close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: तीन सरकारें बदले के बाद भी नहीं मिली 10 हजार अभ्यर्थियों को नौकरी

आचार सहिता से पहले पंचायतीराज विभाग ने पूरी प्रक्रिया शुरू करने के लिए कैलेण्डर जारी किया था. जिसमें 5 मार्च से 27 मार्च तक भर्ती प्रक्रिया को पूरी करने के आदेश दिए थे.

राजस्थान: तीन सरकारें बदले के बाद भी नहीं मिली 10 हजार अभ्यर्थियों को नौकरी
अब तक एलडीसी भर्ती में बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पाई है.

जयपुर: तीन सरकारे बदलने के बाद भी पंचायत एलडीसी भर्ती में बेरोजगारों को नौकरी नहीं निकल पाई. 6 साल बाद बेरोजगार सडकों पर भटक रहे है. कांग्रेस सरकार ने भी कैलेण्डर तो जारी किया था, लेकिन फिर से उस कैलण्डर को रद्द कर दिया गया था. लेकिन उसके बाद पंचायतीराज विभाग भर्ती को पूरी करना ही भूल गया.

राजस्थान में 2013 से तीन सरकारे बदल गई. लेकिन अब तक पंचायतीराज अभ्यर्थियों की किस्मत नहीं बदली है. 10 हजार से ज्यादा अभ्यर्थी 6 साल पहले भी बेरोजगार थे और आज भी. क्योंकि अब तक एलडीसी भर्ती में बेरोजगारों को नौकरी नहीं मिल पाई. ऐसे में अब कडी मेहनत और परिश्रम के बाद भी सरकारी नौकरी का सपना संयोए हजारों अभ्यर्थियों का भविष्य खत्म होता दिखाई दे रहा है. उनका भविष्य उनकी कमजोरी के कारण नहीं, बल्कि पंचायतीराज विभाग की कमियों के कारण भटक रहा है. 

विवादित एलडीसी भर्ती का पेंच इतना फंसा की छह साल बाद भी नहीं सुलझ पाया है. 2013 की एलडीसी में एक बार फिर कैलेण्डर रोड़ा बन गया है. दरअसल आचार सहिता से पहले पंचायतीराज विभाग ने पूरी प्रक्रिया शुरू करने के लिए कैलेण्डर जारी किया था. जिसमें 5 मार्च से 27 मार्च तक भर्ती प्रक्रिया को पूरी करने के आदेश दिए थे.

लेकिन आचार सहिता के लगने के बाद भर्ती प्रकिया का काम पूरा नहीं हो सका. जिसके बाद अब पंचायत विभाग नया कैलेण्डर जारी करना ही भूल गया. ऐसे में अब बेरोजगारों को सरकार से उम्मीद तो है,लेकिन इंतजार इस बात है दूसरा नया कैलेण्डर कब आएगा. इस संबंध में बेरोजगारों ने डिप्टी सीएम सचिन पायलट और तमाम अफसरों से मुलाकात की, लेकिन अब तक कोई समाधान नहीं निकला.

ऐसे में पंचायत विभाग के अफसरों पर सवाल उठता है कि आखिर क्यो नया कैलेण्डर जारी नहीं किया जा रहा,क्यो लगातार बेरोजगार अभ्यर्थियों को नौकरी नहीं दी जा रही है.