close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान पुलिस की पहल, वाहन चोरी होने पर अब दर्ज होगी ई एफआईआर

पुलिस मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में डीजीपी ओपी गल्होत्रा ने ई एफआईआर सिस्टम का शुभारंभ किया.

राजस्थान पुलिस की पहल, वाहन चोरी होने पर अब दर्ज होगी ई एफआईआर
डीजीपी ओपी गल्होत्रा ने कार्यक्रम के दौरान एलएमएस का भी शुभारंभ किया

जयपुर: राजस्थान पुलिस भी बदलते वक्त के साथ अब हाईटेक हो रही है. इसी कड़ी में गुरूवार को जयपुर में स्थित पुलिस मुख्यालय में ई एफआईआर व एलएमएस का शुभारंभ हुआ. जिसके जरिए वाहन चोरी होने पर राजस्थान के लोगों को अब थानों या अधिकारियों के चक्कर लगाने की जरुरत नहीं होगी. घर बैठे ऑनलाइन माध्यम के जरिये अब वाहन चोरी की FIR दर्ज करवायी जा सकेगी. इस सुविधा को सीसीटीएनएस से जोड़ने के साथ ही राजस्थान देश का पहला राज्य बन गया है जहां पर इंटरनेट के जरिये वाहन चोरी का मुकदमा दर्ज हो सकेगा. 

पुलिस मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में डीजीपी ओपी गल्होत्रा ने ई एफआईआर सिस्टम का शुभारंभ किया. इस दौरान जैसलमेर में चोरी हुए वाहन की रिपोर्ट ऑनलाइन दर्ज करवाकर डेमो दिया गया. ई एफआईआर के जरिये रिपोर्ट दर्ज होने के बाद परिवादी व थानाधिकारी के पास मैसेज पहुंचेगा. उसके बाद चोरी हुए वाहन का कहीं चालान होता है या फिर रेड लाइट तोड़ता है तो उस समय भी वो वाहन पुलिस की नजर में आ जायेगा. जिसके जरिये वाहन चोरों तक पुलिस आसानी से पहुंच सकेगी.

डीजीपी ओपी गल्होत्रा ने कार्यक्रम के दौरान एलएमएस का भी शुभारंभ किया. एलएमएस यानि कि लर्निंग मेनेजमेंट सिस्टम को राजस्थान स्टेट क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने डीओटी की सहायता से तैयार किया है. एससीआरबी एडीजी हेमंत प्रियदर्शी व डीआईजी शरत कविराज ने प्रजेंटेशन के जरिए ई एफआईआर व एलएमएस के बारे में तमाम पुलिस अधिकारियों को जानकारी दी.

एलएमएस के जरिए प्रदेश के तमाम पुलिस अधिकारी व पुलिसकर्मी लॉग इन कर अपने ज्ञान व कौशल का विकास कर सकेंगे. इस सॉफ्टवेयर के जरिए वीडियो के माध्यम से पुलिसकर्मी विभिन्न कानूनों से संबंधित जानकारी ले सकेंगे तो वहीं हथियार चलाने का प्रशिक्षण भी वीडियो के माध्यम से मिलेगा. डीजीपी ओपी गल्होत्रा ने कहा कि ई तकनीक पुलिसकर्मियों के लिए काफी कारगर होगी साबित होगी. 

चुनावी समय में पुलिस की ओर से दी गयी इन सुविधाओं का आमजन को फायदा मिल सकेगा और लोगों को थानों के चक्कर काटने से निजात मिलेगी. वहीं पुलिसकर्मियों को भी वीडियों के जरिये काफी मदद मिलेगी जिससे शहर में बढ़ रहे क्राईम पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी.