राजस्थान: पंचायत चुनाव के पहले चरण का प्रचार थमा, 17 जनवरी को होगा मतदान

राज्य निर्वाचन आयोग के मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्याम सिंह राजपुरोहित ने बताया कि 5 बजने के साथ ही पहले चरण के लिए पंच और सरपंच के लिए हो रहे चुनाव का प्रचार थम गया है. 

राजस्थान: पंचायत चुनाव के पहले चरण का प्रचार थमा, 17 जनवरी को होगा मतदान
राजस्थान में पंचायतीराज के पहले चरण का मतदान 17 जनवरी को होना है.

जयपुर: राजस्थान में गांव की सरकार के लिए चल रहे प्रचार का शोर बुधवार शाम 5 बजे थम गया. अब सरपंच और वार्डपंच प्रत्याशी घर-घर जाकर वोट मांग सकेंगे. पंच और सरपंच के पहले चरण के लिए 17 जनवरी को सुबह 8 बजे से शाम 5 बजे तक मतदान होगा.

राज्य निर्वाचन आयोग के मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्याम सिंह राजपुरोहित ने बताया कि 5 बजने के साथ ही पहले चरण के लिए पंच और सरपंच के लिए हो रहे चुनाव का प्रचार थम गया है. अब प्रत्याशी जनसभा और लाउड स्पीकर का उपयोग नहीं कर सकेंगे. अब प्रत्याशी घर जाकर वोट के लिए अपील कर सकते हैं. 17 जनवरी को मतदान के बाद मतगणना शुरू हो जाएगी. उन्होंने मतदाताओं से शांतिपूर्ण मतदान करने की अपील की है.

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि प्रदेशभर में शांतिपूर्ण मतदान के लिए पर्यवेक्षक लगाए गए हैं, जो जिले से रिपोर्ट आयोग को भेजेंगे. प्रदेश में जैसलमेर और झुंझुनू को छोड़कर 2726 ग्राम पंचायतों के 26800 वार्डों में सरपंच के लिए 17242 प्रत्याशी वही पंच के लिए 17732 प्रत्याशी मैदान में है.

बता दें कि, राजस्थान में पंचायतीराज के पहले चरण का मतदान 17 जनवरी को होना है. वहीं, निर्वाचन विभाग के अधिकारियों ने शांतिपूर्वक चुनाव करवाने के लिए तैयारियां पूरी कर ली है. साथ ही प्रदेश के की पंचायत समिति की ग्राम पंचायतों में नाम वापसी के बाद प्रत्याशी घर घर जाकर एक ओर जहां वोट मांग रहे थे. अब देखना यह है कि जनता अपने गांव की कमान किसको देती है.