राजस्थान में 6 साल बाद भी पंचायतीराज एलडीसी अभ्यर्थियों को नौकरी नहीं मिली 10 हजार अभी भी बेरोजगार

तीन सरकारें बदलने के बाद भी पंचायतीराज एलडीसी भर्ती(Panchayati Raj LDC Recruitment) में बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पाई.10 हजार से ज्यादा अभ्यर्थी 6 साल पहले भी बेरोजगार थे और आज भी.क्योकि अब तक एलडीसी भर्ती में बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पाई.

राजस्थान में 6 साल बाद भी पंचायतीराज एलडीसी अभ्यर्थियों को नौकरी नहीं मिली 10 हजार अभी भी बेरोजगार
पंचायतीराज एलडीसी भर्ती में बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पाई.

आशीष चौहान,जयपुर - तीन सरकारें बदलने के बाद भी पंचायतीराज एलडीसी भर्ती(Panchayati Raj LDC Recruitment) में बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पाई. 6 साल बाद बेरोजगार सडकों पर भटक रहे है. कांग्रेस सरकार ने भी कैलेण्डर जारी किया था,लेकिन फिर से उस कैलण्डर को रद्द कर दिया गया था.और पंचायतीराज विभाग भर्ती को पूरी करना ही भूल गया. इससे खफा पंचायतीराज एलडीसी अभ्यर्थियों ने कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन किया.राजस्थान में 2013 से तीन सरकारें बदल गई.लेकिन अब तक पंचायतीराज अभ्यर्थियों की किस्मत नहीं बदली है.10 हजार से ज्यादा अभ्यर्थी 6 साल पहले भी बेरोजगार थे और आज भी.क्योकि अब तक एलडीसी भर्ती में बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पाई.
ऐसे में अब कडी मेहनत और परिश्रम के बाद भी सरकारी नौकरी का सपना संयोए हजारों अभ्यर्थियों का भविष्य खत्म होता दिखाई दे रहा है. उनका भविष्य उनकी कमजोरी के कारण नहीं,बल्कि पंचायतीराज विभाग की कमियों के कारण भटक रहा है. विवादित एलडीसी भर्ती का पैंच इतना फंसा की छह साल बाद भी नहीं सुलझ पाया है.जयपुर में एकजुट हुए पंचायतीराज एलडीसी अभयर्थियों ने जमकर नारेबाजी की.इस दौरान नरेगा कार्मिक संघ के अध्यक्ष अशोक कुमार वैष्णव का कहना है कि अफसरों की लापरवाही के कारण ऐसा नहीं हो पा रहा है.
 ऐसे में अब बेरोजगारों को सरकार से उम्मीद तो है,लेकिन इंतजार इस बात है दूसरा नया कैलेण्डर कब आएगा.इस संबंध में बेरोजगारों ने डिप्टी सीएम सचिन पायलट और तमाम अफसरों से मुलाकात की,लेकिन अब तक कोई समाधान नहीं निकला.अफसरों की लापरवाही के कारण भर्ती का पैंच लगातार फंसा हुआ है.ऐसे में पंचायतीराज विभाग के अफसरों पर सवाल उठता है कि आखिर क्यो नया कैलेण्डर जारी नहीं किया जा रहा,क्यो लगातार बेरोजगार अभ्यर्थियों को नौकरी नहीं दी जा रही है.