Rajasthan News: 24578 पंचायत सहायकों को मिला सरकारी तोहफा, अब से मानदेय होगा दुगुना

पिछले 4 साल से राज्य की पंचायत और स्कूलों में सेवा दे रहे 24578 पंचायत सहायकों (Panchayat Assistants) के मानदेय बढ़ाने के लिए 389 करोड़ की फाइल राज्य सरकार को भेजी गई है. 

Rajasthan News: 24578 पंचायत सहायकों को मिला सरकारी तोहफा, अब से मानदेय होगा दुगुना
फाइल फोटो

Jaipur: पिछले 4 साल से राज्य की पंचायत और स्कूलों में सेवा दे रहे 24578 पंचायत सहायकों (Panchayat Assistants) के मानदेय बढ़ाने के लिए 389 करोड़ की फाइल राज्य सरकार को भेजी गई है. वर्तमान में पंचायत सहायकों को मात्र 6000 रुपए प्रतिमाह मिल रहे हैं. वह भी दो से पांच महीनों बाद. अब उनके मानदेय में बढ़ोतरी करते हुए प्रतिमाह 12 हजार का प्रस्ताव भेजा गया है.

यह भी पढ़ें- Jaipur के लिए तीन पेयजल परियोजनाओं को मिली स्वीकृति, खत्म होगा जल संकट

विभाग ने भेजे गए प्रस्ताव में स्पष्ट रूप से यह स्वीकार किया है कि वर्तमान में पंचायत सहायकों को जो 6000 रुपए प्रतिमाह मिल रहे हैं वह न्यूनतम मजदूरी से भी कम है. राजस्थान विद्यार्थी मित्र पंचायत सहायक संघ (Rajasthan Vidyarthi Mitra Panchayat Sahayat Sangh) के संयोजक रामजीत पटेल  का कहना है कि महंगाई को देखते हुए 12 हजार भी बहुत कम है. परंतु इससे एक गरीब पंचायत सहायक अपना गुजारा कर पाएगा.उन्होंने मांग की कि सरकार न्यूनतम मानदेय महंगाई को देखते हुए कम से कम 18000 करे. पंचायत सहायकों का नियमितीकरण करे. 

न्यायालय में चल रहे मामलों का निस्तारण करे. वंचित विद्यार्थी मित्रों के लिए पंचायती राज परिषद (Panchayati Raj Council) की ओर से पंचायत सहायक के पदों में वृद्धि के भेजे गए प्रस्ताव को स्वीकार करके उनको पंचायत सहायक पद (Panchayat Assistant Post) पर नियुक्ति दे.अगर सरकार यह सब नहीं कर सकती तो पूर्व में रद्द की गई शिक्षा सहायक भर्ती को रिओपन करे और उसमें पंचायत सहायकों को स्थायीकरण का मौका दे. इन सभी मांगों के लिए 15 मार्च को विधानसभा का घेराव किया जाएगा.

पंचायत सहायकों की सबसे बड़ी मांग है कि उन को नियमित किया जाए, लेकिन सरकार ने साफ कर दिया कि फिलहाल उन्हें नियमित नहीं किया जाएगा, लेकिन फिलहाल मानदेय बढ़ाकर सरकार ने पंचायत सहायकों को राहत देने की कोशिश की है.

यह भी पढ़ें- Raj Government गर्मियों के लिए हुई तैयार, Jaipur, Churu, Dholpur के लिए बनी पेयजल प्लानिंग