close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान पुलिस ने दूसरे राज्यों से अपहृत 3 युवकों को कराया मुक्त, 9 गिरफ्तार

जिन युवकों की कार लूटी गई थी, उन्होंने देर रात पुलिस कंट्रोल रूम पर सूचना दी थी. जिसके बाद पुलिस ने मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर गिरोह तक पहुंची.

राजस्थान पुलिस ने दूसरे राज्यों से अपहृत 3 युवकों को कराया मुक्त, 9 गिरफ्तार
पुलिस ने 12 घंटे से अधिक समय तक सभी फ्लैट में तलाशी अभियान चलाया.

शरद पुरोहित/जयपुर: राजस्थान पुलिस ने अमीर परिवार के लोगों को अपहरण कर फिरौती मांगने वाले हरियाणा के गिरोह का पर्दाफाश किया है. पुलिस ने गिरोह से जुड़े एक महिला सहित 9 बदमाशो को गिरफ्तार किया है. वहीं पुलिस ने अपरणकर्ताओं के चुंगल से तीन युवको को मुक्त करवाया है.

दरसल जयपुर पुलिस को कल देर रात सूचना मिली थी कि मालवीय नगर इलाके से कुछ बदमाशों ने एक कार लूटी है. बदमाशों ने कार लूटने के दौरान तीन युवकों का भी अपहरण किया, हालांकि कुछ दूर पहुंचने के बाद बदमाश पीड़ित को रास्ते में उतार कर कार लेकर फरार हो गए. वहीं पीड़ितों का मोबाइल कार में रह गया. बस इसी मोबाइल की लोकेशन को ट्रेस कर पुलिस बदमाशों तक पहुंची. 

जिन युवकों की कार लूटी गई थी, उन्होंने देर रात पुलिस कंट्रोल रूम पर सूचना दी थी जिसके बाद पुलिस ने मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर गिरोह तक पहुंची. पुलिस जैसे ही गिरोह तक पहुंची तो मामला कार लूट के साथ एक बड़ी साजिश का निकला. एडिश्नल कमिश्नर संतोष चालके ने बताया कि हरियाणा के इसी गिरोह ने आंध्र प्रदेश, मुंबई और बीकानेर से तीन युवकों को अपहरण किया था. गिरोह बगरू टोल के पास स्तिथ शंकरा रेजिडेंसी के फ्लैट में अपरण युवकों को कैद करके रखा है. जैसे ही पुलिस मौके पर पहुंची तो इस पूरी वारदात का पर्दाफाश हुआ.

बगरू टोल के पास शंकरा रेजिडेंसी में पिछले 2.5 महीने से हरियाणा का यह गिरोह किराए के फ्लैट में रह रहा था. 7 दिन पहले ही तीनों अपरहृत युवकों को गिरोह फ्लैट में लेकर आया था. यहां युवकों को अपहरण कर उनसे मारपीट और बर्बरता की जा रही थी. जांच में सामने आया कि पीड़ित के हाथ और पैर के नाखूनों उखाड़े गए. वहीं एक पीड़ित के हाथ पर गोली भी मारी गई. पुलिस ने गिरोह से देशी पिस्टल और हथियार कारतूस बरामद किए हैं. गैंग के कब्जे से बीएमडल्ब्यू, मर्सिडीज, स्कॉर्पियो जैसी लक्जरी कारें बरामद की गई हैं. 

वहीं अपहृतयुवकों में से एक मुंबई, दूसरा कर्नाटकऔर तीसरा बीकानेर शहर का है. डीसीपी वेस्ट विकास शर्मा ने बताया कि बदमाशो ने पीड़ितों के परिजनों से खातों में रुपये भी डलवा रखे है. अब तक की जांच में सामने आया कि नौकरी का झांसा देकर गिरोह ने पीड़ितों का अपहरण किया है. यानी कि नौकरी का झांसा देकर सभी को बुलाया गया और फिर अपहरण की वारदात को अंजाम दिया गया. तीन पीड़ितों में से दो आपस में एक दूसरे को जानते हैं.

एडीशनल कमिश्नर क्राइम संतोष चालके ने बताया कि करीब 200 पुलिसकर्मियों की टीम ने सुबह 2:30 बजे से लेकर शाम तक सर्च ऑपरेशन चलाया. सर्च ऑपरेशन में ईआरटी टीम , क्यूआरटी, एटीएस, क्राइम ब्रांच, सहित आसपास के थानों के टीम मौजूद रही. पहले एक बदमाश को गिरफ्तार किया गया जिसके बाद उनकी निशानदेही पर एक एक सभी बदमाशों को पकड़ा गया. पुलिस ने 12 घंटे से अधिक समय तक एक-एक फ्लैट में तलाशी अभियान चलाया. जबकि तीन बदमाश पुलिस के डर से पानी की टंकी में छुप गए थे, उन्हें पानी की टंकी से पकड़ा गया.
 
बता दें कि गिरोह में एक महिला भी शामिल है. पुलिस यह भी जांच कर रही है कि महिला गिरोह में कब शामिल हुई, वही बदमाशों ने फ्लैट लेते समय पुलिस वेरिफिकेशन करवाया था या नहीं इसकी भी जांच की जा रही है. फिलहाल सभी आरोपी पुलिस की गिरफ्त में है और उनसे पूछताछ जारी है. पुलिस पूछताछ में कई बड़ी वारदातों का खुलासा संभावना है.