महंगा हुआ राजस्थान का 'बॉडीगार्ड', राज्य सरकार ने बढ़ा दिए हैं दाम

राज्य सरकार ने जिस तरह से पुलिस गार्ड की दरें बढ़ाई है, उसके बाद सरकारी और गैर सरकारी एजेंसी पुलिस सुरक्षा लेने में हिचक महसूस करेंगे.

महंगा हुआ राजस्थान का 'बॉडीगार्ड', राज्य सरकार ने बढ़ा दिए हैं दाम
प्रतीकात्मक फोटो.

विष्णु शर्मा, जयपुर: राजस्थान में पुलिस सुरक्षा (Police Security) लेना अब महंगा हो गया है. राज्य सरकार ने करीब दस साल बाद पुलिस गार्ड की दरों में संशोधन किया है. नई दरें एक नवंबर से लागू हो गई हैं. पुलिस सुरक्षा (Police Security) को लेकर ये दरें पुरानी दरों से करीब तीन से पांच गुना महंगी हैं. लेकिन दरों में भारी वृद्धि के बाद हर कोई संस्था पुलिस सुरक्षा लेने से किनारा कर रही है. 

राजस्थान पुलिस (Rajasthan Police) से बैंकों, केंद्रीय कार्यालयों, पोस्ट ऑफिस, निजी संस्थाओं को सुरक्षा के लिए पुलिस गार्ड उपलब्ध कराई जा रही है. सुरक्षा के लिए दिए जा रहे गार्ड के लिए राजस्थान पुलिस पुनर्भुगतान वसूलती है. बढ़ी हुई दरों की वजह से कई बैंकों ने तो पुलिस सुरक्षा के बजाय प्राइवेट गार्ड लेना शुरू कर दिया है. 

पुलिस सुरक्षा के लिए एक नवंबर से लागू नई दरों के मुताबिक, एएसपी रैंक के अधिकारी के लिए 13, हजार 5 रुपये, डीएसपी रैंक के अधिकारी की सुरक्षा के लिए 11 हजार 351 रुपये, इंस्पेक्टर रैंक के लिए 9, हजार 644 रुपये, एसआई रैंक के अधिकारी के लिए 8 हजार 263 रुपये, एएसआई रैंक के लिए 7 हजार 382 रुपये, हेडकांस्टेबल रैंक के लिए पांच हजार 811 रुपये और कांस्टेबल रैंक के लिए 5 हजार 776 रुपये सरकारी या गैर सरकारी संस्थाओं को चुकाने होंगे. 

पुलिस सुरक्षा गार्ड के भुगतान को लेकर एसबीआई (SBI) और आरसीए का विवाद भी पुलिस के साथ चल रहा है. बैंकों को उपलब्ध कराई गई सुरक्षा गार्ड के बदले एसबीआई 20 करोड़ का भुगतान कर चुकी है, जबकि 31 करोड़ का भुगतान नहीं दे रही है. वहीं आरसीए से भी राजस्थान पुलिस दस करोड़ से ज्यादा भुगतान मांग रही है. दोनों ही मामले लंबे समय से सरकार के पास विचाराधीन चल रहे हैं. 

राज्य सरकार ने जिस तरह से पुलिस गार्ड की दरें बढ़ाई है, उसके बाद सरकारी और गैर सरकारी एजेंसी पुलिस सुरक्षा लेने में हिचक महसूस करेंगे. बल्कि निजी सुरक्षा एजेंसियों की चांदी होने वाली है.