारिश के चलते उपजे पेयजल और सिंचाई पानी के संकट को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत बेहद गंभीर हैं. दो दिवसीय दिल्ली दौरे से लौटने के बाद आते ही सीएम ने सीएमओ में उच्चस्तरीय बैठक ली. बैठक में गहलोत ने सभी विभागों के अधिकारियों को आकस्मिक इंतजाम की पूर्व तैयारी रखने और पेयजल तथा पशुधन के चारे के लिए कंटीन्जेसी प्लान तैयार रखने के निर्देश दिए हैं.

वहीं पेयजल संकट और अकाल की स्थिति से निपटने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पेयजल कृषि विभाग के अधिकारियों को खास तौर पर कंटीन्जेसी प्लान तैयार करने के निर्देश दिए. सीएम ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि इस संबंध में आवश्यक प्रक्रियाएं और वित्तीय स्वीकृति और समय रहते ही पूरी कर ली जाए. बैठक में मुख्यमंत्री ने पेयजल आपूर्ति जलाशयों में पानी की उपलब्धता खरीफ की बुवाई की स्थिति की समीक्षा की. 

 

साथ अशोक गहलोत ने मुख्य सचिव आपदा प्रबंधन सहित विभिन्न विभाग और जिला कलेक्टरों के साथ चर्चा की. बैठक में मौसम विभाग की ओर से सीएम को अवगत कराया गया है कि 27 जुलाई से 1 अगस्त के बीच प्रदेश भर में अच्छी बारिश होने की संभावना है जिससे राज्य में करीब की फसलों की बुवाई की स्थिति बेहतर होगी. साथ ही पेयजल और सिंचाई के लिए पानी की उपलब्धता भी बढ़ सकेगी. 

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत कृषि विभाग के अधिकारियों को किसानों को कम समय में तैयार होने वाली फसल की बुवाई करने और हरे चारे वाली फसलों की बुवाई कभी के लिए प्रेरित करने को कहा. बैठक में जलदाय विभाग की ओर से सीएम को अवगत कराया है कि गया कि बीते दिनों प्रदेश के कई हिस्सों में हुई बरसात के बाद ट्रैक टैंकरों से पेयजल आपूर्ति की आवश्यकता में कमी आई है. इसके अलावा जयपुर शहर अजमेर जिले सहित विभिन्न क्षेत्रों के लिए प्लान के तहत तैयारी पूरी कर ली गई है. 

वहीं पाली के लिए ट्रायल रन के रूप में 25 जुलाई से 3 एमएलडी पानी के साथ वाटर ट्रेन की एक ट्रिप शुरू होगी. पर्याप्त मात्रा में पानी उपलब्ध कराने के लिए जयपुर और अजमेर में नए नलकूप खोदे गए हैं. कुल मिलाकर उम्मीद की जा सकती है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की गंभीरता के बाद सभी विभागों के अधिकारी हरकत में आएंगे और मानसून में हो रही देरी के चलते उपजे पेयजल और सिंचाई संकट से प्रदेशवासियों को निजात मिल पाएगी.