close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: चुनाव आयोग 1 सितंबर से करेगा मतदाता सत्यापन कार्यक्रम की शुरुआत

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनन्द कुमार ने आम नागरिकों और मतदाताओं से अपील की है कि वे इस अभियान के दौरान मतदाता सूची में अपनी प्रविष्टियों का ऑनलाइन सत्यापन कराएं.

राजस्थान: चुनाव आयोग 1 सितंबर से करेगा मतदाता सत्यापन कार्यक्रम की शुरुआत
यह कार्यक्रम 1 सितम्बर से 15 अक्टूबर, 2019 के तक चलाया जायेगा.

जयपुर: प्रदेश के सभी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की मतदाता सूचियों में पंजीकृत मतदाताओं की प्रविष्टियों के सत्यापन के लिए 1 सितंबर से अभियान की शुरूआत की जाएगी. राज्य स्तर पर शासन सचिवालय के समिति सुबह 11 बजे मीडिया के प्रतिनिधियों की उपस्थिति में इस कार्यक्रम की शुरुआत की जाएगी. 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनन्द कुमार ने आम नागरिकों और मतदाताओं से अपील की है कि वे इस अभियान के दौरान मतदाता सूची में अपनी प्रविष्टियों का ऑनलाइन सत्यापन कराएं, ताकि विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र की त्रुटि रहित मतदाता सूची तैयार की जा सके.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनन्द कुमार ने बताया कि सम्पूर्ण राज्य में इस कार्यक्रम की शुरुआत सुबह 11 बजे जिला मुख्यालय पर जिला निर्वाचन अधिकारियों (कलक्टर्स), विधानसभा क्षेत्र मुख्यालय पर निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी एवं बूथ स्तर पर बूथ लेवल अधिकारी द्वारा की जाएगी. 

कुमार ने बताया कि यह कार्यक्रम 1 सितम्बर से 15 अक्टूबर, 2019 के तक चलाया जायेगा. उन्होंने मतदाताओं से अपील की है कि वह आयोग द्वारा उपलब्ध करवाई गई सुविधाएं जैसे एनवीएसपी पोर्टल, वोटर हैल्पलाइन मोबाइल एप के माध्यम से अपनी प्रविष्टियों का सत्यापन करें उन्होंने कहा कि यदि प्रविष्टियों में किसी प्रकार का संशोधन आवश्यक हो तो आयोग द्वारा अधिकृत दस्तावेज यथा भारतीय पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, आधार कार्ड, बैंक पास बुक, किसान प्रमाण पत्र, सरकारी या अर्द्ध सरकारी कर्मचारियों को जारी किए गए पहचान पत्र एवं राशन कार्ड में से एक दस्तावेज ऑनलाइन अपलोड कर करवा सकते हैं 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि मतदाता द्वारा सत्यापन का काम वोटर हैल्प लाइन मोबाइल एप के माध्यम से किया जा सकता है यह एप गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है. उन्होंने बताया कि जिन मतदाताओें के पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है या एन्ड्रॉयड मोबाइल फोन नहीं है वह उपरोक्त दस्तावेजों में से एक दस्तावेज के साथ उनके क्षेत्र में स्थापित कॉमन सर्विस सेन्टर पर जाकर अपनी प्रविष्टियों का सत्यापन कर सकते हैं. आवश्यकता होने पर ऑनलाइन आवेदन पत्र भर कर प्रस्तुत कर सकते हैं. इसके साथ-साथ राज्य के सभी निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी कार्यालयों में वोटर फेसिलिटेशन सेन्टर भी खोले गए हैं, जिन पर भी सत्यापन का कार्य करवाया जा सकता है. 

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि विशेष योग्य जन के लिए सत्यापन की सुविधा कॉल सेन्टर के माध्यम से की गई है. वह 1950 पर फेान कर प्रविष्टियों का सत्यापन करवा सकते हैं. उन्होंने बताया कि अभियान की अवधि में बूथ लेवल अधिकारी घर-घर जाकर मतदाता की प्रविष्टियों का सत्यापन करेंगे. इस दौरान यदि परिवार के किसी पात्र व्यक्ति का मतदाता सूची में पंजीकरण नहीं करवाया है तो मौके पर ही आवेदन पत्र प्राप्त करेंगे.