राजस्थान:लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी में गुटबाजी बढ़ा सकती है कांग्रेस की मुश्किलें

कांग्रेस के जिला अध्यक्ष समरजीत सिंह ने गुटबाजी का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसी स्थिति में मैं काम नहीं कर पाऊगां

राजस्थान:लोकसभा चुनाव से पहले पार्टी में गुटबाजी बढ़ा सकती है कांग्रेस की मुश्किलें
जालौर सिरोही लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस 8 विधानसभा सीटों पर एकमात्र सीट साचौर जीत पाई थी

जालोर: कांग्रेस पार्टी विधानसभा चुनाव में भले ही जीत गई हो लेकिन लोकसभा चुनाव को पर्टी में गुटबाजी शुरू हो चुकी है. इसी कड़ी में कांग्रेस पार्टी में कांग्रेस के जिला अध्यक्ष समरजीत सिंह ने इस्तीफे की पेशकश कर दी. खबर के मुताबिक कांग्रेस के बूथ स्तरीय शक्ति प्रशिक्षण में गुटबाजी सामने आई. कांग्रेस के जिला अध्यक्ष ने कांग्रेस में चल रही गुटबाजी से परेशान होकर कहा कि वह अब आम कार्यकर्ता की हैसियत से किसी भी बैठक में शामिल होंगे.

कांग्रेस के जिला अध्यक्ष समरजीत सिंह ने गुटबाजी का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसी स्थिति में मैं काम नहीं कर पाऊगां. इस गुटबाजी के कारण विधानसभा चुनाव में कांग्रस को प्रदेश की कई सीटों पर हार का मुंह देखना पड़ा. जालौर सिरोही लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस 8 विधानसभा सीटों पर एकमात्र सीट साचौर जीत पाई . ऐसे में बड़े सवाल उठते हैं कि क्या कांग्रेस लोकसभा चुनाव को फतह हासिल कर पाएगी. 

वहीं प्रदेश के मुखिया अशोक गहलोत अपने बेटे की राजनीति की शुरुआत जालोर लोकसभा क्षेत्र से करना चाहते हैं. ऐसे में फिर सवाल खड़े होते हैं कि जहां मुख्यमंत्री के बेटे की सीट पर लड़ने के कयास लगाए जा रहे हैं वहां पर कांग्रेस के दूसरे नेताओं को मौका दिया जाएगा? यही कारण है कि कांग्रेस जालोर में दो गुटों में बंटती दिखाई दे रही है.

ऐसे में प्रदेश के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का अपने बेटे को जालौर सिरोही लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ाना थोड़ा मुश्किल नजर आ रहा है. वहीं दूसरी ओर कांग्रेस की फूट का फायदा बीजेपी को मिलता हुआ दिखाई पड़ रहा है. ऐसे में बीजेपी के नेताओं के हौसले बुलंद हैं. वहीं आम लोगों में भी चर्चा का माहौल बना हुआ है कांग्रेस में अभी स्थिति ठीक नहीं है ऐसे में एक बार फिर बीजेपी को जिताने की बातें जनता के बीच से निकल कर सामने आ रही है.

हालांकि यह बात अलग है कांग्रेस के नेता दो गुटों वाली जब बात आती है उस बात को महज मात्र एक परिवार के झगड़े की बात कहकर टालते हुए दिखाई देते हैं, लेकिन कांग्रेस लोकसभा में प्रदेश के 25 लोकसभा सीटों पर कैसे जीत हांसिल कर पाएगी यह पार्टी के लिए बड़ी चुनौती है. वहीं कांग्रेस के जिलाध्यक्ष डॉक्टर समरजीत सिंह ने अपने भाषण में साफ शब्दों में कहा है कि मैं आज के बाद आम कार्यक्रता के तौर पर पार्टी के किसी भी बैठक में आऊंगा.