close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: CM और विपक्ष की नोक झोंक में शामिल हुए विधानसभा अध्यक्ष, ठहाकों से गूंजा सदन

मुख्यमंत्री ने कहा नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया का पूरा व्यक्तित्व ऐसा है, उनका चेहरा ऐसा है जिस पर मासूमियत नजर आती है

राजस्थान: CM और विपक्ष की नोक झोंक में शामिल हुए विधानसभा अध्यक्ष, ठहाकों से गूंजा सदन
विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने भी चुटकी ली

सुशान्त पारीक/जयपुर: राजस्थान विधानसभा में आज राज्यपाल के अभिभाषण के जवाब के दौरान कई ऐसे अवसर आए जब सबके चेहरों पर ना केवल मुस्कान नजर आई बल्कि जमकर ठहाके भी लगे. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के संबोधन के दौरान उनके चुटीले अंदाज ने माहौल को वाद विवाद की राजनीति के बीच गंभीर माहौल को सरस बनाने का काम किया. अशोक गहलोत ने अपने अभिभाषण के जवाब की शुरुआत नेता विपक्ष गुलाबचंद कटारिया पर चुटकी लेने से की.

मुख्यमंत्री ने कहा नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया का पूरा व्यक्तित्व ऐसा है, उनका चेहरा ऐसा है जिस पर मासूमियत नजर आती है. लेकिन वह गलत पार्टी की पैरवी कर रहे हैं. इस पर सदन में पक्ष विपक्ष दोनों तरफ से ठहाके गूंजने लगे. गहलोत ने गुलाब चंद कटारिया पर चुटकी लेने का सिलसिला यहीं बंद नहीं किया इसके बाद उन्होंने कहा कि गुलाब चंद कटारिया ने वसुंधरा राजे के डर से अपनी यात्रा को बीच में बंद कर दिया था.

इतना ही नहीं वह कांग्रेस के नेताओं से मिलने भी कतराने लगे थे. गहलोत ने कहा जब गुजरात चुनाव के दौरान में वहां प्रचार कर रहा था तो मुझे जानकारी मिली कि गुलाब चंद कटारिया अपने घुटनों का इलाज करवाने के लिए आए हैं अस्पताल में भर्ती है. मैंने सोचा कि राजस्थान के गृहमंत्री हैं उनका हालचाल पूछने के लिए जाना चाहिए लेकिन जब मैंने इसके लिए फोन किया तो मुझे जवाब मिला कि नहीं मैं ठीक हो गया हूं. यहां आने की कोई आवश्यकता नहीं है. इस बात पर सदन में एक बार फिर से ठहाके गूंजे.

इसी तरह जब उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ बीच में उठकर बोलने लगे तो गहलोत ने अपने अंदाज में उन पर भी निशाना साधा. गहलोत ने कहा राजेंद्र राठौड़ मेरे पड़ोसी हैं लेकिन एक बार भी उन्होंने पड़ोसी धर्म नहीं निभाया बल्कि पड़ोसी को परेशान करने का काम करते रहे हैं. जन्मदिवस के पार्टी के अवसर पर 10 बजे बाद भी खुद मंत्री होने के बावजूद गाना गाते रहे. 

इस पर राजेंद्र राठौड़ ने पलट कर पूछा कि बता दीजिए गाना कौन सा था तो गहलोत ने फिर अपने उसी अंदाज में जवाब देते हुए कहा गाना चांद से मुखड़े का था लेकिन वो चांद बदली का था या घूंघट का था यह राजेंद्र राठौड़ ही बेहतर बता सकते हैं. इस पर राजेंद्र राठौड़ ने पलटवार करते हुए विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी से मांग की कि उनकी पत्नी का नाम चांद है, लिहाजा सदन में यह रिकॉर्ड में नहीं रखा जाए. इस पर विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने भी चुटकी ली और कहा कि यह बताने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया.