राजस्थान: चार दिन से धरने पर बैठे छात्रों को मिला एनएसयूआई का साथ

24 घंटों में सरकार द्वारा कोई फैसला नहीं लेने पर अभ्यार्थियों ने प्रदेश स्तर पर एक बड़े आंदोलन की चेतावनी दे डाली है. 

राजस्थान: चार दिन से धरने पर बैठे छात्रों को मिला एनएसयूआई का साथ
चार दिन से धरने पर बैठे अभ्यार्थी.

जयपुर: 3 जनवरी से 13 जनवरी तक आयोजित होने वाली स्कूल व्याख्याता भर्ती परीक्षा को आगे बढ़ाने की मांग को लेकर राजस्थान यूनिवर्सिटी में पिछले 4 दिनों से छात्रों का अनिश्चितकालीन धरना जारी है. लेकिन अभी तक सरकार और प्रशासन की ओर से कोई वार्ता नहीं हुई है जिसके चलते अब छात्रों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है. 24 घंटों में सरकार द्वारा कोई फैसला नहीं लेने पर अभ्यार्थियों ने प्रदेश स्तर पर एक बड़े आंदोलन की चेतावनी दे डाली है. 

उधर, मंगलवार (3 दिसंबर) को धरने पर बैठे अभ्यार्थियों को एनएसयूआई छात्र संगठन का समर्थन भी मिल गया. एनएसयूआई प्रदेशाध्यक्ष अभिमन्यु पूनियां धरना स्थल पर पहुंचकर धरने में शामिल हुए. अभिमन्यु पूनिया ने कहा की "पहले भी जब परीक्षा तिथि आगे बढ़ाने की मांग उठी थी तो उस समय एनएसयूआई ने ही सरकार से वार्ता करके परीक्षा तिथि आगे बढ़वाई थी. अब भी जब लाखों अभ्यर्थी परीक्षा तिथि आगे बढ़ाने की मांग कर रहे हैं तो एनएसयूआई मध्यस्थता करके परीक्षा तिथि आगे बढ़ाने की वार्ता सरकार से करेगी."

लाइव वीडियो देखें

वहीं, राजस्थान यूनिवर्सिटी में चार दिनों से धरने पर बैठे छात्र समीर यादव का कहना है कि "एक महीने पहले ही ईडब्ल्यूएस आरक्षण को तय करने के बाद जो आवेदन हुए उसमें करीब 2 लाख नए अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था. जिसके चलते इन अभ्यर्थियों को परीक्षा की तैयारी का बिल्कुल समय नहीं मिला. इसलिए इस परीक्षा को करीब 5 से 6 महीने आगे बढ़ाया जाना चाहिए.''