close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: इस गौशाला में गायों को गर्मी से बचाने के लिए लगाए गए फोगिंग सिस्टम

गोशाला में सालासर बालाजी आने वाले भक्त गर्मी के मौसम में उन्हें तरबूज, शरबत जैसे ठन्डे व्यंजन खिलाते, पिलाते हैं. जिससे गायों को गर्मी में राहत मिल सके. 

राजस्थान: इस गौशाला में गायों को गर्मी से बचाने के लिए लगाए गए फोगिंग सिस्टम
प्रतीकात्मक तस्वीर

सालासर: राजस्थान के सालासर की एक गोशाला में गौवंश के लिए भी बड़े-बड़े कूलर, फोगिंग सिस्टम लगाया गया है. चूरू के सालासर में स्थित बालाजी गौशाला संस्थान में गौशाला के अध्यक्ष रविशंकर पुजारी ने इस प्रचंड गर्मी में गायों को गर्मी से निजात दिलाने के लिए फोगिंग सिस्टम लगाकर बेसहारा पशुओं की पीड़ा को समझते हुए फोगिंग सिस्टम लगाया गया है. जिससे हर 20 -30 सेंकड में ठंडा पानी गायों पर छिड़का जाता है जिससे गायों को गर्मी से राहत मिलती है.  

इतना ही नहीं इस फोगिंग सिस्टम और बड़े डंपिंग कूलर से गायों के लिए बने टीनशेड का तापमान भी काम रहता है. जिससे गायों को कुछ राहत गर्मी से मिलती है. ये ऐसी गोशाला प्रदेश की पहली गोशाला है. जिसमे गायों के लिए इतनी व्यवस्थाएं की गयी हैं. इतना ही नहीं इस 1600 से अधिक गायों वाली गोशाला में गायों को हाइड्रोपोनिक मशीन में निर्मित ठंडा ऑर्गेनिक चारा खिलाया जाता है जिससे गायों के स्वास्थय पर प्रतिकूल असर नहीं पड़े. 

गोशाला में सालासर बालाजी आने वाले भक्त गर्मी के मौसम में उन्हें तरबूज, शरबत जैसे ठन्डे व्यंजन खिलाते, पिलाते हैं. जिससे गायों को गर्मी में राहत मिल सके. गायों के लिए गोशाला में RO प्लांट भी लगाया हुआ है. जिसमे पानी फ़िल्टर होता है और वह पानी गायों को पिलाया जाता है. गोशाला अध्यक्ष रविशंकर पुजारी ने बताया की गोशाला में गौ माता के लिए चारे का भंडार भरा रहता है, वंही गोशाला में पर्यावरण शुद्धि और हरियाली के लिए गोशाला में आने वाले भक्त हवन करते हैं और अपने पूर्वजो की स्मृति में पौधे लगाते हैं. 

इतना ही नहीं गोशाला में सालासर कस्बे के आस-पास इलाके में बीमार होने वाली गायों के लिए गोशाला के नजदीक चमेली देवी गौ चिकित्सालय बनाया गया है, जिसमें डॉक्टर और अत्याधुनिक मशीनों से गायों का इलाज होता है.गोशाला परिसर 40 cctv कैमरो की जद में रहता है. इस गोशाला को देखने के लिए दूर-दूर से गौ भक्त और श्रद्धालु सालासर पहुंचते हैं और गोशाला परिसर में गौ पूजन कर आशीर्वाद लेते है.