close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस

झालावाड़ पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी ने बताया कि पीड़ित महिला आरोपियों की डर की वजह से भालता थाना नहीं पहुंचकर उनके पास आई और परिवाद देकर भालता थाने में मामला दर्ज करवाया.

राजस्थान: महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म का मामला दर्ज, जांच में जुटी पुलिस
प्रतीकात्मक तस्वीर

झालावाड़: राजस्थान के झालावाड़ जिले के भालता थाना क्षेत्र की एक विवाहिता से सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है. पीड़ित महिला ने 7 लोगों पर सामूहिक दुष्कर्म का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया है. भालता थाना अधिकारी सत्यनारायण मालव ने बताया कि पीड़ित महिला ने एसपी को दिए परिवाद के आधार पर मानपुरा गांव के 7 लोगों पर आरोप लगाते हुए बताया कि वह देर शाम शौच के लिए गई हुई थी, इसी दौरान मानपुरा निवासी तीन सगे भाई बनेसिंह, दीवान और घनश्याम सहित 7 लोग उसे उठाकर ले गए और सामूहिक दुष्कर्म किया. पीड़िता का कहना है कि यह घटना 

जिसके बाद पीड़िता ने एसपी कार्यालय में परिवाद दिया, जिस पर भालता थाना पुलिस ने गैंग रेप के आरोप में सात नामजद लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. मामले की जांच अकलेरा डीएसपी जसवीर मीणा कर रहे हैं. पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है.

वहीं पूरे मामले में झालावाड़ पुलिस अधीक्षक राममूर्ति जोशी ने बताया कि पीड़ित महिला आरोपियों की डर की वजह से भालता थाना नहीं पहुंचकर उनके पास आई और परिवाद देकर भालता थाने में मामला दर्ज करवाया. पीड़िता के बताए अनुसार सात नामजद लोगों के खिलाफ मामला दर्ज है और इसकी जांच अकलेरा डीएसपी जसवीर मीणा के द्वारा करवाई जा रही है और पूरे मामले को निष्पक्षता और पारदर्शिता के साथ तफ्तीश करते हुए आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा.

सामूहिक दुष्कर्म की घटना के बाद चाहे झालावाड़ पुलिस अधीक्षक राम मूर्ति जोशी निष्पक्ष जांच और आरोपियों के खिलाफ जल्द कार्रवाई का विश्वास दिला रहे हों, लेकिन अपराधी आंकड़ों की बात की जाए तो बीते 17 दिनों में झालावाड़ जिले के थानों में 17 दुष्कर्म के मामले दर्ज हुए हैं. जिनमें 11 मामले बलात्कार, चार मामले सामूहिक दुष्कर्म तथा दो नाबालिग बच्चियों से दुष्कर्म की घटनाएं सामने आई हैं. ऐसे में कहीं न कहीं झालावाड़ पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े होते नजर आ रहे हैं.