close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान के इस गांव में बचे हैं सिर्फ 8 पुरुष, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप!

इस गांव की हालत यह है कि यहां केवल विधवा और छोटे-छोटे बच्चे हैं. वहीं यह गांव दो ग्राम पंचायत कोजरा और नांदिया के सीमा पर है. 

राजस्थान के इस गांव में बचे हैं सिर्फ 8 पुरुष, वजह जानकर हैरान रह जाएंगे आप!
सिलिकोसिस के कारण इस गांव के पुरुषों की जान जा रही है.

सिरोही/ साकेत गोयल: एक गांव ऐसा भी है जहां केवल 40 से 50 घर हैं और यहां की आबादी करीब 150 से 200 है. इस गांव में मात्र 8 पुरुष ही युवावस्था में हैं और बाकियों की जान जा चुकी है. गांव में अब पुरुषों से ज्यादा महिलाएं हैं. आपको बता दें, यह दशा राजस्थान के सिरोही जिले के पिंडवाड़ा तहसील के अंतर्गत आने वाले कोजरा ग्राम पंचायत के राणमीधरा गांव की है. पिंडवाड़ा क्षेत्र में पिछले 3 वर्षों में सिलिकोसिस से 143 लोगों की मौत हो गई है और यहां करीब 1500 से अधिक लोग सिलिकोसिस से पीड़ित हैं. 

जिस कारण इस गाव में युवाओं की 30 की उम्र में ही मौत हो जाती है. इसके पीछे का कारण उनका रोजगार है. अशिक्षित होने के कारण यहां के युवा पत्थर घड़ाई करते हैं और जागरूकता की कमी के कारण गावं में अब गिनती के 8 पुरुष ही बचे हैं. यहां की महिलाएं अपना सुहाग खो चुकी हैं. 

जब इस गांव की जानकारी जी मीडिया को मिली तो जी मीडिया की टीम यहां की वास्तविकता जानने के लिए पहुंची. इस गांव की वास्तविकता के बारे में पता चला तो टीम के भी रोंगटे खड़े हो गए. इस गांव में पुरूषों से अधिक विधवाओं की संख्या है और जो पुरूष हैं, उनमें से भी कई बीमार है. यहां गांव में अनेक विधवाओं ने बताया कि उनके पति की जिंदगी सिलिकोसिस के कारण चली गई, अब परिवार में कमाने वाला कोई नहीं है. 

इस गांव की हालत यह है कि यहां केवल विधवा और छोटे-छोटे बच्चे हैं. वहीं यह गांव दो ग्राम पंचायत कोजरा और नांदिया के सीमा पर है. इसके कारण सार संभाल करने वाला कोई नहीं है.  यहां ग्रामीणों ने बताया कि उनकी सुध लेने वाला कोई भी नहीं है और न ही उनकों कोई सरकारी सहायता प्राप्त हुई है. ग्रामीणों ने बताया कि यहां विद्यालय नहीं होने के कारण करीब 6 किलोमीटर दूर बच्चों को नांदिया या शिवगढ़ स्कूल जाना पड़ता है. 

सिलिकोसिस को लेकर एक ओर चैकाने वाली बात सामने आई है कि सिलिकोसिस से सिरोही जिले के पिंडवाड़ा क्षेत्र में पिछले 3 वर्षो में अब तक सिलिकोसिस से 143 लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 1500 से अधिक लोगो सिलिकोसिस की चपेट मे हैं.