पकड़े जा रहे अपराधी, राजस्थान पुलिस खेल रही तू डाल-डाल, मैं पात-पात का दांव

राजस्थान पुलिस ने संगठित अपराधियों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान शुरु किया है

पकड़े जा रहे अपराधी, राजस्थान पुलिस खेल रही तू डाल-डाल, मैं पात-पात का दांव
प्रदेश भर टॉप अपराधियों पर नकेल कसने की तैयारी शुरु कर दी गई है.

जयपुर: प्रदेश में संगठित अपराधों को रोकने के लिए खुद सीएम अशोक गहलोत गंभीर हैं. बीते दिनों सीएम ने गृह विभाग की बैठकों में पुलिस अधिकारियों को इसके निर्देश भी दिए हैं. 

इसके बाद राजस्थान पुलिस ने ऐसे ही संगठित अपराधियों को पकड़ने के लिए विशेष अभियान शुरु किया है, जिसके तहत प्रदेश भर टॉप अपराधियों पर नकेल कसने की तैयारी शुरु कर दी गई है.

पुलिस और सरकार के काफ़ी प्रयासों के बाद भी प्रदेश में बीते दिनों में अपराधों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है. इससे चिंतित सरकार ने राजस्थान पुलिस को आदतन अपराधियों को पकड़ने के लिए विशेष कार्य योजना बना कर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं. सरकार से मिले निर्देशों के बाद पुलिस मुख्यालय ने इस पर काम करना भी शुरू कर दिया है. 

एडीजी क्राइम बीएल सोनी के अनुसार, अब हर जिले में वहां के टॉप 25 पुलिस अधिकारियों की सूची तैयार कराई जा रही है. इस सूची में उन अपराधियों के नाम शमिल किए जा रहे हैं, जो आदतन अपराधी हैं और इनामी भी हैं. खास बात यह है कि इस सूची को प्रदेश के सभी जिलों के साथ शेयर किया जाएगा. इसका मतलब यह हुआ कि इन अपराधियों को किसी भी जिले की पुलिस गिरफ्तार कर सकती है. 

जैसे ही 25 में से किसी भी अपराधी को गिरफ़्तार किया जाएगा. नए अपराधी को उस सूची में जोड़ लिया जाएगा. इस प्रयोग के बाद पुलिस मुख्यालय को उम्मीद है कि अधिक से अधिक अपराधी पुलिस की पकड़ में होंगे. अभी दूसरे जिले में अपराधियों का डाटा नहीं होने से अपराधी आसानी से दूसरे जिले में पहुंच जाते हैं और पुलिस की पहुंच से बाहर हो जाते हैं.

जिलों के साथ ही पुलिस थानों में भी इस योजना पर काम शुरू हो गया है.  सभी पुलिस थानों में भी 10 टॉप अपराधियों की सूची तैयार की गई है. इस सूची में भी ऐसे अपराधियों को ही शामिल किया गया है, जो आदतन हैं और इनामी भी हैं. इस सूची को भी जिलों के सभी थाने में शेयर किया गया है. इसके साथ ही पुलिस मुख्यालय ने पपला गुर्जर का क्राइम डाटा सभी जिलों को भेजा है.