close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: अपहरण मामले में गिरफ्तार बदमाशों ने पूछताछ में किए चौंकाने वाले खुलासे

डीसीपी वेस्ट विकास शर्मा ने बताया कि अपहरणकर्ता अगवा किए गए लोगों से मारपीट करने से घायल होने वाले बंधकों का उपचार भी खुद ही किया करते थे.

राजस्थान: अपहरण मामले में गिरफ्तार बदमाशों ने पूछताछ में किए चौंकाने वाले खुलासे
रिमांड के दौरान पूछताछ में बदमाशों ने कई अहम राज उगले है.

जयपुर: राजधानी जयपुर के भांकरोटा इलाके में हरियाणा की अपहरण और वसूली गैंग के 7 बदमाशों को पुलिस ने रिमांड पर ले लिया है. उनसे पूछताछ जारी है. वहीं रिमांड के दौरान पूछताछ में बदमाशों ने कई अहम राज उगले है. डीसीपी वेस्ट विकास शर्मा ने बताया कि अपहरणकर्ता अगवा किए गए लोगों से मारपीट करने से घायल होने वाले बंधकों का उपचार भी खुद ही किया करते थे. पुलिस ने बदमाशों के फ्लेट से ड्रेसिंग का सामान, इंजेक्शन, पेन किलर बरामद की है. हरियाणा के महेंद्रगढ़ निवासी गैंग का सरगना विकास उर्फ विक्की अभी फरार है. अगवा किए युवकों को मुक्त कराने के बाद उनसे पुलिस ने जानकारी ली तो सामने आया कि उन्हें नशे के इंजेक्शन लगाये जाते थे. प्लास से नाखून उखाड़ते थे, कान मरोड़ते थे. 

वहीं पीड़ितो ने पुलिस को बताया कि मास्टरमाइंड विक्की ने उन्हें कभी मारापीटा तो नहीं, लेकिन वह कहता था कि पैसे नहीं मिले तो किडनी निकलवाकर बेच दूंगा. जांच में सामने आया कि बदमाश लूक्का टॉर्चर स्पेशलिस्ट था. पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने अलग-अलग नाम से कई आईडी बना रखी हैं पुलिस की जांच में सामने आया कि पीड़ित लुतफान शेख बीसीए का छात्र है जिसे बिटकॉइन का झांसा देकर जयपुर बुलाया गया था. 20 जून को इसके लिए गिरोह के सरगना विक्की ने ही फलाइट के टिकट बुक कराये थे. 

साथ ही आंध्रप्रदेश के चित्तुर के पी. मंगल ने पुलिस को बताया कि मैं लुतफान के कहने पर डोनेशन लेने के लिए 7 जुलाई को जयपुर आया था. यहां एक ढाबे पर गया जहां से 4 बदमाश पिस्तौल दिखाकर फ्लैट में ले गये. वहां लुतफान पहले से लहूलुहान हाल में था. उन लोगों ने मोबाइल, एटीएम व पैसे छीन लिए. फिरौती के पैसों के लिए रोजाना हमें पीटते, साफ-सफाई कराते. 2 बार नशे के इंजेक्शन लगाए. गुरुवार सुबह हाथ में गोली भी मार दी थी. 

अगवा किये तीसरे युवक मोहम्मद शहजाद ने पुलिस को बताया कि वो लुतफान का फेसबुक फ्रेंड हूं. पहले कई बार मिल चुका है. लुतफान ने जयपुर बुलाया था. जयपुर पहुंचा तो लुतफान के नंबर से कॉल आया कि अजमेर रोड 200 फीट बाइपास पर आकर फोन कर लेना. वहां पहुंचा तो स्कॉर्पियों सवार 3 लोगों ने लुतफान का नाम लेकर मुझे गाड़ी में बैठा लिया और फ्लैट में ले आए. वहां लुतफान व एक अन्य व्यक्ति घायल पड़े थे. बदमाशों ने मेरे 10 हजार रु. ले लिए, खाते से 70 हजार निकाले. बदमाश उन्हे जान से मारने की धमकियां भी दे रहे थे. बदमाशों के खिलाफ जयपुर, हरियाणा, गुड़गांव में भी इसी तरह के मुकदमे दर्ज है. 

गौरललब है शहर की भांकरोटा व बगरु पुलिस ने 14 जुलाई को सयुक्त अभियान चलाकर ओमेक्स सिटी स्थित शंकरा रेजीडेंसी से एक अपहरण गिरोह में शामिल 7 बदमाशों को पकड़ा था. साथ ही उनके पास से अगवा किए गये 3 युवकों को मुक्त करवाया था. इन्होने तीनों युवकों को शंकरा रेजीडेंसी के फ्लैट नंबर 906 में रखा था. गिरफ्तार आरोपियों से पुलिस ने बीएमडब्ल्यू जैसी महंगी गाड़ी के अलावा 3 कारें और पिस्तोल भी बरामद की थी. 

बदमाशों में लोकेन्द्र सिंह जयपुर के सोडाला का रहने वाला है, जबकि अन्य 6 बदमाश भवानी सिंह, दीपक रोहिला, राहुल यादव, पवन, जितेंद्र और अनुपम हरियाणा के रहने वाले है. आरोपियों से पुछताछ में सामने आया कि गिरोह के लोग जयपुर में पिछले 6 महिनों से अलग अलग जगह पर रह रहे थे. कई बार बदमाश होटलों में रहे जहां भी कई बार अगवा किये लोगों को बंधक बनाकर रखा और अपने अकाउंट में ट्रांजेक्शन करवाया. 

पुलिस का मानना है कि बदमाशों ने जयपुर, मुंबई, हरियाणा और दिल्ली में इस तरह से वसूली करने की अब तक करीब 40 से ज्यादा वारदात की हैं. इंटरोगेशन में बदमाशों ने बताया कि मुंबई में रहकर बिटकॉइन का व्यवसाय करने वाले व्यापारियों को लालच देकर जयपुर बुलाते थे. जयपुर में बंधक बनाकर उनके रिश्तेदारों से अपने अकाउंट में ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करवा लेते. इसी तरह से जयपुर के लोगों की रैकी कर उनको मुंबई और दिल्ली बुलाते. जहां पर इसी तरह से बंधक बना मोटी रकम ले लेते. जयपुर में पिछले 6 महिनों में गिरोह ने करीब 10 वारदाते कर उनके रिस्तदारों से फिरौती वसूली.

पुलिस की जांच में सामने आया कि अपहरणकर्ताओं ने इसी महीने शंकरा रेजिडेंसी में फ्लैट नंबर 906 को ब्रोकर केशव गुर्जर के जरिये मकान मालिक मेजर नीलम यादव से किराये पर लिया था. मेजर को गैंग ने बताया कि उन्हें जयपुर के एक निजी कॉलेज में एडमिशन लेकर पढ़ाई करनी है. बदमाशों ने फ्लैट किराये पर लेते ही कुछ दिनों बाद ही युवकों को लालच देकर यहां बुला लिया. फिरौती की राशी मिल जाने के बाद बदमाश बंधक लोगों को जंगल में ले जाकर धमकी देकर छोड़ते कि अगर किसी को कहा या पुलिस में रिपेार्ट दी तो जान से मार देंगे. इसके बाद आरोपी अपना मोबाइल, सिम व अन्य सभी डिवाइस बदल लेते। ताकि पुलिस को कोई सबूत नहीं मिल सके. 

पुलिस की जांच में सामने आया कि मुख्य आरोपी विकास उर्फ विक्की शातिर बदमाश है. पुलिस उस तक नहीं पहुंच सके इसके लिए उसने शनिवार को कमला नेहरू नगर स्थित एक वर्कशॉप से खुद की काले रंग की बीएमडब्ल्यू कार का रंग लाल करवा लिया था. पुलिस ने बदमाशों के फ्लेट से 72 लाख के गेमिंग नोट भी बरामद किये है जो कि एक बदमाश के बेटे की बर्थडे पार्टी के लिए लाये गये थे. 

बहरहाल पुलिस ने मामले को उजागर कर दिया लेकिन इस गिरोह का मास्टरमाइंड विकास उर्फ विक्की फरार हो गया. जिसकी पुलिस पुछताछ कर रही है. वहीं पुलिस से कुछ ऐसे लोगों ने संपर्क करना भी शुरु कर दिया है. जिनसे ये अपहरणकर्ता फिरौती वसुल कर चुके है. फिलहाल पुलिस के सामने आगरा व कोटा के मामले सामने आये है जहां के युवकों का भी इन बदमाशों ने अपहरण किया था. कोटा के युवक से तो 4 करोड़ की फिरौती लेने की बात सामने आ रही है. जयपुर पुलिस की बदमाशों से पूछताछ जारी है जिसमे कई और खुलासे हो सकते है.