close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान चुनाव: BJP ने 38 विधायकों का काटा पत्ता, नए चेहरों पर लगाया दांव

केंद्र और राज्य के बीच मंत्रणाओं के लंबे दौर के बाद आई लिस्ट को देख कर पहली नजर में यही लग रहा है कि लिस्ट में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का पलड़ा ही ज्यादा भारी रहा है.

राजस्थान चुनाव: BJP ने 38 विधायकों का काटा पत्ता, नए चेहरों पर लगाया दांव
पहली लिस्ट में पार्टी ने पिछली बार के प्रत्याशियों के मुकाबले 38 सीटों पर नए लोगो को टिकट दिए हैं.

शशि मोहन/जयपुर: बीजेपी ने चुनाव की अधिसूचना जारी होने से तकरीबन 12 घंटे पहले अपनी पहली सूची जारी कर दी. रविवार देर रात जारी जारी गई लिस्ट में 131 प्रत्याशियों के नाम है, जिनमें से ज्यादातर चेहरे मौजूदा विधायकों के ही हैं. हालांकि पार्टी ने चेहरे बदलने की कोशिश तो की है, लेकिन इस बदलाव में भी ज्यादातर नए चेहरे पिछली बार बीजेपी के प्रत्याशी रहे नेताओं के परिवार से ही आए हैं. केंद्र और राज्य के बीच मंत्रणाओं के लंबे दौर के बाद आई लिस्ट को देख कर पहली नजर में यही लग रहा है कि लिस्ट में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का पलड़ा ही ज्यादा भारी रहा है.

बीजेपी ने विधानसभा चुनाव के लिए अपने प्रत्याशियों की पहली लिस्ट घोषित करके कांग्रेस के मुकाबले बढ़त बनाने की कोशिश की है. बीजेपी की चुनाव समिति ने 131 प्रत्याशियों के नाम पर मुहर लगा दी. पार्टी ने इस लिस्ट में कुछ नए चेहरे भी शामिल किए हैं, तो कुछ मौजूदा विधायकों की सीट भी बदली है. साल 2013 के विधानसभा चुनाव से तुलना की जाए तो पहली लिस्ट में पार्टी ने पिछली बार के प्रत्याशियों के मुकाबले 38 सीटों पर नए लोगो को टिकट दिए हैं.

जिन सीटों पर bjp ने नाम बदले हैं उनमें सादुल शहर- गुरवीर सिंह बराड़, सूरतगढ- रामप्रताप कासनियां, पीलीबंगा- धर्मेन्द्र मोची, कोलायत- पूनम कंवर, सादुलपुर- रामसिंह कस्वा, पिलानी- कैलाश मेघवाल, सूरजगढ़- सुभाष पूनिया, मंडावा- नरेंद्र कुमार, खेतड़ी- धर्मपाल गुर्जर, मुंडावर- मंजीत चौधरी, अलवर शहर- संजय शर्मा, डीग-कुम्हेर- डॉक्टर शैलेश चौधरी, वैर- रामस्वरूप कोली, बयाना- ऋतु बनावत, सपोटरा- गोलमा देवी, लालसोट- रामविलास मीना, बामनवास- राजेन्द्र मीना, किशनगढ़- विकास चौधरी, नसीराबाद- रामस्वरूप लाम्बा का नाम शामिल हैं. 

साथ ही नागौर- मोहन राम चौधरी, मेड़ता- भंवराराम रिठारिया, जैतारण- अविनाश गहलोत, सोजत- शोभा चौहान, जोधपुर- अतुल भंसाली, बाड़मेर- कर्नल सोनाराम, आहोर- छगन सिंह राजपुरोहित, जालोर- जोगेश्वर गर्ग, सांचोर- दानाराम चौधरी, खेरवाड़ा- शंकरलाल खराड़ी, मावली- धर्मनरायण जोशी, डूंगरपुर- माधवलाल, सागवाड़ा- शंकरलाल घाटोल - हरेंद्र निनामा, बड़ीसादड़ी- ललित ओस्तवाल, प्रतापगढ़- हेमन्त मीना, सहाड़ा- रूपलाल जाट, रामगंज मंडी- मदन दिलावर, मनोहर थाना- गोविंद रानीपुरिया के नाम सामने आए हैं. 

जानकारों की मानें तो पहली लिस्ट में पूरी तरह मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की छाप दिख रही है. यह बात सही है कि इस लिस्ट में काटा जाने वाला सबसे बड़ा नाम पीएचइडी मंत्री और जैतारण के विधायक सुरेंद्र गोयल का है, लेकिन फिर भी ज्यादातर नाम वसुंधरा राजे की पसंद के दिख रहे हैं. हालांकि मंत्री नंदलाल मीणा और एससी आयोग के अध्यक्ष का का सुंदर लाल का टिकट भी कटा है लेकिन उनकी जगह परिवार में उनके पुत्र को बीजेपी ने प्रत्याशी बनाया है.

बीजेपी नेता जेपी नड्डा ने दिल्ली में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके लिस्ट जारी की. हालांकि लिस्ट जारी करते वक्त उन्होंने यह भी दावा किया कि पार्टी ने इस लिस्ट में समाज के सभी वर्गों को प्रतिनिधित्व दिया है, लेकिन पार्टी की पहली लिस्ट में एक भी मुस्लिम चेहरा नहीं दिखा. नागौर से मौजूदा विधायक हबीबुर्रहमान की टिकट काटकर मोहनराम चौधरी को प्रत्याशी बनाया गया. तो उधर डीडवाना से यूनुस खान का नाम पहली लिस्ट में नहीं होना भी बीजेपी कार्यकर्ताओं के बीच चर्चा का विषय बना रहा.

बीजेपी में पिछले दिनों आमतौर पर इस बात की चर्चा देखी गई की पार्टी को एंटी-इनकंबेंसी से पार पाना है तो कई चेहरे बदलने होंगे. बीच-बीच में पार्टी नेताओं ने ऐसे संकेत भी दिए कि 60 से 70 फ़ीसदी चेहरे बदले जा सकते हैं. लेकिन पहली लिस्ट में ऐसा कतई नहीं दिखा. कुछ चेहरे बदले तो गए, लेकिन उनका टिकट काटकर मौजूदा विधायक के परिवार के ही किसी सदस्य को टिकट दे दिया गया. कांग्रेस के मुकाबले अपने प्रत्याशियों की लिस्ट पहले जारी करके बीजेपी ने बढ़त बनाने की कोशिश की है, लेकिन कांग्रेस भी चुनावी फायदा लेने के लिए अब इस लिस्ट का विश्लेषण करके अपने प्रत्याशियों को तय करने की कोशिश करेगी.