Rajasthan PCC की नई कार्यकारिणी का ऐलान, Dotasra को मिले स्पेशल-39, जानें नाम

पीसीसी की नई टीम में 7 उपाध्यक्ष 8 महासचिव और 24 सचिव बनाए गए हैं. सूची में 11 विधायकों को अलग-अलग जिम्मेदारियां दी गई हैं.

Rajasthan PCC की नई कार्यकारिणी का ऐलान, Dotasra को मिले स्पेशल-39, जानें नाम
माकन ने राजस्थान के चारों पावर सेंटर के बीच सामंजस्य बनाते हुए इस सूची को जारी किया है.

जयपुर: आखिरकार 6 महीने के लंबे इंतजार के बाद राजस्थान कांग्रेस (Rajasthan Congress) को उसकी नई कार्यकारिणी मिल ही गई. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (All india congress committee) ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) को स्पेशल 39 दे दिए हैं, जिनके बलबूते आने वाले दिनों में पहले निकाय चुनाव (Nikay Election), पंचायत चुनाव (Panchayat Election) और फिर उपचुनाव की नैया पार लगाने का दारोमदार रहेगा. 

यह भी पढ़ें- जिला अध्यक्षों की नियुक्ति को लेकर Rajasthan Congress का नया फॉर्मूला, दिए संकेत

इस नई टीम पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) और गोविंद सिंह डोटासरा (Govind Singh Dotasra) के अलावा पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट (Sachin Pilot) और विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी (CP Joshi) की छाप नजर आ रही है. यानी प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अजय माकन (Ajay Maken) ने राजस्थान के चारों पावर सेंटर के बीच सामंजस्य बनाते हुए इस सूची को जारी किया है. 

 यह भी पढ़ें- खत्म होने को है Rajasthan Congress की नई टीम का इंतजार, इन नामों पर चर्चा तेज़ !

सूची में 11 विधायकों को दी गई अलग-अलग जिम्मेदारियां 
पीसीसी की नई टीम में 7 उपाध्यक्ष 8 महासचिव और 24 सचिव बनाए गए हैं. सूची में 11 विधायकों को अलग-अलग जिम्मेदारियां दी गई हैं हालांकि वरिष्ठ उपाध्यक्ष संगठन महासचिव और मीडिया चेयरपर्सन पद पर नियुक्ति का ऐलान नहीं हुआ है. कार्यकारिणी में सिर्फ 4 महिलाओं रीटा चौधरी, नसीम अख्तर, राखी गौतम और शोभा सोलंकी को शामिल किया गया है.  

7 उपाध्यक्षों के नाम
गोविंद राम मेघवाल, हरिमोहन शर्मा, डॉ. जितेंद्र सिंह, महेंद्रजीत सिंह मालवीय, नसीम अख्तर इंसाफ, राजेंद्र चौधरी, रामलाल जाट 

8 महासचिवों के नाम
जी.आर. खटाना, हाकम अली, लाखन मीणा, मांगीलाल गरासिया, प्रशांत बैरवा, राकेश पारीक, रीटा चौधरी, वेद प्रकाश सोलंकी.

24 सचिवों के नाम
भूराराम सीरवी, देशराज मीणा, गजेंद्र सांखला, जसवंत गुर्जर, जियाउर्रहमान,  ललित तूनवाल, ललित यादव, महेंद्र खेड़ी,  महेंद्र सिंह गुर्जर, मुकेश वर्मा, निम्बा राम गरासिया, फूल सिंह ओला, प्रशांत शर्मा, प्रतिष्ठा यादव, पुष्पेंद्र भारद्वाज, राजेंद्र मूंड,  राजेंद्र यादव, राखी गौतम, राम सिंह कंस्वा, रवि पटेल, सचिन सरवत, शोभा सोलंकी, श्रवण पटेल, विशाल जांगिड़ को सचिव की जिम्मेदारी दी गई है. 

CM गहलोत और डोटासरा का पलड़ा भारी
सूची में अगर सियासी समीकरणों को बात की जाए तो सीएम गहलोत-डोटासरा का पलड़ा भारी लग रहा है. 39 में से करीब 25 नेता सीएम गहलोत और गोविंद सिंह डोटासरा खेमे से हैं. वहीं, सचिन पायलट खेमे के 12 नेताओं को मौका मिला है. सीपी जोशी कैंप के भी दो नेताओं को जगह मिली है.  

पायलट के 12 ‘को-पायलट’  
इस लिस्ट में उन विधायकों के नाम भी शामिल हैं, जो गहलोत और पायलट के बीच सत्ता संग्राम के दौरान पायलट के साथ बाड़ेबंदी में रहे थे. इसमें वेद प्रकाश सोलंकी, जीआर खटाना, राकेश पारीक शामिल हैं. इनके अलावा पायलट के साथ कार्यकारिणी में काम कर चुके कुछ पदाधिकारियों को फिर से कार्यकारिणी में शामिल किया गया है. पायलट समर्थकों को इस कार्यकारिणी में जगह मिलने से यह साफ हो गया कि कांग्रेस आलाकमान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व डिप्टी सीएम पायलट को साथ लेकर चलना चाह रहा है.  

आलाकमान का आभार 
कार्यकारिणी की घोषणा के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने ट्वीट कर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारिणी के लिए कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को धन्यवाद दिया. गहलोत ने नवगठित कार्यकारिणी के सभी पदाधिकारियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी. गहलोत ने अपने संदेश में कहा कि मुझे उम्मीद है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविन्द सिंह डोटासरा के नेतृत्व में सभी कार्यकारिणी सदस्य भी कांग्रेस पार्टी की नीतियों, कार्यक्रम, सिद्धांत एवं विचारधारा को गांव-गांव तक पहुंचाने में कामयाब होंगे. 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने भी कार्यकारिणी में जगह पाने वाले सभी पदाधिकारियों को नई जिम्मेदारी की बधाई और शुभकामनाएं दी हैं. वहीं पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने भी ट्वीट कर सभी नवनियुक्त पदाधिकारियों को बधाई देते हुए उज्जवल भविष्य की कामना की है. 

राजस्थान में ‘हाथ’ की मजबूत होगी पकड़ 
कार्यकारिणी में 11 विधायकों को जगह दी गई है. इनमें विधायक गोविंद मेघवाल, जितेन्द सिंह गुर्जर, महेन्दजीत मालवीय, रामलाल जाट, जीआर खटाना,हाकिम अली,लाखन मीणा, प्रशांत बैरवा, राकेश पारिक, रीटा चौधरी और वेद सोलंकी को लिया गया है. इससे साफ है कि एक व्यक्ति एक पद के सिद्धान्त को बिल्कुल नजरअंदाज किया गया है. 5 पूर्व विधायक नसीम अख्तर, महेंद्र गुर्जर, मांगीलाल गरासीया, हरिमोहन शर्मा और राजेन्द्र चौधरी को भी शामिल किया गया है. 

6 विधायक का चुनाव हारने वाले नेताओं नसीम अख्तर इंसाफ, पुष्पेन्द भारद्वाज, मांगीलाल गरासीया, शोभा सोलंकी, प्रशांत शर्मा और राखी गौतम को भी इसमें शामिल किया गया है. तीन मुस्लिम चेहरों को भी लिया गया है हालांकि जो विधायक कार्यकारिणी में आए हैं, उनमें कई ऐसे भी हैं, जो पदाधिकारी बनने के इच्छुक नहीं थे. इसके बावजूद राजनीतिक नियुक्तियों में रास्ता साफ करने के मकसद से पीसीसी में एडजस्ट किया गया है. कुल मिलाकर आने वाले निकाय चुनाव से ठीक पहले इस टीम के ऐलान से गोविंद सिंह डोटासरा के हाथ मजबूत हुए हैं अब इस टीम पर चुनाव में कांग्रेस को जिताने की जिम्मेदारी होगी. 

स्क्रिप्ट- कृष्ण सैनी