Rajasthan: निकाय चुनाव में कांग्रेस ने लगाई BJP के वोटबैंक में सेंध, डोटासरा बोले

Rajasthan Samachar:  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने इसे सरकार गिराने के मंसूबे पालने वाली भाजपा सरकार की करारी हार बताया है.

Rajasthan: निकाय चुनाव में कांग्रेस ने लगाई BJP के वोटबैंक में सेंध, डोटासरा बोले
निकाय चुनाव में कांग्रेस ने लगाई बीजेपी के वोटबैंक में सेंध. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Jaipur: राजस्थान के 90 निकायों के चुनाव परिणाम कांग्रेस के लिए राहत भरी खबर लेकर आए हैं. भाजपा के वोट बैंक माने जाने वाले शहरी क्षेत्रों में कांग्रेस कि यह बड़ी सेंध बता रही है कि राजस्थान में जनता ने गहलोत सरकार के कामकाज पर मोहर लगाई है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने इसे सरकार गिराने के मंसूबे पालने वाली भाजपा सरकार की करारी हार बताया है. हालांकि, सरकार के सात मंत्रियों, 22 विधायकों और पीसीसी के 39 पदाधिकारियों की साख भी दांव पर थी. इनमें अधिकांश मंत्री और विधायक उम्मीदों पर खरे नहीं उतर पाए हैं

दरअसल, Rajasthan के 90 निकायों के आए चुनाव परिणाम एक बार फिर सियासी नजरिए से चौंकाने वाले हैं. क्योंकि एक बार फिर कांग्रेस ने इन चुनावों में बढ़त बनाई है. कांग्रेस ने 1197 वार्डों में और भाजपा ने  1140 वार्डों में जीत दर्ज की है. वहीं, 634 वार्डों पर निर्दलीयों ने कब्जा किया.

एनसीपी के 46 वार्ड पार्षद और आरएलपी के 13 पार्षद चुने गए हैं. एनसीपी ने निवाई और नोखा में भारी जीत दर्ज की है. इससे पहले जयपुर, जोधपुर और कोटा में हुए नगर निगम चुनाव में कांग्रेस ने शानदार जीत दर्ज की थी. कांग्रेस पार्टी ने रणनीति के तहत कई वार्डों में सिंबल पर उम्मीदवार नहीं उतारे. ऐसे में अधिकतर निर्दलीय कांग्रेस के पाले में आना भी शुरू हो चुके हैं.

ये भी पढ़ें-राजस्थान निकाय चुनाव के नतीजों से कांग्रेस में खुशी की लहर, CM Gehlot बोले

वहीं, ज्यादातर निर्दलीयों का झुकाव सत्तारूढ़ दल के साथ ही होता है. ऐसे में इस बात में कोई शक नहीं है. ज्यादातर निकाय प्रमुख कांग्रेस के ही बनने जा रहे हैं. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने इन परिणामों के बाद राजस्थान के 50 निकायों में कांग्रेस का बोर्ड बनने का दावा किया है. डोटासरा ने कहा है कि कांग्रेस सरकार को गिराने का सपना देखने वाली भाजपा को जनता ने जमीन दिखा दी है. जनता ने गहलोत सरकार के कामकाज पर मोहर लगाई है.

 इन चुनावों में कांग्रेस के छह मंत्री, एक उप मुख्य सचेतक और 22 विधायकों के अलावा पीसीसी के 39 पदाधिकारियों की साख भी दांव पर लगी हुई थी. इनमें दो ही मंत्री रघु शर्मा और अशोक चांदना स्पष्ट बहुमत लाने में कामयाब रहे.  बाकी मंत्री बोर्ड बनाने के लिए निर्दलीयों के आसरे हैं. पीसीसी चीफ के खुद के लक्ष्मणगढ़ में निर्दलीयों की मदद लेनी पड़ेगी.

गोविंद सिंह डोटासरा (प्रदेश अध्यक्ष)
लक्ष्मणगढ़ नगरपालिका पर हर किसी की नजर थी, क्योंकि यह नगर पालिका स्वयं प्रदेश अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा की विधानसभा क्षेत्र में आता है. लेकिन, इस विधानसभा में बोर्ड निर्दलीयों के सहारे बनेगा. यहां कुल 40 वार्ड हैं, जिनमें से कांग्रेस और भाजपा को 14-14 वार्डों में जीत मिली है. वहीं, 11 वार्डों में निर्दलीय और 1 वर्ड में सीपीआईएम ने जीत दर्ज की है.

ये भी पढ़ें-Rajasthan Localbody Election Result 2021: निकाय चुनाव में कांग्रेस ने मारी बाजी, 1197 वार्डों में जमाया कब्जा

 

रघु शर्मा (स्वास्थ्य मंत्री)
अजमेर नगर निगम हारे, लेकिन अपनी विधानसभा में आने वाली सरवाड़ और केकड़ी नगर पालिका में जीत दिलाई. अजमेर नगर निगम पर भाजपा ने अपना कब्जा बरकरार रखा है. स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा के विधानसभा में आने वाली केकड़ी नगर पालिका में कांग्रेस का बोर्ड बनेगा. यहां कांग्रेस को कुल 40 वार्ड में से 21 वार्ड में जीत मिली है.

भाजपा को 17 वार्डों में जीत मिली है, 2 वार्डों में निर्दलीय भी जीते हैं. ऐसे में केकड़ी नगर पालिका में कांग्रेस का बोर्ड बनेगा. सरवाड़ नगर पालिका में कुल 25 वार्ड में से कांग्रेस ने 15 वार्ड में जीत दर्ज करते हुए अपना बोर्ड बनना तय कर लिया है. यहां भाजपा को 8 और निर्दलीयों को 2 वार्डों में जीत पर संतोष करना पड़ा है.

भंवर सिंह भाटी (उच्च शिक्षा मंत्री)
उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह की विधानसभा सीट कोलायत में आने वाली देशनोक नगर पालिका कांग्रेस निर्दलीयों के सहारे हैं. यहां 25 वार्डों में से कांग्रेस ने 11 और बीजेपी ने 10 वार्ड में जीत दर्ज की है. देशनोक नगर पालिका में तीन निर्दलीय और एक प्रत्याशी एनसीपी का जीता है, ऐसे में निर्दलीय तय करेंगे कि बोर्ड किसका बनेगा.

अशोक चांदना (खेल मंत्री)
बूंदी नगर परिषद में कांग्रेस पार्टी ने 60 वार्डों में से 28 वार्डों में जीत दर्ज की है. भाजपा ने 24 वार्डों में जीत दर्ज की है, तो निर्दलीयों को 8 वार्डों में जीत मिली है. ऐसे में निर्दलीय लोगों के सहारे बूंदी नगर परिषद में बोर्ड बनेगा. नैनवा नगर पालिका में मंत्री अशोक चांदना ने कांग्रेस पार्टी को जीत दिलाई है. यहां कुल 25 वार्ड में से 15 वार्ड पर कांग्रेस ने जीत दर्ज की है, जिससे कांग्रेस का बोर्ड बनना तय हो गया है. नैनवा में 10 वार्डो में भाजपा ने जीत दर्ज की है.

ये भी पढ़ें-Sikar Samachar: लोसल नगर पालिका में Congress ने पाई बढ़त, जानें BJP का हाल

 

सालेह मोहम्मद, (अल्पसंख्यक मंत्री)
मंत्री सालेह मोहम्मद पर उनकी विधानसभा पोकरण में आने वाली पोलीकरण नगर पालिका में चुनाव जिताने की जिम्मेदारी थी. पोकरण नगर पालिका में निर्धन तय करेगा कि बोर्ड किसका होगा. यहां 25 वार्डों में से 10 पर बीजेपी 9 पर कांग्रेस और 6 वार्डों पर निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है.

सुखराम बिश्नोई (वन मंत्री)
सांचौर नगर पालिका वन मंत्री सुखराम बिश्नोई की विधानसभा में आता है. यहां कुल 35 वार्डों में से कांग्रेस और भाजपा को 16- 16 वार्डों में जीत मिली है. ऐसे में 3 वार्डों में जीते निर्दलीय यह तय करेंगे कि बोर्ड किसका बनेगा.

महेंद्र चौधरी (उप मुख्य सचेतक)
कुचामन नगर पालिका में कुल 45 वार्ड हैं, जिसमें से कांग्रेस पार्टी ने 20 वार्ड में जीत दर्ज की है, तो भाजपा ने 18 वार्ड में जीत दर्ज की है. ऐसे में कुचामन नगर पालिका से जीत दर्ज कर चुके सात निर्दलीय तय करेंगे कि बोर्ड वहां किसका बनेगा.

नावा नगर पालिका में कुल 25 वार्ड हैं. जिसमें से 13 वार्डों में जीत दर्ज करते हुए भाजपा ने नावा नगरपालिका में अपना बोर्ड बनना सुनिश्चित किया है. नावा में 10 वार्डों में कांग्रेस और 2 वार्ड में निर्दलीयों ने भी चुनाव जीते हैं.

ये भी पढ़ें-Nagaur Samachar: BJP पर भारी पड़ी कांग्रेस, मूंडवा तक ही सिमटी RLP
 
प्रशांत बैरवा (विधायक)
निवाई नगरपालिका में 35 वार्डों से कांग्रेस को 8 वार्डों में जीत मिली है. भाजपा को 9 वार्डों में जीत मिली है तो वहीं, एनसीपी को 17 वार्डों में जीत मिली है तो एक वार्ड में निर्दलीय ने जीत दर्ज की है. ऐसे में यहां एनसीपी का बोर्ड बनना तय है.

हरीश मीणा, उनियारा
उनियारा नगर पालिका में कुल 20 वार्ड हैं, जिसमें से 12 वार्ड में बीजेपी ने जीत दर्ज की है तो कांग्रेस को महज 4 वार्ड में ही जीत नसीब हुई है. वहीं, निर्दलीय भी 4 वार्ड में जीते हैं. ऐसे में विधायक होने के बावजूद हरीश मीणा अपनी विधानसभा की नगर पालिका में जीत हासिल नहीं कर पाए.

देवली नगर पालिका
देवली नगर पालिका 25 वार्ड में से कांग्रेस और निर्दलीयों को 10-10 वार्डो में जीत मिली है जबकि, भाजपा को 5 वार्डों में ही जीत से संतोष करना पड़ा है. ऐसे में यहां कांग्रेस निर्दलीयों के सहयोग से बोर्ड बनाने की स्थिति में है.

सुदर्शन सिंह रावत (विधायक)
देवगढ़ नगर पालिका के 25 वार्ड में से 14 वार्ड भाजपा ने जीते हैं तो कांग्रेस पार्टी को विधायक होने के बावजूद केवल 11 वार्डों से संतोष करना पड़ा है.

हाकम अली, फतेहपुर
फतेहपुर नगर पालिका में कुल 55 वार्ड हैं. इनमें से 25 वार्डों में कांग्रेस के प्रत्याशी जीते हैं, तो भाजपा के प्रत्याशी 17 वार्ड. लेकिन, यहां बोर्ड 13 निर्दलीय प्रत्याशी तय करेंगे.

रामगढ़ शेखावटी नगर पालिका 
रामगढ़ शेखावटी नगर पालिका से कुल 35 वार्डों में से बीजेपी को 13 तो कांग्रेस को 14 वार्ड में जीत मिली है. यहां बोर्ड निर्दलीयों के सहारे बनेगा, जिन्होंने 8 वार्डों में जीत दर्ज की है.

दीपेंद्र सिंह शेखावत
श्रीमधोपुर नगर पालिका में कुल 35 वार्ड हैं. इनमें से सबसे अधिक 13 वार्ड कांग्रेस ने जीते हैं. भाजपा के खाते में 12 वार्ड गए हैं. अब श्रीमाधोपुर नगर पालिका में कब्जा किसका होगा, यह 10 निर्दलीय प्रत्याशी तय करेंगे.

परसराम मोरदिया

लोसल नगर पालिका
लोसल नगर पालिका 35 वार्ड में से सर्वाधिक 16 वार्ड में कांग्रेस ने जीत दर्ज की है तो दूसरे नंबर पर निर्दलीय हैं. जिन्होंने 11 वार्ड पर जीत दर्ज की है. भाजपा के खाते में केवल 8 वार्ड आए हैं. ऐसे में यहां भी निर्दलीय लोगों पर निर्भर करेगा बोर्ड.

मुकेश भाकर

लाडनू नगर पालिका
लाडनू नगर पालिका में कुल 45 वार्ड है. इनमें से सबसे ज्यादा 17 वार्ड कांग्रेस पार्टी ने जीते हैं, तो भाजपा के खाते में 13 वार्ड गए हैं, लेकिन यहां भी बोर्ड 15 निर्दलीय प्रत्याशी तय करेंगे, जिन्होंने इन चुनावों में जीत दर्ज की है.

रामनिवास गावड़िया
परबतसर नगर पालिका में कांग्रेस विधायक रामनिवास गावड़िया फेल हो गए हैं. यहां 25 वार्ड में से 14 वार्डों में जीत दर्ज करते हुए भाजपा ने अपना बोर्ड बना लिया है. यहां कांग्रेस को 7 और निर्दलीयों को 4 वार्ड में जीत मिली है.

विजयपाल मिर्धा

डेगाना नगर पालिका
डेगाना नगर पालिका में कुल 25 वार्ड में से कांग्रेस ने 14 वार्डों में जीत दर्ज करते हुए स्पष्ट बहुमत हासिल कर लिया है. यहां भाजपा को 8 और निर्दलीय को 3 सीटों पर जीत मिली है.

राजकुमार शर्मा

मुकुंदगढ़ नगर पालिका
मुकुंदगढ़ नगर पालिका में निर्दलीय लोगों को पूर्ण बहुमत मिला है. यहां 25 वार्ड में से निर्दलीयों ने 19 वार्ड में जीत दर्ज की है. कांग्रेस को चार और बीजेपी को दो वार्डों में जीत से ही संतोष करना पड़ा है.

नवलगढ़ नगर पालिका
नवलगढ़ नगर पालिका में 45 वार्ड में से 33 वार्डो में जीत दर्ज करते हुए कांग्रेस पार्टी ने अपना बोर्ड फिर से तय किया है. यहां बीजेपी को 4 बीएसपी को एक और निर्दलीयों को 7 वार्ड में जीत मिली है.

जेपी चंदेलिया

चिड़ावा नगर पालिका
चिड़ावा नगर पालिका में कुल 40 वार्ड हैं. इनमें से 26 वार्ड जीतते हुए निर्दलीय ने बहुमत प्राप्त किया है. 11कांग्रेस पार्टी के प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है तो भाजपा के खाते में महज 3 वार्ड ही आए हैं.

बृजेंद्र ओला

बगड़ नगर पालिका 
बगड़ नगरपालिका में झुंझुनू से विधायक विजेंद्र ओला के होने के बावजूद 20 वार्डों में से 11 वार्ड पर निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है और बोर्ड निर्दलीयों का बनना तय है. बीजेपी को 6  और कांग्रेस को 3 वार्ड से ही संतोष करना पड़ा है.

रीटा चौधरी
मंडावा नगरपालिका से विधायक  चौधरी ने कांग्रेस को जीत दिलाई है. मंडावा के 25 वार्ड में से 15 वार्ड में कांग्रेस ने जीत दर्ज की है. निर्दलीयों को 7 वार्डो में जीत मिली है तो भाजपा को महज तीन वार्ड पर ही संतोष करना पड़ा है.

डॉ. जितेंद्र सिंह
खेतड़ी नगर पालिका में कुल 25 वार्ड हैं, जिनमें से सर्वाधिक 11 वार्ड में निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है. कांग्रेस के खाते में 8 वार्डो में जीत आई है, तो वहीं बीजेपी के खाते में 6 वार्ड आए हैं. ऐसे में निर्दलीय तय करेंगे कि बोर्ड किसका बनेगा.

राजेंद्र गुढ़ा
उदयपुरवाटी नगर पालिका में कुल 35 वार्ड हैं. जिनमें से कांग्रेस पार्टी ने 14 वार्ड जीते हैं तो निर्दलीय भी कांग्रेस के बराबर 14 वार्ड जीतकर आए हैं. भाजपा पार्टी को महज 7 वार्डों में जीत मिली है.

अमित चाचान
नोहर नगरपालिका में कुल 40 वार्ड हैं. इनमें से सबसे अधिक 21 वार्ड जीतते हुए कांग्रेस ने बहुमत प्राप्त किया है. दूसरे नंबर पर निर्दलीय हैं, जो 16 वार्ड जीते हैं तो भाजपा के खाते में 2 वार्डों में ही जीत आई है. एक जगह CPIM के प्रत्याशी ने भी जीत दर्ज की है.

गणेश घोघरा
डूंगरपुर नगर परिषद में कुल 40 वार्ड हैं. इनमें से 27 वार्ड में जीत दर्ज करते हुए भाजपा ने पूर्ण बहुमत प्राप्त किया है। डूंगरपुर में कांग्रेस पार्टी को 6 और निर्दलीय लोगों को सात जगह जीत मिली है.

भंवर लाल शर्मा
सरदारशहर नगर पालिका में कुल 55 वार्ड हैं. इनमें से 29 वार्ड पर जीत दर्ज करते हुए कांग्रेस पार्टी ने पूर्ण बहुमत प्राप्त किया है. सरदार शहर नगरपालिका में भाजपा 23 और तीन जगह निर्दलीय प्रत्याशी भी जीते हैं.

नरेंद्र बुडानिया
तारानगर नगर पालिका से कांग्रेस विधायक नरेंद्र बुडानिया ने पार्टी को जीत दिलाई है. यहां 35 वार्डों में से 20 वार्डों में कांग्रेस ने जीत दर्ज की है. यहां 12 वार्डों में भाजपा और 3 वार्डों पर निर्दलीय ने जीत दर्ज की है.

राजेंद्र बिधूड़ी
बेगू नगर पालिका में कुल 25 वार्ड है, जिसमें से 15 वार्ड में जीत दर्ज करते हुए कांग्रेस ने पूर्ण बहुमत प्राप्त किया है. 8 वार्ड में भाजपा जीती है तो 2 वार्ड में निर्दलीयों ने जीत दर्ज की है.

रामलाल मीणा

नगर परिषद प्रतापगढ़
प्रतापगढ़ नगर परिषद में कुल 40 वार्ड हैं. इनमें से 21 वार्ड में जीत दर्ज करते हुए भाजपा ने पूर्ण बहुमत प्राप्त किया है. कांग्रेस पार्टी को यहां 19 वार्डों में जीत मिली है.

नगर पालिका छोटी सादड़ी
छोटी सादड़ी नगरपालिका में कांग्रेस का बोर्ड बनेगा. यहां 25 वार्ड में से 14 वार्ड में कांग्रेस ने जीत दर्ज की है. यहां भाजपा को 11 सीटों पर संतोष करना पड़ा है.
 
राकेश पारीक

विजयनगर नगर पालिका
विजयनगर नगरपालिका में कुल 35 वार्ड हैं. इनमें से 19 वार्ड जीते हुए भाजपा ने पूर्ण बहुमत प्राप्त किया है, तो वहीं कांग्रेस पार्टी के 14 प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है और निर्दलीय दो प्रत्याशी जीते हैं.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष Govind Singh Dotasara ने कहा है 2 फरवरी को प्रदेश कांग्रेस प्रभारी Ajay Maken आ रहे हैं. सभी मंत्रियों, विधायकों और पीसीसी की टीम का परफॉर्मेंस कार्ड अजय माकन के समक्ष रखा जाएगा.

बता दें कि कांग्रेस के लिए सियासी और जातिगत समीकरणों के तहत यह बहुत बड़ी जीत है. क्योंकि जनरल कास्ट और व्यापारी वर्ग भाजपा का परंपरागत वोट बैंक रहा है. यही वजह थी कि राजस्थान के शहरी क्षेत्र में कमल अब तक खिलता आ रहा था. हालांकि जीत की वजह कांग्रेस का सत्तारूढ़ दल होना और परिसीमन के दौरान अपने वोट बैंक के हिसाब से वार्डों का गठन करना भी अहम फेक्टर है. लेकिन Panchayat Chunav में उल्टी गंगा बहती हुई देखी गई, वहां पर कमल जमकर खिला. कुल मिलाकर अब 7 और 8 फरवरी का देखना होगा कि जीते हुए पार्षदों के सहारे कांग्रेसी कितने वार्डों में अपने अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बना पाती है.