सोना तस्करी मामले में अब तक की बड़ी कार्रवाई, 26 किलो सोने के साथ मिला...

राजस्थान प्रवर्तन निदेशालय को गोल्ड स्मगलिंग मामले में बड़ी सफलता मिली है.

सोना तस्करी मामले में अब तक की बड़ी कार्रवाई, 26 किलो सोने के साथ मिला...
जयपुर, चेन्नई और कोलकाता में मारे गए छापों में करीब 20 करोड़ रुपए की ज्वेलरी और नकदी जब्त की गई है.

जयपुर: राजस्थान प्रवर्तन निदेशालय को गोल्ड स्मगलिंग मामले में बड़ी सफलता मिली है. जयपुर, चेन्नई और कलकत्ता में छापेमारी कर तस्करी का सोना खरीदने वाले बड़े चेहरो को बेनकाब किया है. जयपुर के तीन बड़े ज्वैलरी समुहों से तस्करी का सोना, चांदी, विदेशी और स्थानीय मुद्रा ज़ब्त की गई है. कुल 20 करोड़ की सम्प्पति जब्त की गई है. इसमें 26.97 किलो सोना और गोल्ड की ज्वेलरी, 12.22 किलो चांदी और 3.75 करोड़ की विदेशी और भारतीय मुद्रा जब्त की गई. छापेमारी में बरामद इलेक्ट्रॉनिक और डिजिटल उपकरणों से कई राज खुलने की उम्मीद है. 

राजस्थान प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ा एक्शन करते हुए गोल्ड तस्करी से जुड़े नेक्सेस का खुलासा किया है. विदेशों से तस्करी कर आ रहा सोना जिन ज्वेलर्स की ओर से खरीदा जा रहा था उन पर छापेमारी कर प्रवर्तन निदेशालय ने अहम कड़ी को ब्रेक किया है. जयपुर, चेन्नई और कोलकाता में मारे गए छापों में करीब 20 करोड़ रुपए की ज्वेलरी और नकदी जब्त की गई है. 

जयपुर में मैसेज महाराजा ज्वेलर्स के ताराचंद सोनी, भगवती ज्वेलर्स के रामगोपाल सोनी और लड़ीवाला एसोसिएट पर छापे मारकर तस्करी का सोना खरीदने वालों को बेनकाब किया है. विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 के तहत की गई कार्रवाई में भारी मात्रा में  इलेक्ट्रोनिक और डिजिटल उपकरणों को भी जब्त किया गया है. इनकी जांच में भी करोड़ों रुपए की हेराफेरी करने के सबूत सामने आने की आशंका प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारियों ने व्यक्त की है. 

वहीं, सीमा शुल्क, जीएसटी और आयकर से जुड़े कानूनों की अवहेलना की जानकारी भी सामने आई है. सोने की तस्करी के साथ फंड ट्रांसफर हवाला के जरिए किए जा रहा था. फेमा कानून के तहत हुई इस कार्रवाई में चेन्नई के हर्ष बोथरा से मिले इनपुट ने मदद की. विभाग अब तस्करी का सोना भेजने वालों तक भी पहुंचने की तैयारी में है.