बैंक फ्रॉड केस में ED राजस्थान ईकाई का बड़ा एक्शन, 5.11 करोड़ की संपत्ति अटैच

कारोबारी शांति कुमार चोरडिया, उमराव मल चोरड़िया और नयनतारा चोरड़िया पर बैंक फ्रॉड केस में यह एक्शन हुआ है. अब सामने आए तथ्यों के आधार पर ईडी आने वाले दिनों में और कड़ी कार्रवाई कर सकता है.

बैंक फ्रॉड केस में ED राजस्थान ईकाई का बड़ा एक्शन, 5.11 करोड़ की संपत्ति अटैच
ईडी आने वाले दिनों में और कड़ी कार्रवाई कर सकती है.

जयपुर: प्रवर्तन निदेशालय (Emigration directorate) ने बैंक फ्रॉड केस (Bank Fraud Case) में बड़ा एक्शन लेते हुए चोरड़िया समूह की चल अचल संपत्ति अटैच की है. ईडी की राजस्थान ईकाई ने पांच करोड़ ग्यारह लाख रुपये की संपत्ति अटैच की है. यह संपत्ति जयपुर और मुंबई में स्थित है. 

साथ ही 1 करोड़ 31 लाख रुपये की फिक्स डिपोजिट भी अटैच की गई है. कारोबारी शांति कुमार चोरडिया, उमराव मल चोरड़िया और नयनतारा चोरड़िया पर बैंक फ्रॉड केस में यह एक्शन हुआ है. अब सामने आए तथ्यों के आधार पर ईडी आने वाले दिनों में और कड़ी कार्रवाई कर सकता है.

मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत की गई कार्रवाई
प्रवर्तन निदेशालय की राजस्थान ईकाई ने कारोबारी समूह पर बड़ा एक्शन लेते हुए उनकी पांच करोड़ 11 लाख रुपये की संपत्ति अटैच की है. ईडी की ओर से जारी जांच में सामने आया कि विपुल जेम्स प्राइवेट लिमिटेड, विपुल जैम्स और केवी एक्सपोर्ट फर्म कीमती रंगीन रत्नों के निर्यात कारोबार करती हैं, इनकी ओर से कच्चे माल की खरीद में पैकिंग क्रेडिट लिया गया.

फर्जी दस्तावेजों से लोन
जांच में सामने आया की इसके लिए पोस्ट शिपमेंट डिमांड लोन के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा में 29 करोड़ रुपये कर्ज के लिए वर्ष 2006-07 में दस्तावेज पेश किए गए. इसमें जो दस्तावेज दिए गए उनका उपयोग बिजनेस के लिए नहीं हुआ. इसमें से कुछ राशि जेम्स इंटरनेशल के लिए खोले गए नए करंट अकाउंट में ट्रांसफर किया गया. इसके साथ ही एसबीबीजे बैंक से भी लेनदेन सामने आया, यह राशि भी जिस मकसद से ली गई थी. उसमें इसका उपयेाग नहीं हुआ.

कड़ा होगा एक्शन
इस मामले में पहले ही 1 करोड़ रुपये कीमत के श्याम नगर स्थित बंगले को अटैच किया जा चुका है. इन सभी मामलों पर मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत जांच जारी हैं. आने वाले दिनों में ईडी इस मामले में ओर कड़ा एक्शने ले सकती है.