close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान सरकार किसानों को बांटेगी 16 हजार करोड़ का ऋण

प्रदेश के 25 लाख से अधिक किसानों को 16 हजार करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त अल्पकालीन फसली ऋण का वितरण किया जायेगा. 

राजस्थान सरकार किसानों को बांटेगी 16 हजार करोड़ का ऋण
फसली ऋण का वितरण किए जाने से पहले आवश्‍यक प्रपत्रों का दस्तावेज देने होंगे.

जयपुर: राजस्थान में सोमवार से किसानो को ऋण बांटने की प्रक्रिया शुरु होगी. इसके लिए किसानों को सहकारी समितियां या फिर नजदीक ई मित्र पर आवेदन करना होगा. आवेदन के पहले किसानों को कई तरह की भांतियां होती है. प्रदेश के 25 लाख से अधिक किसानों को 16 हजार करोड़ रुपये का ब्याज मुक्त अल्पकालीन फसली ऋण का वितरण किया जायेगा. इस योजना का वे किसान ही लाभ ले सकेंगे जो सहकारी समिति के सदस्य हो. इस बार 10 हजार करोड़ रुपये खरीफ सीजन में और 6 हजार करोड़ रुपये रबी सीजन में ऋण वितरित किया जाएगा. आवेदन से पहले किसानों को ये जरूर दस्तावेज जरूर ले जाने पडेंगे.

पंजीयन के लिए किसान का आधार नम्बर, जिस सहकारी बैंक में किसान का बचत खाता है उसका खाता संख्या, बैंक शाखा का आईएफएससी नम्बर की आवश्‍यकता होगी. इसके अलावा आवेदन पत्र में किसान के नाम पर जमाबन्दी के आधार पर राजस्व रिकार्ड में दर्ज भूमि का विवरण रबी और खरीफ सीजन में बोई जाने वाली फसल के विवरण के साथ-साथ समिति और अन्य बैंक, संस्थाओं से लिए गए या स्वीकृत हुए ऋण की जानकारी दर्ज कराई जाएगी.

अधिकतम साख सीमा के अन्तर्गत फसली ऋण का वितरण किए जाने से पहले आवश्‍यक प्रपत्रों का दस्तावेज देने होंगे. इसके लिए किसान वचन पत्र, ऋण पत्र और प्रतिभूति पत्र समिति में जमा करवाने होंगे.किसानों के हितों को सुरक्षित करने और समिति में वित्तीय पारदर्शिता स्थापित करने के लिये किसान द्वारा संबंधित बैंक शाखा में या समिति में एफआईजी के माध्यम से अपनी ऋण राशि जमा कराने पर 25 रूपए की रसीद दी जाएगी.

राजस्थान में सबसे ज्याद बाडमेर में 1000 करोड़ रुपये का ऋण बांटा जाएगा. जबकि जयपुर में 950 करोड़ रुपये, पाली में 860 करोड़ रुपये, चित्तौड़गढ और प्रतापगढ़ में 800 करोड़, सीकर और श्रीगंगानगर में 800-800 करोड़ रुपये, जोधपुर और हनुमानगढ़ में 760-760 करोड़ रुपये, भीलवाड़ा में 740 करोड़ रुपये, जालोर में 700 करोड़ रुपये, झालावाड़ में 660 करोड़ रुपये, नागौर में 640 करोड़ रुपये, कोटा में 600 करोड़ रुपये, अलवर और झुन्झुनूं में 550-550 करोड़ रुपये दिए जाएंगे.

वहीं सवाईमाधोपुर और करौली में 470 करोड़ रूपये, अजमेर में 450 करोड़ रूपये,  भरतपुर और धौलपुर में 450 करोड़ रुपये, उदयपुर और राजसमंद में 420 करोड़ रूपए के फसली ऋण वितरत होंगे. इस बार 10 नए किसानों को सरकार की तरफ से ऋण वितरित किए जाएंगे. इसके साथ साथ ऐसे किसानों को भी चिन्हित कर लिया गया है. जिन्हे सालों से प्रशासनिक उदासीनता के चलते ऋण नहीं मिल पाया, ऐसे किसानों को ऋण उपलब्ध करवाना सरकार की पहली प्राथमिकता रहेगी.