कृषि विधेयक को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस का हल्लाबोल, कहा- लिया एकतरफा फैसला

कृषि बिलों को लेकर आज से कांग्रेस ने देश भर में केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध शुरू कर दिया है. 

कृषि विधेयक को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ कांग्रेस का हल्लाबोल, कहा- लिया एकतरफा फैसला
इन बिलों के विरोध में कांग्रेस अब सड़क से संसद तक यह लड़ाई लड़ेगी.

जयपुर: संसद में पारित किए गए कृषि विधेयक को लेकर अब कांग्रेस (Congress) ने मोदी सरकार के खिलाफ कड़ा रुख अख्तियार कर लिया है. जयपुर में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला, छत्तीसगढ़ के मंत्री टीएस सिंह देव और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कांग्रेस प्रेस कांग्रेस करके केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है. 

कांग्रेस नेताओं ने आरोप लगाया कि किसान विरोधी इस बिल को पास करने के दौरान संसद में किसान और संविधान का गला घोट दिया है. इन बिलों के विरोध में कांग्रेस अब सड़क से संसद तक यह लड़ाई लड़ेगी.

यह भी पढ़ें- Panchayat Election 2020: जयपुर की 90 ग्राम पंचायतों की तस्वीर साफ, 596 प्रत्याशी

कृषि बिलों को लेकर आज से कांग्रेस ने देश भर में केंद्र सरकार के खिलाफ विरोध शुरू कर दिया है. प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में कांग्रेस की प्रेस वार्ता में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला. अशोक गहलोत ने इन बिलों को किसान विरोधी और मंडी व्यवस्था को खत्म करने वाला बिल करार दिया. अशोक गहलोत ने कहा देश में एनडीए सरकार एकतरफा फैसले ले रही है. इससे पहले नोटबंदी और जीएसटी का हश्र पूरा देश देख चुका है. यही स्थिति कृषि बिलों को लेकर है. सदन में जो कुछ हुआ वह सबके सामने हैं. किसी से भी कोई चर्चा नहीं की गई है, न डिवीजन हुआ यानी एक तरीके से केंद्र सरकार अपनी मनमानी के जरिए देश के किसान को बर्बाद करने पर तुली हुई है. गहलोत ने कहा कि राज्य में जिन कृषि मंडियों को बनने में 40 साल लग गए. उन्हें एक झटके में उखाड़ फेकने का निर्णय है. 

कांग्रेस की मीडिया सेल के हेड और महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने केंद्र सरकार के इस कदम को किसानों का गला घोंटकर हरित क्रांति के मकसद को ही पूरी तरह बर्बाद कर देने वाला बताया है. रणदीप सुरजेवाला ने तंज कसते हुए कहा कि देश में कोरोना, सीमा पर चीन और खेत में मोदी जी ने हल्ला बोल रखा है.  सुरजेवाला ने कहा की देश में कोरोना, सीमा पर चीन और खेत में मोदी जी ने हमला बोल रखा है. रणदीप सुरजेवाला ने कहा कांग्रेस के लिए अब यह कौरव और पांडवों के बीच धर्मयुद्ध बन गया है और कौरव बनी मोदी सरकार को किसानों की 7 पीढ़ियां भी अब माफ़ नहीं करेगी. 

सुरजेवाला ने केंद्र सरकार ने MSP को आगे भी बरक़रार रखने और मंदी प्रणाली को ख़त्म नहीं करने का प्रावधान इस बिल में शामिल करने की अपील की. कहा कि कभी खेती नहीं करने वाले सत्ता में बैठे लोग आज किसानों को खेती का पाठ पढ़ा रहे हैं. आरएसएस द्वारा भी MSP को लेकर किसानों को आश्वत किये जाने की मांग के एक सवाल पर सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी से जुड़े किसान संघटन और आरएसएस के लोग देखे वाला बयान दे रहे हैं. यदि वे किसानों के सच्चे हितेषी हैं तो उन्हें सड़कों पर आकर केंद्र के खिलाफ प्रदर्शन करना चाहिए.

बहरहाल, कांग्रेस 2 अक्तूबर से 31 अक्तूबर तक इस बिल के विरोध में किसानों के हस्ताक्षर कराके राष्ट्रपति को सौंपने जैसे कई बड़े आन्दोंलनों की तैयारी में है, और बिहार चुनावों के वक़्त हाथ लगे इस मुद्दे पर कांग्रेस के रुख को देखने के बाद साफ़ है कि शायद कांग्रेस भी इस बार मोदी सरकार को घेरने में कोई कसर बाकी नहीं रखेगी.