Rajasthan: कोरोना के बीच CM गहलोत ने दी सौगात, 309 करोड़ के प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास

Rajasthan News:  मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीतापुरा, जाहोता आरओबी, बम्बाला पुलिया विस्तार प्रोजेक्ट का वर्चुअल लोकापर्ण किया. इन तीनों प्रोजेक्टों का काम 2016-17 में शुरू हुआ था. 5 साल में  बनकर तैयार हुए इन तीनों प्रोजेक्ट पर 138 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं. 

Rajasthan: कोरोना के बीच CM गहलोत ने दी सौगात, 309 करोड़ के प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास
सीएम अशोक गहलोत ने 309 करोड़ के प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास.

Jaipur: शहर की जनता को ट्रैफिक जाम और पार्किंग की समस्या से निजात दिलाने के लिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने करीब 309 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट का लोकार्पण और शिलान्यास किया. इस दौरान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार ने शहर के चौराहों पर श्रृंगार का काम किया लेकिन असली काम हमारी सरकार ने किया और संयोग रहा कि जब शहर में ROB बनें तो उस दौरान UDH मंत्री शांति धारीवाल रहे.

दरअसल, शहर के ट्रैफिक को सुगम बनाने के लिए तीन मुख्य प्रोजेक्ट सीतापुरा, जाहोता आरओबी और बम्बाला पुलिया का सपना पूरा हुआ. कोरोना संकट के बीच मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जयपुर की जनता को 5 सौगातें दी. मुख्यमंत्री गहलोत ने JDA के 3 बड़े प्रोजेक्ट का उद्घाटन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किया. इसके अलावा जेडीए के दो प्रोजेक्ट का शिलान्यास भी किया. साथ में 22 गोदाम पर महात्मा ज्योतिबा फुले की प्रतिमा का भी अनावरण किया.

91

परियोजना तीन आज के लिए और 2 भविष्य के लिए होंगी. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सीतापुरा, जाहोता आरओबी, बम्बाला पुलिया विस्तार प्रोजेक्ट का वर्चुअल लोकापर्ण किया. इन तीनों प्रोजेक्टों का काम 2016-17 में शुरू हुआ था. 5 साल में  बनकर तैयार हुए इन तीनों प्रोजेक्ट पर 138 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं. इसके अलावा मुख्यमंत्री गहलोत ने सिविल लाइन आरओबी और रामनिवास बाग पार्किंग फेज-2 का शिलान्यास भी किया. ये दोनों प्रोजेक्ट डेढ़ से दो साल में बनकर तैयार होंगे.

इंतजार हुआ खत्म, तीन रास्ते ये हमारी यात्रा को सुगम बनाएंगे, अब फाटक पर नही लगेगा जाम

सीतापुरा आरओबी लोकार्पण
कुल लागत- 75 करोड़
कुल लम्बाई- 990 मीटर

जयपुर-सवाईमाधोपुर रेलवे ट्रैक पर बने इस आरओबी की घोषणा 2015 में हुई थी. इस ROB पर ट्रैफिक शुरू होने से सीतापुरा रीको इंडस्ट्रीयल एरिया, महात्मा गांधी अस्पताल, प्रतापनगर और जगतपुरा के लिए सीधी कनेक्टिवी हो गई है. 30 मई 2016 में काम शुरू हुआ और 28 फरवरी को कंपलीट हुआ.

जाहोता आरओबी लोकार्पण
कुल लागत- 42 करोड़ 
लम्बाई-785 मीटर

जयपुर-सीकर ट्रैक पर जाहोता आरओबी के शुरू होने से जैतपुरा, रामपुरा डाबडी, कालाडेरा, जालसू और जेडीए की स्वप्न लोक, आनंद लोक की राह सुगम होगी. इससे गुजरने वाले हजारों वाहन चालकों को रेलवे फाटक पर लंबा इंतजार नही करना पड़ेगा. 19 जून 2016 से काम शुरू हुआ और 28 फरवरी को पूरा हुआ. 

बम्बाला पुलिया विस्तार लोकार्पण
कुल लागत-21.27 करोड़ 
लंबाई-134 मीटर

एनएच-11 पर स्थित बम्बाला पुलिया पर ट्रैफिक दबाव को देखते हुए इसके विस्तार की योजना बनाई गईं. इसके लोकार्पण से सांगानेर, सीतापुरा और टॉक रोड़ से गुजरने वाले वाहनों बिना जाम में फंसे निकले सकेंगे. इस प्रोजेक्ट काम 1 फरवरी 2017 में शुरू को काम शुरू हुआ और 2 मार्च को काम पूरा किया गया.

92

महात्मा ज्योतिबा फुले की प्रतिमा का अनावरण.
लागत-46.78 लाख 
वजन-1 टन
लंबाई-9‘3‘‘ फीट

महात्मा ज्योतिबा फुले की नवीन प्रतिमा का अनावरण किया गया. प्रतिमा की ऊंचाई लगभग 9‘3‘‘ फीट है एवं वजन 1050 कि.ग्रा. है, जो अष्टधातु से निर्मित की गई है. यह प्रतिमा 7 फीट के पेडेस्टल पर स्थापित की गयी है. नवीन स्थल पर चारों ओर रेलिंग, चेन-लिंक, बोलार्ड आदि लगाने, वॉक-वे का निर्माण, वृक्षारोपण आदि का कार्य किया गया है.

ये भी पढ़ें-Rajasthan: पुजारी शंभू प्रकरण में आंदोलन खत्म, सरकार से हुआ समझौता

इनका शिलान्यास
सिविल लाइन आरओबी का शिलान्यास
लागत- 75 करोड़
काम की डेडलाइन- 18 महीने

जयपुर-दिल्ली रेलवे लाइन पर स्थित सिविल लाइन फाटक शहर को दो हिस्सों में बाटता है. रेलवे ट्रैफिक के चलते यह फाटक दिनभर में 70 बार से ज्यादा बंद होता है. इस प्रोजेक्ट को 18 महीने में कंपलीट किया जाएगा.

रामनिवास बाग पार्किंग फेज-2 का शिलान्यास
लागत पार्किंग- 95 करोड़ 
क्षमता- 1300 गाड़िया

रामनिवास बाग पार्किंग फेज-2 का निर्माण 95 करोड़ रुपए लागत से करवाया जाएगा. इसकी पार्किंग क्षमता करीब 1300 चौपहिया और दुपहिया वाहनों की होगी. प्रोजेक्ट का काम 2 साल में पूरा पूरा होगा. हालांकि, राम निवास में 900 से अदिक वाहनों की पार्किंग है.

ये भी पढ़ें-Corona: CM अशोक गहलोत बोले-लॉकडाउन नहीं लगाना चाहते हैं लेकिन...

मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने संबोधन में कहा कि 'आज 309 करोड़ की लागत से परियोजनाओं का शिलान्यास और उद्घाटन किया गया है. यह सभी लोकार्पण और शिलान्यास एक से बढ़कर एक हैं. महात्मा ज्योतिबा फुले की प्रतिमा बड़ी खूबसूरत है. 20 साल पहले जब मैं मुख्यमंत्री बना था तो शहर में सिंगल लाइन सड़के थी. पूर्ववर्ती सरकार ने काम को अधूरा छोड़ा लेकिन वह काम हमने पूरा किया. भाजपा सरकार ने शहर के चौराहों को श्रंगार जरूर किया लेकिन असली काम हमारी सरकार ने किया जो जनता के देख में रहा.'

उन्होंने यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल की तारीफ करते हुए कहा कि 'जिस तरह धारीवाल जी सेंट्रल पार्क में 8 से 10 किलोमीटर प्रतिदिन घूमते हैं, उसी रफ्तार से शहर का भी विकास करते हैं. यदि ये काम नहीं होते तो यातायात का क्या हाल होता ? हर व्यक्ति जयपुर में आना पसंद करता है. हम आने वाले समय मे ट्यूरिज्म को बढ़ावा देना चाहते है.'

93

उन्होंने शिक्षा,मातृ-शिशु मृत्यु दर कम करने, शिक्षा को बढ़ावा देने, घूंघट प्रथा खत्म करने और छूआछूत खत्म करने के लिए युवाओं से जन जागृति अभियान चलाने का आह्वाहन किया. साथ मे गहलोत ने कहा कि यदि किसी स्कूल में 500 बालिकाओं के नामांकन होते है तो वहां कॉलेज बना दिया जाएगा. यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि 2018 से लेकर अब तक 1 हजार करोड़ के काम JDA की ओर से करवाये जा रहे. जयपुर शहर के विकास के नित नए प्रयास किए जा रहे हैं. रामनिवास पार्क में अब 1530 चौपहिया वाहन पार्किंग हो सकेगी. पिछली सरकार कोई ना काम छोड़कर चली जाती है और वो काम हमे करने पड़ते है. 7 ROB को अधूरा छोड़ा गया, लेकिन हमने पूरा किया. शहर में 7 चौराहों को सिंग्नल फ्री करने का काम किया जा रहा. 

वहीं, लोकार्पण और शिलान्यास के कार्यक्रम के दौरान मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने फिर से जेडीए की विजिलेंस शाखा को आड़े लेते हुए कहा कि यदि सरकारी जमीन पर कोई निर्माण हो रहा है तो उसको ध्वस्त कीजिए. लेकिन यदि कोई खुद की जमीन पर निर्माण कर रहा है और उसे जेडीए का दस्ता तोड़ने जा रहा है तो सबसे पहले जनप्रतिनिधि को विश्वास में लीजिए. उसके बाद ही आगे की कार्रवाई कीजिए. खाचरियावास ने कहा कि जयपुर विकास प्राधिकरण का काम है जयपुर का विकास करना और उसे विकास पर फोकस रखना चाहिए.

ये भी पढ़ें-भीषण गर्मी से तिलमिला उठा Rajasthan, जानिए आज क्या है आपके जिले का तापमान

बहरहाल, कोरोना के बीच रविवार का दिन जयपुर की जनता के लिए सौगात वाला रहा. विकास का फीता काटा तो कहीं नींव रखी गई. जयपुर की जनता के लिए जहां ROB बनने से रास्ता सुगम हो सकेगा और जाम से छुटकारा मिलेगा.