close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में SMS का भी नाम शामिल, अब अस्पताल का होगा कायापलट

पुर्ववर्ती बीजेपी सरकार के समय शुरू हुए स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के कामों को लेकर यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल पिछले दिनों सवाल खड़े कर चुके हैं.

राजस्थान: स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में SMS का भी नाम शामिल, अब अस्पताल का होगा कायापलट
फाइल फोटो

रोशन शर्माजयपुर: प्रदेश के सबसे बड़े अस्पताल का राज्य सरकार कायाकल्प करने जा रही हैं. राजधानी के सवाई मानसिंह अस्पताल को सरकार अब स्मार्ट अस्पताल बनाने जा रही हैं. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में एसएमएस अस्पताल को भी सम्मलित किया गया हैं. स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत 20 करोड़ रूपए की लागत से एसएमएस अस्पताल को रेनोवेट किया जाएगा.

दरअसल, ये फैसला स्मार्ट सिटी जयपुर की बोर्ड बैठक में लिया गया हैं. बोर्ड बैठक में अब तक स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत हुए विकास कार्यों का रिव्यू किया गया. चारदिवारी क्षेत्र में फसाड़ वर्क, स्मार्ट रोड़, पार्किंग, वाई-फाई नेटवर्क, स्पोर्ट इनडोर स्टेडियम के काम के साथ-साथ स्मार्ट क्लास रूम प्रोजेक्ट के कार्यों पर विस्तार से चर्चा की गई 

पुर्ववर्ती बीजेपी सरकार के समय शुरू हुए स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के कामों को लेकर यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल पिछले दिनों सवाल खड़े कर चुके हैं. जिसके बाद अब स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत चल रहे कामों में कई बड़े बदलाव देखने को मिल सकते हैं. कांग्रेस सरकार स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में आमजनता से जुड़े प्रोजेक्टों को शामिल करने जा रही हैं. राजधानी जयपुर के एसएमएस अस्पताल में मरीजों को होने वाली परेशानी से निजात दिलाने के लिए 20 करोड़ रूपए की लागत से स्मार्ट अस्पताल बनाने पर विचार किया जा रहा हैं. राज्य सरकार जल्द SMS अस्पताल को लेकर बनायी जा रही DPR को मंजूरी देगी. दरअसल पिछले दिनों यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल इस बारे में विधानसभा में भी धोषणा भी कर चुके हैं.

गुरुवार को स्मार्ट सिटी जयपुर की 14 वीं बोर्ड बैठक आयोजित हुई. स्वायत्त शासन सचिव भवानी सिंह देथा की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में स्मार्ट सिटी जयपुर के प्रोजेक्टों की समिक्षा की गई. स्मार्ट रोड, स्मार्ट ट्रासपोर्ट, स्मार्ट पार्किंग, वाई-फाई नेटवर्क, सहित प्रोजेक्टों की समिक्षा की गई. करीब 3 घंटे चली बैठक में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट से जुडें प्रोजेक्टों पर विस्तार से चर्चा की गई. बैठक में मेयर विष्णु लाटा, जेडीए आयुक्त टी.रविकांत, डीएलबी डायरेक्टर उज्जवल राठौड़, जिला कलेक्टर जगरूप सिंह यादव, नगर निगम कमिश्नर विजय पाल सिंह, स्मार्ट सिटी सीईओं आलोक रंजन सहित स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट से जुडें आला अफसर बैठक में मौजूद रहे

बैठक में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत हुए विकास कार्यों का रिव्यू करने के साथ- साथ प्रोजेक्ट की लागत पर भी विस्तार से चर्चा की गई. प्रोजेक्ट में कैसे कोस्ट कटिंग की जा सकती हैं. इस बारे में भी बोर्ड मेम्बर्स से सुझाव मांगे गए. वॉलसिटी में स्मार्ट सिटी मिशन के तहत चल रहे प्रोजेक्ट्स में कोस्ट कटौती की जाएगी. खास कर स्मार्ट रोड प्रोजेक्ट्स में बैठक में जयपुर के चारदिवारी क्षेत्र के अलावा झोटवाडा, विद्याधरनगर, सांगानेर, क्षेत्रों को भी शामिल करने पर चर्चा की गई.