close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: पोषण अभियान में बेहतर काम करने के लिए बारां को मिला राष्ट्रीय पुरस्कार

जिले में प्रति माह दो चरणों में वृद्धि निगरानी सूचकांको के माध्यम से बच्चों के स्वास्थ्य की नियमित निगरानी एवं देखभाल की जा रही है एवं कुपोषित और अतिकुपोषित बच्चों को चिन्ह्ति कर आवश्यक चिकित्सा सेवाएं निशुल्क मुहैया कराई जा रही हैं.

राजस्थान: पोषण अभियान में बेहतर काम करने के लिए बारां को मिला राष्ट्रीय पुरस्कार
समारोह में जिला कलेक्टर इन्द्र सिंह राव को प्रशास्ति पत्र और स्मृति चिह्न से सम्मानित किया गया.

राम मेहता, बारां: महिला एवं बाल विकास मंत्रालय भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय पोषण मिशन के तहत पोषण क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य के लिए बारां जिले को राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया है. केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने नई दिल्ली के सभागार में आयोजित पुरस्कार वितरण समारोह में जिला कलेक्टर इन्द्र सिंह राव को प्रशास्ति पत्र व स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया. 

पोषण अभियान के तहत जिले में आंगनबाड़ी केन्द्रों पर सामुदायिक कार्यक्रमों के तहत गर्भावस्था परामर्श दिवस, अन्नप्राशन, सुपोषण दिवस, जनस्वास्थ्य दिवस आदि गतिविधियों का आयोजन किया जा रहा है एवं लाभार्थियों को उत्तम स्वास्थ्य की सलाह दी जा रही है. जिले में प्रति माह दो चरणों में वृद्धि निगरानी सूचकांको के माध्यम से बच्चों के स्वास्थ्य की नियमित निगरानी एवं देखभाल की जा रही है एवं कुपोषित और अतिकुपोषित बच्चों को चिन्ह्ति कर आवश्यक चिकित्सा सेवाएं निशुल्क मुहैया कराई जा रही है. जिले में पोषण पखवाड़ा और पोषण माह में विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से पोषण और स्वास्थ्य का संदेश देकर आमजन को जागरूक किया जा रहा है.

गौरतलब है कि पुर्व जिला कलेक्टर डा.एसपी सिंह जो कि वर्तमान में सवाई माधोपुर में जिला कलेक्टर के पद पर कार्यरत है ने बारां जिलें में 2018 में बच्चों को उचित पोषण मिले और कुपोषण मिटानें के लिए सहरानीय कार्य किए गए हैं और खुद जिला कलेक्टर डा. एसपी सिंह बारां जिले में गांव गांव में ग्राम भ्रमण कर कुपोषित बच्चों को देशी घी का हलवा खिलाने का अभियान चलाया और आंगनबाडी केन्द्रों पर बच्चों को पोषण बढाने के लिए हलवा खिलाना शुरू किया. वहीं समाजसेवी लोगों को इस अभियान से जोडें तब इसकी चर्चा देश भर में हुई. जिले के आंगनबाडी केन्द्र पर बच्चों को उचित पोषण मिलना शुरू हुआ. जिसके सकारात्मक परिणाम आए और आज जिले को राष्ट्रीय स्तर पर यह सम्मान मिल सका है.