Rajasthan Budget 2021: 24 फरवरी को पेश होगा बजट, कारोबारियों ने जताई ये उम्मीदें!

प्रदेश के उद्यमियों और कारोबारियों ने भावी बजट को लेकर अपने सुझाव दिए हैं. इनमें कोरोना संक्रमण (Covid Infection) को देखते हुए विभिन्न राहत देने की मांग उठाई जा रही है. 

Rajasthan Budget 2021: 24 फरवरी को पेश होगा बजट, कारोबारियों ने जताई ये उम्मीदें!
कारोबारी उद्योग जगत जीएसटी की खामियों को दूर करने के लिए भी मांग उठा रहे हैं.

aipur: 24 फरवरी को राजस्थान (Rajasthan) का बजट (Budget) पेश होगा. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) वित्तीय वर्ष 2021-22 के लिए यह बजट पेश करेंगे. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan Budget 2021: पुलिस ने रखी बड़ी मांगें, Hard Duty एलाउंस की भी है उम्मीद

प्रदेश के उद्यमियों और कारोबारियों ने भावी बजट को लेकर अपने सुझाव दिए हैं. इनमें कोरोना संक्रमण (Covid Infection) को देखते हुए विभिन्न राहत देने की मांग उठाई जा रही है. गहलोत सरकार भी उन बिंदुओं पर फैसला ले सकती है, जिनपर केंद्र से राहत नहीं मिली है. ऐसे में फेडरेशन ऑफ राजस्थान ट्रेड एन्ड इंडस्ट्री को बजट से काफी उम्मीदें हैं.

यह भी पढ़ें- Rajasthan Budget 2021: शिक्षा के क्षेत्र में उम्मीदों से बढ़कर पेश हो सकता है बजट!

सरकार से क्या है उम्मीद
पर्यटन सेक्टर (Tourism sector) में हिस्सेदारी बढ़ने की उम्मीद लगाए हुए है. टूरिज्म और ट्रेवल सेक्टर को मदद के प्रावधान की मांग की जा रही है. साथ ही सीमेंट उद्योग में ट्रेड और नॉन ट्रेड विसंगति दूर करने की मांग है. बिजली की दर को वन नेशन वन टैरिफ के आधार करने की मांग भी है. उद्योगों को बिजली बिल का फिक्स चार्ज कम करने की मांग भी की जा रही है. इसके अलावा ई-वे बिल की सीमा 1 लाख करने की मांग की जा रही है. 

यह भी पढ़ें- Rajasthan Budget 2021: किसके पूरे होंगे अरमान, उम्मीदें लगाकर बैठे युवा और किसान?

उद्योग जगत जीएसटी की खामियों को दूर करने के लिए भी मांग उठा रहे हैं. इसके अलावा एमनेस्टी स्कीम को लागू करने की मांग भी की जा रही है. चीनी पर एंट्री टैक्स में एमनेस्टी स्कीम लाने की मांग की जा रही है. मुद्रांक शुल्क में विभिन्न सेक्टर को राहत की मांग की जा रही है. उद्योग जगत स्टांप ड़यूटी में राहत की मांग भी कर रहा है. इसके अलावा मंडी शुल्क सभी जिंसो पर 0.50 प्रतिशत करने की मांग भी की जा रही है. रीको के लैंड यूज शुल्क उद्यमियों के हित में हो, डीएलसी दरों को कम करने, और पर्यटन सेक्टर को गति देने की मांग कर रहे हैं. 
इन सभी के अलावा नए रोजगार के संसाधन विकसित हो, सरकारी भर्तियां समय पर पूरी हो, महिला सुरक्षा और सायबर सिक्योरिटी के लिए अतिरिक्त फंड हो, किसान और उद्यमियों को कर्ज उपलब्धता सुगम हो इसकी भी मांग की गई है.

Copy - Rama Shankar