close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: नोट के साथ ज्ञानदेव आहूजा ने उड़ाई आचार संहिता की धज्जियां, देखें Video

टिकट नहीं मिलने से नाराज बीजेपी के विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने पार्टी से इस्तीफा देने के बाद इस विधानसभा चुनावों में निर्दलीए चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी थी.

राजस्थान: नोट के साथ ज्ञानदेव आहूजा ने उड़ाई आचार संहिता की धज्जियां, देखें Video
ज्ञानदेव आहुजा JNU पर चल रहे विवाद के दौरान 2016 में अपने उस बयान के बाद सुर्खियों में आए थे.

जयपुर: हमेशा विवादों में रहने वाले ज्ञानदेव आहूजा एक बार फिर मुश्किलों में घिरते नजर आ रहे है. नामांकन को जा रहे ज्ञानदेव आहूजा ने अपने हाथों में नोट लहराकर उसे समर्थकों को देकर अपने लिए एक नई मुश्किल खड़ी कर दी है. यहां तक की नामांकन को जा रहे ज्ञानदेव आहूजा ने आचार संहिता की चिंता न करते हुए पहले अपने जेब से नोटों की एक गड्डी निकाली और उसमें से नोटो को निकालकर हवा में लहराया और समर्थकों को देना शुरू कर दिया. हालांकि नोट देने का यह सिलसिला बहुत देर तक नहीं चला लेकिन ज्ञानदेव आहूजा का यह काम उन्हें परेशानी में डाल सकता है.      

बता दें कि टिकट नहीं मिलने से नाराज बीजेपी के विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने पार्टी से इस्तीफा देने के बाद इस विधानसभा चुनावों में निर्दलीए चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी थी. ज्ञानदेव आहुजा ने रविवार को पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. इस्तीफा देने के बाद आहूजा ने पार्टी पर तानाशाही का आरोप भी लगाया. आरएसएस के काफी नजदीक माने जाने वाले आहूजा अलवर जिले के रामगढ़ से निवर्तमान विधायक हैं.

वहीं इस्तीफे की जानकारी देते हुए सोशल मीडिया पर ज्ञानदेव आहूजा ने कहा था कि 'भाजपा के तानाशाही दृष्टिकोण के खिलाफ विरोध करते हुए, मैंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है. मैं राम जन्माभूमि, गाय संरक्षण और हिंदुत्व जैसे मुद्दों पर एक स्वतंत्र के रूप में चुनाव लड़ूंगा.'
 
आपको बता दें कि JNU पर चल रहे विवाद के दौरान 2016 में अपने उस बयान के बाद सुर्खियों में आए थे. जिसमें उन्होंने जेएनयू परिसर में प्रतिदिन हजारों कंडोम पाए जाते हैं जैसी बाते कही थी. उसके बाद मॉब लिंचिंग और लव जिहाद के मसले पर भी उन्‍होंने कई विवादित बयान दिए हैं.

गौरतलब है कि बीजेपी ने राज्य के विधानसभा चुवानों को लेकर अपने सभी उम्मीदवारों की लिस्ट जारी कर दी है. टिकट कटने वाले विधायकों में से सबसे चर्चित नाम अलवर की रामगढ़ सीट से विधायक ज्ञानदेव आहूजा का रहा है. इसके अलावा निवर्तमान मंत्री बाबूलाल वर्मा, राजकुमार रिनवा और धन सिंह रावत को इस चुनाव में टिकट नहीं दिया गया है.