Rajasthan में राम मंदिर के लिए 'मुसलमान' भी दे रहे चंदा, विहिप ने कहा- राम तो सबके

राम मंदिर निर्माण में न केवल सिर्फ हिंदू ही बल्कि मुस्लिम और अन्य सम्प्रदाय के लोग भी आगे आकर सहयोग दे रहे हैं. 

Rajasthan में राम मंदिर के लिए 'मुसलमान' भी दे रहे चंदा, विहिप ने कहा- राम तो सबके
विश्व हिंदू परिषद के क्षेत्रीय कार्यालय भारत माता मंदिर में गुरुवार सुबह निधि समर्पण कार्यक्रम आयोजित हुआ.

जयपुर: अयोध्या (Ayodhya) में बनने वाले श्रीराम मंदिर निर्माण (Shriram temple construction) के लिए धन समर्पण का जज्बा और उत्साह लगातार बढ़ता जा रहा है. राम भक्त (Ram Devotees) पूरी श्रद्धा और समर्पण के साथ भगवान श्रीराम के चरणों में राशि समर्पित कर रहे हैं. विहिप (Vishva Hindu Parishad) की ओर से चलाए जा रहे अभियान के तहत गुरुवार को सांभर जिले के समर्पण निधि कार्यक्रम में एक करोड़ 25 लाख, 59 हजार 104 रुपये का सहयोग मिला.

यह भी पढ़ें - राम मंदिर निर्माण के लिए 'एक करोड़ रुपये' का चंदा, देखिए किसने दी इतनी बड़ी राशि!

विश्व हिंदू परिषद के क्षेत्रीय कार्यालय भारत माता मंदिर में गुरुवार सुबह निधि समर्पण कार्यक्रम आयोजित हुआ. राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (Rashtriya Swayamsevak Sangh) के क्षेत्र प्रचारक निम्बाराम, विहिप के जयपुर प्रान्त संगठन मंत्री राजाराम की मौजूदगी में हुए इस कार्यक्रम में जोबनेर खंड निवासी अशुसिंह सुरपुरा ने 1 करोड़ 11 लाख 71 हजार 771 रुपये, शिवजीराम, चुन्नीलाल, सत्यनारायण ने 5 लाख 11 हजार 111 रुपये, युवाशक्ति सेवा समिति ने 3 लाख 51 हजार , गजानंद कुमावत ने 1 लाख 11 हजार 111 रुपये, लालचंद कुमावत 1 लाख 1 हजार, सीताराम, राधेश्याम ने 1 लाख 51 हजार, प्रभुदयाल कुमावत ने 51 हजार रुपये की राशि का चेक भेंट किया. इधर छोटे-बड़े सभी लोग आगे बढ़कर राम मंदिर निर्माण में अपना सहयोग दे रहे हैं. लोगों के उत्साह का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि वो खुद चलकर विहिप कार्यालय या पदाधिकारियों से सम्पर्क कर रहे हैं. 

यह भी पढ़ें- राम मंदिर की नींव में राजस्थान के 55 मंदिरों की माटी, जानिए कहां-कहां के रज कण

मुस्लिम और अन्य सम्प्रदाय के लोग भी आगे आकर दे रहे सहयोग 
राम मंदिर निर्माण में न केवल सिर्फ हिंदू ही बल्कि मुस्लिम और अन्य सम्प्रदाय के लोग भी आगे आकर सहयोग दे रहे हैं. विहिप का भी कहना है कि मंदिर निर्माण देश की अस्मिता, सांस्कृतिक, प्रेम, सौहार्द आदि का अनुपम उदाहरण बनेगा. ऐसे में जो कोई भी मुक्त हस्त से सहयोग दे रहा है, उसका सहयोग स्वीकार कर रहे हैं. मंदिर निर्माण निधि लेने में किसी तरह का भेदभाव नहीं कर रहे हैं. राम तो सबके हैं.

इधर राम मंदिर निर्माण के लिए बड़ी राशि समर्पण करने वाले हो या फिर छोटी राशि. सभी अपनी क्षमता और श्रद्धा के अनुसार समर्पण कर रहे हैं. उनका कहना है कि जो कुछ राम का है, हमारा कुछ नहीं है. मंदिर निर्माण में हमारा सहयोग लिया जा रहा है, इससे बड़े सौभाग्य की बात क्या हो सकती है. विहिप के प्रांत प्रवक्ता अभिषेक सिंह ने बताया कि 30 जनवरी तक बड़ी निधि का समर्पण का अभियान चल रहा है और 31 जनवरी से 14 फरवरी तक व्यापक जन अभियान चलाया जाएगा.