राजस्थान में आतंकवादी गतिविधियां रोकने के लिए ATS ने की गहलोत सरकार से यह डिमांड

गृह विभाग 3 सितंबर को जारी वित्त विभाग के मितव्ययता सर्कुलर का हवाला देते हुए एक बारगी प्रस्ताव लौटा चुका है.

राजस्थान में आतंकवादी गतिविधियां रोकने के लिए ATS ने की गहलोत सरकार से यह डिमांड
एटीएस का प्रस्ताव राज्य सरकार के पास विचाराधीन चल रहा है.

विष्णु शर्मा, जयपुर: राज्य के आतंकवाद निरोधक दस्ते में संदिग्ध बदमाशों की आवाज और सोशल मीडिया संवादों का विश्लेषण करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. ऐसे में एटीएस ने डेटा एनालाइसिस करने के लिए नई प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने के लिए राज्य सरकार से उपकरण मांगे हैं. फिलहाल एटीएस का प्रस्ताव राज्य सरकार के पास विचाराधीन चल रहा है. 

प्रदेश में आतंकवादी गतिविधियां रोकने के लिए राज्य के आतंकवाद निरोधक दस्ते एटीएस को संदिग्ध व्यक्तियों की आवाज रिकॉर्ड करने, सोशल मीडिया से इनपुट जुटाने सहित कई काम करने पड़ते हैं. संदिग्धों की आवाज के नमूने और सोशल मीडिया डेटा जुटाने के बाद उनका विश्लेषण कर आरोपियों का पता लगाया जाता है. डाटा विश्लेषण के लिए प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित की जाती है. इसमें वॉयस लॉगर, सोशल मीडिया एनाइसिस और डेटा एनालाइसिस उपकरण काम में लिए जाते हैं. 

यह भी पढ़ें- राजस्थान में कोरोना स्थिति पर HC सख्त, नोटिस जारी कर सरकार से पूछा सवाल

एटीएस ने इन उपकरणों की मांग करते हुए पुलिस मुख्यालय से को प्रस्ताव भेजा. पुलिस मुख्यालय ने पुलिस विकास कोष की बैठक में इन उपकरणों की खरीद को मंजूरी दे दी. इसके बाद इसे स्वीकृति के लिए राज्य सरकार के पास भेजा गया.

मुख्य बिंदु
- गृह विभाग 3 सितंबर को जारी वित्त विभाग के मितव्ययता सर्कुलर का हवाला देते हुए एक बारगी प्रस्ताव लौटा चुका है.
- इसके बाद पुलिस मुख्यालय से फिर प्रस्ताव गृह विभाग को भेजा गया.
- एटीएस की शाखाओं द्वारा तकनीकी विश्लेषण के दौरान अत्यधिक डेटाबेस को प्रोसेस करने की आवश्यकता रहती है.
- एटीएस में डेटाबेस दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है ऐसी स्थिति में पहले से लगे प्रोसेसिंग यूनिट कार्य दक्ष नहीं रहे.
- वर्तमान में लगी प्रोसेसिंग यूनिट 2010 और 2014 से लगी होने से कार्य दक्षता पर्याप्त नहीं है.
- डीओआईटी के अनुसार 5 वर्ष से अधिक सबसे पुराने प्रोसेसिंग यूनिट तकनीकी रूप से अप्रचलित हो जाते हैं.
- एटीएस के ऑपरेशनल कार्यों को जारी रखने के लिए प्रोसेसिंग यूनिट जरूरी है.
- इनमें वॉयस लॉगर, सोशल मीडिया एनालाइसिस, डेटा एनालाइसिस पर 10 लाख 20 हजार का खर्च आएगा.