close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: वरिष्ठ नागरिकों को FREE में तीर्थ यात्रा की सौगात, ऐसे करें आवेदन

वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजना के तहत तीर्थ स्थानों पर जाने वाले इच्छुक लोग 28 जुलाई तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं.

राजस्थान: वरिष्ठ नागरिकों को FREE में तीर्थ यात्रा की सौगात, ऐसे करें आवेदन
आवेदक व उसके साथ जाने वाले सहायक के पास भामाशाह कार्ड होना आवश्यक है. (फाइल फोटो)

जयपुर: प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के साथ ही वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजना के तहत तीर्थ स्थलों में भी बदलाव कर दिया गया है. राज्य सरकार ने योजना के तहत जिन 16 तीर्थस्थलों की सूची जारी की गई है. उसमें अयोध्या, प्रयाग (इलाहाबाद), सम्मेद शिखर, कोच्ची तीर्थ स्थल को शामिल नहीं किया है. यानि की इस बार इच्छुक लोग अयोध्या, प्रयाग (इलाहाबाद), सम्मेद शिखर, कोच्ची तीर्थ स्थल की यात्रा पर नहीं जा सकेंगे.

इनके स्थान पर 4 नए तीर्थ स्थलों को पहली बार शामिल किया है. इनमें गंगासागर, पशुपतिनाथ काठमांडू, ख्वाजा मोइद्दीन चिश्ती की दरगाह अजमेर और गोवर्धन ब्रज सर्किट शामिल है. रेल से रामेश्वरम, जगन्नाथपुरी, तिरुपति, द्वारकापुरी, वैष्णोदेवी, अजमेर दरगाह, सलीम चिश्ती की दरगाह (फतेहपुर सीकरी) आगरा, हरजत निजामुद्ददीन औलिया की दरगाह नई दिल्ली, गोवर्धन (परिक्रमा)- मथुरा-वृंदावन (बृज सर्किट) की यात्रा कराई जाएगी. जबकि हवाई जहाज से अमृतसर, श्रवणबेलगोला, गोवा, शिरडी शनि-त्रयंबकेश्वर (नासिक)- मुंबई दर्शन, कामाख्या (गुवाहाटी संग्रहालय), उज्जैन (महाकालेश्वर, काल भैरव, हरसिद्धि व नवग्रह मंदिर), देहरादून (हरिद्वार, ऋषिकेश), गंगासर (दहितोश्वर काली, वैलूरमठ- कोलकाता) व पशुपतिनाथ- काठमांडू (नेपाल) की यात्रा कराई जाएगी.

वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजना के तहत तीर्थ स्थानों पर जाने वाले इच्छुक लोग 28 जुलाई तक ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं. इस बार 10 हजार वरिष्ठ नागरिकों को रेल और हवाई जहाज से तीर्थस्थलों की निशुल्क यात्रा कराने का लक्ष्य है. 60 साल और इससे अधिक आयु वाला मानसिक-शारीरिक रूप से स्वस्थ राजस्थान का निवासी आवेदन कर सकता है. 

60 साल से अधिक आयु के अधिस्वीकृत पत्रकारों के लिए 5 प्रतिशत कोटा रखा गया है. इसके लिए पत्रकार का भी वरिष्ठ नागरिक होना जरूरी है. आवेदन पत्र विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं. आवेदक को अपनी पसंद के 3 तीर्थस्थल वरीयता क्रम से भरने होंगे. रेल से तीर्थयात्रा कराने वाले 65 साल से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक को सहायक ले जाने की अनुमति होगी. सहायक की आयु 21 से 50 साल के बीच होनी चाहिए. पति/पत्नी के साथ यात्रा करने पर सहायक नहीं जा सकेंगे.

आवेदक व उसके साथ जाने वाले सहायक के पास भामाशाह कार्ड होना आवश्यक है, जो आधारकार्ड से लिंक हो. साथ ही आवेदक राजस्थान का मूल निवासी हो, आयु 1 अप्रैल 2019 को 60 साल होनी चाहिए, आयकरदाता नहीं हो, भिखारी व संक्रामक रोगी नहीं हो. इस योजना के तहत पहले यात्रा नहीं की हो. यदि किसी व्यक्ति ने गलत जानकारी देकर तीर्थस्थलों की यात्रा की, तो उससे यात्रा पर खर्च होने वाली कुल राशि 25 प्रतिशत जुर्माने सहित वसूली जाएगी.

बहरहाल, वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजना में फेरबदल किया गया है. अब प्रत्येक जिले में वरिष्ठ नागरिकों को वहां की जनसंख्या के अनुपात में योजना का लाभ मिलेगा. देवस्थान विभाग ने जनसंख्या के आधार पर यात्रा के लिए प्रत्येक जिले का कोटा तय कर दिया है.