राजस्थान: सचिन पायलट ने मनरेगा श्रमिकों से किया संवाद, दिया यह बड़ा आदेश...

राजस्थान में मनरेगा श्रमिकों की मजदूरी 199 रूपये से बढ़ाकर की 220 रूपये प्रतिदिन की जा चुकी है. उनके कार्य का समय भी सुबह 6 बजे से दोपहर 1 बजे तक कर दिया गया है.

राजस्थान: सचिन पायलट ने मनरेगा श्रमिकों से किया संवाद, दिया यह बड़ा आदेश...
सचिन पायलट ने कहा हमने मनरेगा की मजदूरी दर में पहले ही इजाफा कर दिया है.

जयपुर: उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बुधवार को चाकसू विधानसभा क्षेत्र में मनरेगा कार्यों का जायजा लिया. पायलट अधिकारियों की टीम के साथ चाकसू कुम्हारवाली ग्राम पंचायत के फतेहपुर गांव में पहुंचे और मनरेगा श्रमिकों से संवाद किया. मनरेगा श्रमिकों के सोशल डिस्टेंसिंग सैनिटाइजिंग को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश दिए. 

सचिन पायलट ने कहा वर्तमान में जिस तरह के हालात हैं उसमें रोजगार का संकट पैदा हो गया है. ऐसे में मजदूरों की दशा को सुधारने के लिए और देश की आर्थिक व्यवस्था को बनाए रखने के लिए मनरेगा सबसे बड़ा माध्यम है. सचिन पायलट ने कहा हमने मनरेगा की मजदूरी दर में पहले ही इजाफा कर दिया है. 

राजस्थान में मनरेगा श्रमिकों की मजदूरी 199 रूपये से बढ़ाकर की 220 रूपये प्रतिदिन की जा चुकी है. उनके कार्य का समय भी सुबह 6 बजे से दोपहर 1 बजे तक कर दिया गया है. इसके अलावा
मेट कारीगर के लिए भी मजदूरी दर को बढ़ाकर 213 रूपये से 235 रूपये प्रतिदिन की जा रही है. 

सचिन पायलट ने कहा इसके अलावा एक बड़ा फैसला जो राजस्थान के मनरेगा श्रमिकों के लिए किया गया है कि उनके घर और खेत में किए जाने वाले कार्यों को भी अब मनरेगा में शामिल कर लिया गया है. यानी मनरेगा श्रमिक अपने घर पर या खेत पर कोई निर्माण कार्य कर रहे हैं उनको भी मनरेगा का कार्य माना जाएगा और उनको मजदूरी दी जाएगी. 

बता दें कि, इससे ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को मिलेगा आर्थिक सम्बल. सचिन पायलट ने कहा हमने मनरेगा श्रमिकों का भुगतान समय पर पूरा किया है. हालांकि, केंद्र सरकार से अभी भी बकाया भुगतान की मांग कर रहे हैं. प्रवासी मजदूरों के सवाल पर सचिन पायलट ने कहा जब हवाई यात्रा से लोगों को वापस बुलाया जा सकता है. कोटा से बच्चों को वापस भेजा जा सकता है तो केंद्र को प्रवासी राजस्थानियों को भी घर वापस भेजना चाहिए. केंद्र सरकार को इस संबंध में जल्द निर्णय लेना चाहिए.