राजस्थान: प्रमोशन में आरक्षण को लेकर गहलोत सरकार ने दिया धरना, सीएम बोले...

एससी एसटी और ओबीसी वर्ग के लिए पदोन्नति में आरक्षण की वकालत को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से कलेक्ट्री सर्किल पर धरना प्रदर्शन का आयोजन हुआ. 

राजस्थान: प्रमोशन में आरक्षण को लेकर गहलोत सरकार ने दिया धरना, सीएम बोले...
सीेएम ने कहा की भाजपा सरकार देश की जनता की भावना के अनुरूप कार्य नहीं कर रही है.

जयपुर: एससी एसटी और ओबीसी के लिए पदोन्नति में आरक्षण का मसला देशभर में गरमा गया है. आईसीसी के निर्देशों पर देशभर में राजधानी स्तर पर कांग्रेस की ओर से धरना प्रदर्शन का आयोजन हुआ. जयपुर में हुए धरना प्रदर्शन में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत डिप्टी सीएम सचिन पायलट प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे से लेकर तमाम मंत्री विधायक मौजूद रहे. कार्यक्रम में कांग्रेस नेताओं ने संघ और भाजपा पर देश में आरक्षण व्यवस्था को खत्म करने की साजिश रचने का आरोप लगाया.

एससी एसटी और ओबीसी वर्ग के लिए पदोन्नति में आरक्षण की वकालत को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की तरफ से कलेक्ट्री सर्किल पर धरना प्रदर्शन का आयोजन हुआ. कांग्रेस ने आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट में केंद्र सरकार के रुख को लेकर कड़ा एतराज जताया मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा की भाजपा सरकार देश की जनता की भावना के अनुरूप कार्य नहीं कर रही है. 

साथ ही सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस तरीके से अचानक नोटबंदी का ऐलान किया था, उसी तरीके से यह आरक्षण को खत्म करने की भी घोषणा कर देंगे. मुख्यमंत्री ने कहा आरक्षण को लेकर संघ और भाजपा की नीयत ठीक नहीं है. बिहार चुनाव से पहले मोहन भागवत का जिस तरीके से बयान आया था उसके बाद से लगातार आरक्षण को लेकर इनके सुर अलग-अलग समय पर अलग-अलग तरीके से नजर आते हैं. सीएम ने कहा कांग्रेस देश के संविधान के मौलिक अधिकारों का हनन नहीं होने देगी देश के वंचित और गरीब तबके को उसके अधिकारों की लड़ाई में कांग्रेस हमेशा साथ खड़ी है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मामले में दखल देने की मांग की.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा कि आरक्षण का अधिकार केवल गरीबी दूर करने जैसी योजना नहीं है. बल्कि देश में समानता का भाव लाने के लिए किया गया ऐतिहासिक फैसला है. बाबा साहब अंबेडकर ने जो सपना देखा था उस सपने के खिलाफ देश में कदम उठाने की तैयारी की जा रही है, जो कि किसी भी कीमत पर मंजूर नहीं होगा. प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे ने कहा यह सीसी के निर्देशों के बाद देशभर में इस तरह के प्रदर्शन किए जा रहे हैं. आने वाले दिनों में भी कांग्रेस सड़कों पर उतर कर केंद्र सरकार के इस रुख के खिलाफ अपना विरोध जताएगी.

कार्यक्रम में राजस्थान सरकार के मंत्री और विधायक भी मौजूद रहे. खाद्य मंत्री रमेश मीणा और सामाजिक कल्याण मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने मुख्यमंत्री से एससी एसटी और ओबीसी के आरक्षण की व्यवस्था को बनाए रखने के लिए विधानसभा में प्रस्ताव लाने की मांग की. साथ ही, 2 अप्रैल को देशभर में हुए आंदोलन के दौरान sc-st भर के खिलाफ दर्ज मुकदमों को भी वापस लेने की मांग की गई. परिवहन मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास ने कहा आरक्षण की व्यवस्था को खत्म करने वाली ताकतों को कांग्रेस कभी भी कामयाब नहीं होने देगी.

वहीं, कार्यक्रम के बाद कांग्रेस नेताओं ने राज्यपाल कलराज मिश्र को राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन सौंपा. सत्ता में होने के बावजूद राजस्थान में कांग्रेस की तरफ से लगातार प्रदर्शनों का दौर जारी है. यही कारण था कि रविवार का दिन होने के बावजूद कलेक्ट्री सर्किल पर आयोजित सभा में बहुत बड़ी तादाद में कांग्रेसी कार्यकर्ता नहीं जुट पाए. लेकिन इस प्रदर्शन के जरिए कांग्रेस ने एससी एसटी और ओबीसी में पदोन्नति में आरक्षण को लेकर अपना रुख और एजेंडा स्पष्ट कर दिया है.