close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: जापानी निवेश की संभावनाए तलाशेगी सरकार, दिया सहयोग का भरोसा

कार्यक्रम के दौरान सबको साथ लेकर चलने, उद्योगों से रोज़गार सृजन, राजस्थान और जापान में सांस्कृतिक समानताओं, विकास में साझेदारी के फायदे सहित विभिन्न बिंदुओं पर ज़ोर दिया.

राजस्थान: जापानी निवेश की संभावनाए तलाशेगी सरकार, दिया सहयोग का भरोसा
बैठक के दौरान मौजूद डिप्टी सीएम सचिन पायलट और अन्य.

जयपुर: राजधानी जयपुर में फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की ओर से एक होटल में जापान-राजस्थान मिलन पर चर्चा का आयोजन किया गया. कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश के उप मुख्यमंत्री और पीसीसी चीफ सचिन पायलट ने शिरकत की. 

इस दौरान उन्होंने राजस्थान सरकार की निवेश प्रोत्साहन नीति पर चर्चा की. साथ ही प्रदेश की नई उद्योग नीति, पंचायतराज, ग्रामीण विकास , देश के आर्थिक हालात और विकास में योगदान पर चर्चा की. कार्यक्रम के दौरान उन्होंने सबको साथ लेकर चलने, उद्योगों से रोज़गार सृजन, राजस्थान और जापान में सांस्कृतिक समानताओं, विकास में साझेदारी के फायदे सहित विभिन्न बिंदुओं पर ज़ोर दिया.

नए निवेश पर फोकस
संवाद सत्र में डिप्टी CM सचिन पायलट ने कहा कि पंडित नेहरू ने अपने PM कार्यकाल में जापान की यात्रा की थी. दो देशों के बीच सम्बन्ध मजबूत करना पार्टी लाइन से ऊपर हैं. जापान सरकार का स्टेट से संवाद का कदम बेहतर हैं. उन्होंने कहा कि जापान के साथ पर्यटन को लेकर काफी सम्भावनाएं हैं, इन पर दोनों देशों को काम करना होगा. इस दौरान जापान के एम्बेसडर केंजी हिरामात्सु ने कहा कि जापान हेल्थकेयर, पर्यटन और कौशल विकास में नया निवेश करना चाहता हैं. 

सांसद-विधायक भी रहे मौजूद
कार्यक्रम में अलवर सांसद महंत बालकनाथ, राहुल कस्वां, राज्यसभा सांसद रामकुमार वर्मा, विधायक रोहित बोहरा, हरीश चंद्र मीणा, गोपीचंद मीना सहित बड़ी संख्या में कारोबारी और औद्योगिक जगत की हस्तियां मौजूद रही. 

लाइव टीवी देखें-:

इस दौरान अलवर सांसद महंत बालकनाथ ने कहा कि नीमराणा में जापानी निवेश से क्षेत्र की दशा और दिशा में बदलाव आया हैं. जापानी कंपनियों को निवेश से जुड़े अन्य सहयोग के लिए केंद्र और राज्य सरकार तैयार हैं. 

वहीं, विधायक रोहित बोहरा ने सुझाव देते हुए कहा कि जापानी कम्पनियां मिनरल्स में भी निवेश करें. तकनीकी सहयोग से औद्योगिक खर्च कम करने में मदद की जाए और जल संचयन के साथ संरक्षण के लिए भी सहयोग मिले. सौर ऊर्जा की सम्भावनाओं पर भी काम करने की बात उन्होंने कही. जापानी प्रतिनिधिमंडल ने भी नए निवेश पर सकारात्मक रूख दर्शाया.