राजस्थान : होली के बाद ही तय होगा BJP का पैनल, जारी रहेगा बायोडेटा लेने का सिलसिला

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी ने कहा कि पार्टी लोकसभा चुनाव को पूरी गंभीरता के साथ लेगी और पिछले चुनाव के नतीजों को दोहराएगी भी.

राजस्थान : होली के बाद ही तय होगा BJP का पैनल, जारी रहेगा बायोडेटा लेने का सिलसिला
सैनी ने कहा कि पार्टी होली के बाद अपने पैनल तैयार कर लेगी.

जयपुर: लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी भारतीय जनता पार्टी की राजस्थान के लिए पहली कोर कमेटी की बैठक बुधवार को हुई. तकरीबन ढाई घंटे चली बैठक में चुनाव के मुद्दों के साथ ही संगठन को दिए जाने वाले काम, नेताओं के दौरों, चुनाव के लिए पैसों के इंतजाम और प्रत्याशियों के पैनल तय करने के लिए शुरूआती चर्चा हुई. बैठक के बाद प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी ने कहा कि पार्टी लोकसभा चुनाव को पूरी गंभीरता के साथ लेगी और पिछले चुनाव के नतीजों को दोहराएगी भी. सैनी ने कहा कि पार्टी होली के बाद अपने पैनल तैयार कर लेगी.

बीजेपी लोकसबा चुनाव को लेकर आश्वस्त दिख रही है. हालांकि पार्टी ने अभी चुनाव के लिए पहली तैयारी बैठक ही की है लेकिन प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी का दावा है कि उनकी पार्टी सभी 25 सीट पर जीत दर्ज करेगी. लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी कोर कमेटी की पहली बैठक के बाद सैनी ने कहा कि पार्टी में टिकिट के दावेदारों की लंबी कतार है और यह लगातार बढ़ती जा रही है. सैनी ने कहा कि होली के बाद ही पार्टी प्रत्यशियों का पैनल तय करके केंद्र को भेजेगी और तब तक पार्टी टिकिट के दावेदार कार्यकर्ताओं का बायोडेटा लेना भी जारी रखेगी.  

सैनी ने कहा कि पार्टी लगातार गम्भीर उम्मीदवारों पर मंथन कर रही है. उधर, लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की तैयारियों को लेकर सैनी बोले कि कांग्रेस तैयारी और नतीजों में बीजेपी से आगे नहीं जा सकती. उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव हारने के तत्काल बाद से ही बीजेपी ने लोकसभा चुनाव की तैयारी शुरू कर दी थी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस जो वादे करके सत्ता में आई थी. उनको सरकार में आते ही भुला दिया गया. ऐसे में लोगों के बीच कांग्रेस के खिलाफ़ माहौल दिख रहा है. 
 
चुनावी माहौल में बीजेपी को बढ़त का दावा करने के साथ ही मदनलाल सैनी ने एक बार फिर इस बात कें संकेत दिए कि उनकी पार्टी नरेन्द्र मोदी के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी. सैनी ने कहा कि देश में मोदी की छवि मर्द प्रधानमन्त्री के रूप में है और एक बार फिर जनता उन्हें ही पीएम देखना चाहती है. बीजेपी में कोर कमेटी की पहली बैठक में प्रत्याशियों के नाम पर कोई ठोस राय नहीं दिखने के बाद ऐसा लगने लगा है कि पार्टी में भी अभी प्रत्याशियों पर सहमति बनाने में अभी वक्त लगेगा.