राजस्थान पुलिस की पहल, थाने की सभी वाहनों पर लगेंगे सुरक्षा संसाधनों से लैस बॉक्स

इस बॉक्स में वह सभी संसाधन समान जिसमे ढाल, डंडा, हेल्मेट के साथ ही वह सभी सामान है, जो किसी भी परिस्तिथि में जवानों के लिए 24 घंटे उपलब्ध रह सकेंगे.

राजस्थान पुलिस की पहल, थाने की सभी वाहनों पर लगेंगे सुरक्षा संसाधनों से लैस बॉक्स
यह नवाचार पुलिस के लिए मददगार भी साबित हो रहे हैं.

भवानी भाटी/जोधपुर: प्रदेश के शहर जोधपुर में कमिश्नरेट पुलिस ने पुलिस में अनूठा नवाचार किया है. कमिश्नरेट के सवेदनशील थाना इलाके में किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए थानों की पुलिस सभी सुरक्षा संसाधनों से लैस रहेगी. थाना इलाके में किसी भी पथराव, विबाद पर भीड़ को नियंत्रित करने के लिए आरएसी, एसटीएफ के आने तक का अब थाना पुलिस को इंतजार नहीं करना पड़ेगा. इसके लिए संवदेनशील थाना इलाको की पुलिस जीप पर एक खास बॉक्स लगाया गया है. इस खास बॉक्स, बॉक्स में ढाल, डंडे, हैलमेट सहित सुरक्षा का सामान हर समय यानि 24 घंटे साथ रहेगा. ऐसे में पथराव भीड़ को नियंत्रित करने के साथ ही ड्यूटी पर जवानों की पूरी सुरक्षा भी हो सकेगी. प्राम्भिक तौर पर इसे 6 थानों में लगाया गया है.  

राजस्थान पुलिस में लगातार नवाचार किए जा रहे हैं. इसके तहत जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट में भी नवाचार किया जा रहा है. किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए पुलिस ने अनूठी पहल करते हुए संवेदनशील थानों के वाहनो पर एक बॉक्स लगाकर इसमें वह सभी सामान यानि संसाधन रखे हैं, ताकि पथराव, हंगामा और विवाद होने के स्थिति को नियंत्रित करने और जवानों की सुरक्षा में मदद मिले. वहीं इससे अतिरिक्त जाब्ता आरएसी के आने से पहले ही थाना का जाब्ता मोर्चा संभाल सकने में सक्षम होंगे.

यह जोधपुर कमिश्नरेट के संवेदनशील थानो की जीपों पर लगाए गए हैं. इस बॉक्स में वह सभी संसाधन समान जिसमे ढाल, डंडा, हेल्मेट के साथ ही वह सभी सामान है, जो किसी भी परिस्तिथि में जवानों के लिए 24 घंटे उपलब्ध रह सकेंगे. ताकि हंगामा, प्रदर्शन, पथराव के दौरान सुरक्षित तरीक़े से जवान अनिंयत्रित भीड़ का सामना कर सके और भीड़ और विवाद से निपट सके. पुलिस कमिश्नरेट में लागू की गई इस व्यवस्था से थानो की पुलिस को आरएसी या अतिरिक्त जाब्ता आने तक इंतजार नहीं करना पड़ेगा. 

हाल में जोधपुर के सूरसागर में हुए तनाव में जिस तरह का मामला सामने आया था. इसके बाद पुलिस कमिश्नर बीजू जॉर्ज जोसेफ, डीसीपी मुख्यालय डॉ रवि ने इसकी पहल की. शुरुआती तोर पर इस व्यवस्था या यूं कहें अनूठी पहल करते हुए कमिश्नरेट के सवेदनशील इलाको के थानों में लागू किया गया. इसके सार्थक परिणाम भी सामने आ रहे है. इसके सफल होने के बाद इसे पूरे पुलिस कमिश्नरेट के सभी थानों में लागू किया जाएगा.

बहरहाल जोधपुर पुलिस में भी लगातार नवाचार किए जा रहे हैं. यह नवाचार पुलिस के लिए मददगार भी साबित हो रहे हैं. ऐसे में सुरसागर थाना इक्के में उपजे विवाद के बाद पुलिस ने एक पहल जी है, लेकिन देखने वाली बात यह है कि पुलिस की यह पहल और नवाचार कितने कारगर साबित होते है.