close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान ने केंद्र सरकार से की जेल में कैद आतंकवादियों पर खर्च की गई राशि की मांग

वर्ष 1984-85 में पंजाब के कुछ आतंकवादियों को जयपुर-जोधपुर सेंट्रल जेल में रखा गया. इसी तरह वर्ष 1990-91 में जम्मू आतंकवादियों को राज्य की जेलों में रखा गया था. 

राजस्थान ने केंद्र सरकार से की जेल में कैद आतंकवादियों पर खर्च की गई राशि की मांग
आतंकवादियों पर खर्च की गई राशि का केंद्रीय गृहमंत्रालय को पुनर्भरण करना था.

विष्णु शर्मा/जयपुर: राज्य की जेलों में रखे गए आतंकवादियों पर खर्च की गई राशि को लेकर 24 साल से राज्य और केंद्र सरकार के बीच मामला उलझा हुआ है. केंद्र ने खर्च राशि का पुनर्भरण कर दिया, लेकिन राज्य बकाया राशि मांग रहा है. आतंकियों पर खर्च की गई बकाया राशि के लिए राज्य सरकार से 7 साल में दस बार पत्र लिख चुका है. हाल ही जेल महानिदेशालय की ओर से पुनर्भरण के लिए केंद्रीय गृहमंत्रालय को पत्र लिखा है.

देश में जब 80 के दशक में पंजाब में अतिवादियों का बोलबाला था और 90 के दशक में जम्मू कश्मीर में आतंकवाद चरम पर था. इस दौरान वर्ष 1984-85 में पंजाब के कुछ आतंकवादियों को जयपुर-जोधपुर सेंट्रल जेल में रखा गया. इसी तरह वर्ष 1990-91 में जम्मू आतंकवादियों को राज्य की जेलों में रखा गया था. आतंकवादियों व अतिवादियों के रख रखाव, खाना, कपड़े, बिस्तर, दवाइयां आदि पर राशि खर्च की गई थी. 

वहीं आतंकवादियों पर खर्च की गई राशि का केंद्रीय गृहमंत्रालय को पुनर्भरण करना था. इसमें से कुछ राशि का मंत्रालय ने पुनर्भरण कर दिया, लेकिन अब भी एक बड़ी रकम नहीं दी. ऐसे में इस रकम को लेकर राज्य सरकार स्तर से लगातार पत्राचार किया जा रहा है. 

जम्मू कश्मीर के आतंकवादियों और पंजाब के आतिवादियों पर खर्च की गई राशि के पुनर्भरण के लिए राज्य सरकार करीब 7 साल से कोशिश कर रही है. इन सात सालों के दरम्यान केंद सरकार को करीब दस दफा पत्र लिखे जा चुके हैं. पिछले महीने ही जेल महानिदेशालय से गृहमंत्रालय के संयुक्त सचिव को पुनर्भरण की बकाया राशि के भुगतान के लिए पत्र लिखा गया है.