राजस्थान: गहलोत सरकार ने की घोषणा, अब छोटे किसानों को मिलेगी पेंशन

विधानसभा के छठे दिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने संबोधन के जरिए सरकार के कामकाज का रोड मैप रखा

राजस्थान: गहलोत सरकार ने की घोषणा, अब छोटे किसानों को मिलेगी पेंशन
अशोक गहलोत से राज्य सरकार और केंद्र सरकार पर भी जमकर हमला बोला

सुशान्त पारीक/जयपुर: 15वीं विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण के जवाब में बोलते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जहां एक के बाद एक कई अहम घोषणाएं की. वहीं विपक्ष के आरोपों का जवाब देते हुए जवाबी हमले भी किए. बुद्धवार को गहलोत का अंदाज ना केवल विपक्ष पर हमलावर था बल्कि उनके चुटीले अंदाज में भी विधानसभा के गंभीर माहौल को सरस बनाने में मदद की.

विधानसभा के छठे दिन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने संबोधन के जरिए सरकार के कामकाज का रोड मैप रखा. इससे पहले नेता प्रतिपक्ष गुलाब चंद कटारिया ने अपने संबोधन में आंकड़ों के जरिए राज्यपाल के अभिभाषण पर कई सवाल उठाते हुए अपने सरकार के कामकाज का ब्योरा पेश किया था. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अभिभाषण पर जवाब देते हुए कहा की नेता प्रतिपक्ष का पूरा संबोधन लोकसभा चुनाव के मद्देनजर था. केवल कांग्रेस के 50 साल के कामकाज को कोसने पर निर्भर था. 

गहलोत ने कहा कि अगर कांग्रेस ने देश में 50 साल कुछ नहीं किया होता तो आज विधानसभा में कार्रवाई नहीं चल रही होती. इस देश में कांग्रेस की सबसे बड़ी देन लोकतंत्र को जिंदा रखना है. कांग्रेस के नेताओं में पंडित जवाहरलाल नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी और राजीव गांधी तक ने देश के लिए बलिदान दिया है. भाजपा और संघ पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब देश की आजादी की लड़ाई चल रही थी तब इन के नेताओं ने एक उंगली तक नहीं कटाई थी फिर यह कांग्रेस पर सवाल कैसे उठा सकते हैं. 

अशोक गहलोत से राज्य सरकार और केंद्र सरकार पर भी जमकर हमला बोला. गहलोत ने कहा मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे 5 साल तक जनता से नहीं मिली और यही कारण है कि आज उन्हें विपक्ष में बैठना पड़ रहा है. नरेंद्र मोदी की देश में सुनामी आई थी उन्होंने जो जुमले जनता को दिए तब लगा था कि एक मौका दिया जाना चाहिए. लेकिन ना तो कालाधन देश में आया ना ही युवाओं को रोजगार मिल पाया देश में नफरत और घृणा का माहौल मोदी सरकार की देन है.

अशोक गहलोत के संबोधन में एक प्रमुख हिस्सा अहम घोषणाओं पर भी फोकस था. गहलोत ने विधानसभा में घोषणा करते हुए कहा कि राजस्थान में लघु सीमांत किसानों को अब पेंशन दी जाएगी. इसके अलावा बीपीएल परिवारों को 2 रुपए की जगह 1 रुपए प्रति किलो गेहूं उपलब्ध करवाने की भी घोषणा की गई. अशोक गहलोत ने किसानों की कर्ज माफी पर बोलते हुए कहा जो किसान समय पर ऋण बैंको को चुकाते रहे हैं. उन ईमानदार किसानों के लिए अलग से पैकेज राजस्थान सरकार लेकर आएगी. इसके लिए कई राज्यों की स्कीम का अध्ययन किया जा रहा है.

गहलोत ने कर्ज माफी पर बोलते हुए कहा कि सहकारी बैंकों का पूरा कर्ज माफ किया जाएगा. बैंकों को देने के लिए पैसे का इंतजाम किया जा रहा है. साथ ही सरकारी बैंकों के जो डिफाल्टर है उनके 2 लाख तक के लोन माफ करने के लिए बैंकों से बातचीत चल रही है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने केंद्र सरकार की ओर से स्वर्ण जातियों को 10 पीस दी आरक्षण आर्थिक आधार पर देने के फैसले पर बोलते हुए कहा कि जल्द ही इस आरक्षण का विधेयक राजस्थान विधानसभा में लाया जाएगा इसके लिए विधायकों को सूचना दी जाएगी.

विधानसभा में आज पंचायत में निरक्षर लोगों के चुनाव लड़ने पर रोक हटाने का विधेयक भी पेश किया गया जिस पर बोलते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जब विधानसभा और लोकसभा में निरीक्षण विधायक और सांसद बन सकते हैं तो पंचायत और दूसरे स्थानीय निकायों में क्यों नहीं बन सकते हैं. गहलोत ने वसुंधरा सरकार के दौरान पिछली कांग्रेस सरकार के बंद किए कामकाज का ब्यौरा गिनाते हुए कहा कि बहुत जल्द ही इन सभी योजनाओं को दोबारा शुरू किया जाएगा. लेकिन साथ ही बीजेपी के विधायकों से कहा कि राजस्थान सरकार वसुंधरा सरकार के दौरान शुरू की गई किसी भी योजना को बंद नहीं करेगी. 

कुल मिलाकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने सधे हुए और चुटीले अंदाज में विपक्ष के आरोपों का ना केवल बखूबी जवाब दिया बल्कि अपनी सरकार के कई अहम मुद्दों पर मजबूती से पक्ष भी रखा. निश्चित तौर पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधानसभा में जो गुड गवर्नेंस का वादा किया है. उम्मीद है आने वाले दिनों में सरकार उसी दिशा में काम करती हुई नजर आएगी.