राजस्थान: पुलवामा में शहीद हुए वीरों की श्रद्धांजलि के साथ शुरू हुआ 'मरू महोत्सव'

शोभायात्रा में पुलवामा में हुए आंतकी हमले में देश के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गयी और दो मिनट का मौन रखा गया

राजस्थान: पुलवामा में शहीद हुए वीरों की श्रद्धांजलि के साथ शुरू हुआ 'मरू महोत्सव'
मरू महोत्सव की शुरूआत आकर्षक शोभा यात्रा से हुई जो एतिहासिक गड़ीसर झील से शुरू हुई

जैसलमेर: विश्व प्रसिद्द तीन दिवसीय मरु महोत्सव रविवार को लोक रंगों के मनोहारी दिग्दर्शन कराने वाले विभिन्न आयोजनों के साथ शुरू हो गया. महोत्सव में शिरकत करने आए हजारों देशी-विदेशी मेहमानों और जैसलमेर वासियों ने बड़े ही उत्साह के साथ लोक सांस्कृतिक प्रस्तुतियों का आनन्द लिया. मरू महोत्सव की शुरूआत आकर्षक शोभा यात्रा से हुई जो एतिहासिक गड़ीसर झील से शुरू हुई और शहर के मुख्य मार्गों से होती हुई शहीद पुनमसिंह स्टेडियम पहुंची. वहीं शोभायात्रा में पुलवामा में हुए आंतकी हमले में देश के वीर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गयी और दो मिनट का मौन रखा गया.

शोभायात्रा में सिर पर कलश लिए स्कूली बच्चों ने हिस्सा लिया एंव सीमा सुरक्षा बल के जवानों द्वार सजी धजी कैमल माउण्टेन बैंड ने हिस्सा लिया जो सभी दर्शकों के लिए आकर्षण का केन्द्र रहा. मरु महोत्सव 2019 का आगाज मुख्य अतिथि जिला कलक्टर नमित मेहता एवं जैसलमेर विधायक रूपाराम धनदे ने ध्वजारोहण करने के बाद ढोल की थाप बजाकर विधिवत आगाज किया एवं इसके शुभारंभ की घोषणा की. उन्होंनें आकाश में तिरंगे गुब्बारे उड़ाकर उत्सव को और सुशोभित कर दिया.

शुभांरभ समारोह में शहीद पूनम सिंह स्टेडियम दर्शकों से खचाखच भरा था. रंग-बिरंगी पोशाकों से सुसज्जित कलाकारों के दृश्य से पूनम स्टेडियम का नजारा रंग बिरंगा  नजर आ रहा था जिसका सभी सैलानी आनंद उठा रहे थे. मरू महोत्सव के शुभारंभ के अवसर पर राजकीए बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय की बालिकाओं द्वारा राजस्थानी लोकगीतों पर भव्य एवं शानदान घूमर नृत्य पेश किया गया. 

वहीं विदेशी सैलानियों को अंग्रेजी की उदघोषक गुलनाज ने अंग्रेजी में कमेन्ट्री उनको मरू महोत्सव की लोक संस्कृति एवं कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी. विश्व विख्यात मरू महोत्सव के पहले दिन विभिन्न प्रतियोगिताओं के नाम रहा जिसमें राजस्थानी लोक कला एवं जैसलमेरी संस्कृति से संबंधित विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया इन प्रतियोगिताओं में जहां स्थानीय लोगों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया.  

वहीं शहीद पूनम सिंह स्टेडियम में आयोजित हुई देश-दुनिया भर में चर्चित अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के मरु महोत्सव की सर्वाधिक प्रतिष्ठापूर्ण प्रतियोगिता मिस मूमल-2019 का खिताब जैसलमेर की ज्योति सुथार ने जीता. मिस मूमल प्रतियोगिता में 12  बालिकाओें ने पारम्परिक जैसलमेरी पोषाक में झिलमिलाते आभूषण से सुसज्जित होकर भाग लिया. निर्णायक मण्डल द्वारा मूमल के रुप में सौन्दर्य एवं वस्त्राभूषण की नख से सिर तक परख करने के पश्चात् ज्योति सुथार को मिस मूमल 2019 के लिए चयनित किया गया.

जबकि मरु महोत्सव की प्रतिष्ठापूर्ण मरु श्री प्रतियोगिता में अरविंद विश्ननोई को मरू श्री 2019 घोषित किया गया. इसमें प्रतिभागियों की राजस्थानी परम्परागत वेषभूषाएंं शारीरिक सौन्दर्य, कदकाठी के आधार पर कुल 40  संभागियों में से  अरविंद विश्ननोई का मिस्टर डेजर्ट के लिए चयन किया गया. मरूश्री 2018 मनीष रामदेव ने विजेता अरविंद विश्ननोई को खिताब दिया. 

साथ ही महोत्सव में विदेशी साफा बांध प्रतियोगिता भी आयोजित की गयी. जिन विदेशी सैलानियों ने कभी अपने सिर पर साफा नहीं बांधा था उन्होंने तीन मिनट की समय सीमा में साफा बांधने का कमाल किया. तीन दिनों तक होने वाले इन आयोजनों में जहां जैसलमेर देश की लोक संस्कृति का साक्षी बनेगा वहीं देश विदेश से आए सैलानी भी स्वर्णनगरी में आयेाजित हो रहे इस पर्यटन महाकुंभ को लेकर उत्साहित है.