close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: कांग्रेस MLA ने अधिकारियों पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप, की जांच की मांग

राजस्थान कांग्रेस के विधायक ने अधिकारियों पर विधायक कोष से 30 लाख के क्रिकेट किट खरीद कर फर्जी तरीके से बांटने के मामले की जांच की मांग की है.

राजस्थान: कांग्रेस MLA ने अधिकारियों पर लगाया भ्रष्टाचार का आरोप, की जांच की मांग
कांग्रेस विधायक भरत सिंह. (फोटो साभार: पीसीसी, कांग्रेस)

जयपुर: पूर्व मंत्री और सांगोद से कांग्रेस विधायक भरत सिंह ने मुख्यमंत्री कार्यालय में पदस्थापित एक अधिकारी पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं. उन्होंने एक अधिकारी पर विधायक कोष से 30 लाख के क्रिकेट किट खरीद कर फर्जी तरीके से बांटने के मामले की जांच की मांग की है.

इस दौरान उन्होंने पंचायती राज संस्थाओं में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए. सिंह ने कोटा जिला परिषद सहित सभी संस्थाओं में भ्रष्टाचार का बोलबाला बताते हुए कहा कि विधायक कोष से 30 लाख के क्रिकेट किट खरीद कर फर्जी तरीके से बांटा गया है. जिसकी जांच होनी चाहिए.

अधिकारी के नियुक्ति पर उठाए सवाल
सिंह ने पंचायती राज संस्थान के महानिदेशक अशोक सिंघवी की नियुक्ति पर भी सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि क्या अब वो फरारी काटने के तरीके सिखाएंगे.

लाइव टीवी देखें-:

उन्होंने जुगल किशोर मीणा के कार्यकाल में कोटा जिला परिषद में सीईओ रहते सोलर एलईडी खरीद घोटाले की शिकायत की थी. उनकी शिकायत पर पंचायतराज विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजेश्वरी सिंह ने जांच भी शुरू करवा दी. 

भ्रष्टाचार का मढ़ा आरोप
इस मामले में उन्होंने कहा कि तत्कालीन सीईओ मीणा पर जांच शुरू करने का स्वागत किया, लेकिन पंचायतीराज संस्थाओं में भ्रष्टाचार की जड़े गहराई तक होने की बात कही. विधायक ने इस मामले की क्रिकेट किट खरीद में भ्रष्टाचार होने के आरोप लगाए और जांच की मांग की. 

एसी कमरों से नहीं निकलते अफसर
सिंह ने कहा कि वो खुद भी मंत्री रहे हैं और फील्ड में जाकर काम देखते थे, लेकिन आजकल अफसर एसी कमरों से बाहर नहीं निकलते हैं. 

पूछा क्या अधिकारी फरारी होने की देंगे शिक्षा
विधायक भरत सिंह ने पंचायती राज विभाग के महानिदेशक वरिष्ठ आईएएस अशोक सिंघवी पर भी सवाल उठाए. उन्होंने कहा कि पंचायतीराज संस्थान सबसे बड़ा ट्रेनिंग संस्थान है, लेकिन ऐसे अधिकारी को लगा दिया जो खुद भ्रष्ट है. उन्होंने कहा कि क्या इनसे (अधिकारी से) फरारी कैसे काटी जाए और जेल कैसे जाते हैं, उसकी ट्रेनिग दिलावेगा पंचायती राज विभाग?