अलवर: पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने किया अमृत जल योजना का उद्घाटन, सड़कों का शिलान्यास

पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) ने बुधवार को अलवर (Alwar) के मालवीय नगर में अमृत जल योजना का उद्घाटन किया. इसके अलावा उन्होंने वार्ड 33 में 191.32 लाख रुपए की लागत से नगर परिषद की बनाई जाने वाली 7 सड़कों और नाली निर्माण कार्यों का शिलान्यास किया. 

अलवर: पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने किया अमृत जल योजना का उद्घाटन, सड़कों का शिलान्यास
कांग्रेस नेता जितेंद्र सिंह ने नकारात्मक सोच से दूर रहने की बात कही.

जुगल गांधी, अलवर: पूर्व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह (Jitendra Singh) ने बुधवार को अलवर (Alwar) के मालवीय नगर में अमृत जल योजना का उद्घाटन किया. इसके अलावा उन्होंने वार्ड 33 में 191.32 लाख रुपए की लागत से नगर परिषद की बनाई जाने वाली 7 सड़कों और नाली निर्माण कार्यों का शिलान्यास किया. 

इस मौके पर जितेंद्र सिंह ने कहा कि अमृत जल योजना (Amrit Jal scheme) शुरू होने से कृषि भूमि(Agricultural Land) पर बसी कॉलोनियों में पानी की समस्या दूर होगी. उन्होंने कहा कि जिले में पानी की समस्या को देखते हुए चंबल का पानी अलवर लाने, मेडिकल कॉलेज, यूनिवर्सिटी और सैनिक स्कूल खोलने का सपना देखा था, लेकिन जब प्रदेश में बीजेपी का शासन आया तो विकास कार्य रोक दिए गए. 

पानी की आपूर्ति होगी शुरू
उन्होंने कहा कि हम नकारात्मक सोच से दूर रहते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि अलवर शहर के मालवीय नगर में गांव और कच्ची बस्ती आती थी. अब वहां विकास कार्य हो रहे हैं और सड़क बन रही हैं. उन्होंने यहां जल्द ही पानी की आपूर्ति शुरू होने की बात कही. 

LIVE TV देखें:

चंबल का पानी आएगा अलवर
कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे श्रमराज्य मंत्री टीकाराम जूली ने कहा कि 5 हजार करोड़ की लागत से चंबल का पानी अलवर लाया जाएगा.

इस दौरान उन्होंने बीजेपी के शासनकाल में कांग्रेस शासनकाल में शुरू हुए विकास कार्य रोकने की बात कही. उन्होंने केंद्र सरकार पर सूचना के अधिकार को कमजोर करने का आरोप भी लगाया.

उन्होंने कहा कि देश को हिंदू-मुसलमान के नाम पर बांटा जा रहा है. उन्होंने कहा कि देश में मंदी के कारण लोग बेरोजगार हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि जिले की बंद होने की कगार पर खड़ी 10 फैक्ट्रियों में से 4 नीमराना में हैं. 

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि नगर परिषद में नेता प्रतिपक्ष नरेंद्र मीणा थे. इसके अलावाकांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष योगेश मिश्रा, हरेंद्र शर्मा, संजीव बारेठ, श्वेता सैनी, जोगेंद्र कोचर, रमन सैनी, प्रेम पटेल, प्रदीप आर्य, गोपाल दास खटीक, अजय मेठी, कमलेश सैनी, शिवलाल प्रधान समेत कार्यकर्ता, नगर परिषद और जलदाय अधिकारी मौजूद थे.