close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: वैभव गहलोत को लोकसभा चुनाव में जीत का पूरा भरोसा

इस मौके पर राजस्थान कांग्रेस के सभी दिग्गज नेता मौजूद नजर आए

राजस्थान: वैभव गहलोत को लोकसभा चुनाव में जीत का पूरा भरोसा
जोधपुर लोकसभा सीट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गढ़ रही है

जोधपुर: राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे और जोधपुर लोकसभा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी वैभव गहलोत ने अपना पहला चुनाव जीतने का भरोसा जताते हुए मंगलवार को कहा कि उन्हें अपार जनसमर्थन मिल रहा है.

यहां अपना नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद वैभव ने पत्रकारों से कहा, 'मैं जोधपुर के मुद्दों को भली भांति समझता हूं, लोगों की जरूरतें क्या है क्यों पुल और अंडरपास की जरूरत है और पेयजल व बिजली की आपूर्ति से जुड़े मुद्दों का निपटारा कैसे होगा.' उन्होंने कहा,' लोगों ने मुझमें भरोसा जताया है और मेरी उम्मीदवारी का समर्थन किया है. मैं मौका देने के लिए पार्टी और जनता का आभारी हूं.' इस सीट पर भाजपा की ओर से मौजूदा सांसद गजेंद्र सिंह चुनाव लड़ रहे हैं. 

वहीं इस मौके पर राजस्थान कांग्रेस के सभी बड़े नेता मौजूद नजर आए. वैभव गहलोत के नामांकन और सभा में जुटे दिग्गज 25 नेताओं की बात करें तो मुख्यमंत्री अशोक गहलोत प्रदेश, कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट, प्रदेश कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे, सह प्रभारी विवेक बंसल, यूडीएच मिनिस्टर शांति धारीवाल, चिकित्सा मंत्री रघु शर्मा, परिवहन मंत्री प्रताप सिंह, राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, ऊर्जा मंत्री बीड़ी कल्ला, महिला और बाल विकास विभाग मंत्री ममता भूपेश, कृषि मंत्री लालचंद कटारिया, उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी, मंत्री सुखराम बिश्नोई, विधायक डॉ जितेंद्र मानवेन्द्र सिंह, रिछपाल मिर्धा, बद्रीराम जाखड़, रणदीप धनकढ़, नारायण खेड़ा, जयपुर महापौर विष्णु लौटा, विधायक हीरालाल मेघवाल, सिरोही विधायक संयम लोढ़ा, विधायक दिव्या मदेरणा और धर्मेंद्र राठौड़ जैसे बड़े नेता मौजूद रहे. 

गौरलतब है कि जोधपुर लोकसभा सीट मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का गढ़ रही है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत यहां से पांच दफा सांसद रहे हैं. 45 साल के राजनीतिक कैरियर में जनता ने हमेशा उन्हें स्नेह और आशीर्वाद दिया है. लेकिन इसके बाद भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चाहते हैं वैभव गहलोत अपने दम पर चुनाव लड़े. प्रेस कॉन्फ्रेंस में कई बार ये बात दोहरा भी चुके हैं. मुख्यमंत्री की मंशा यह भी रही है कि जोधपुर के चुनाव प्रचार की कमान भी वैभव गहलोत खुद लीड करे. 

साथ ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की ये भी मंशा है कि कहीं भी यह संदेश नहीं जाए कि मुख्यमंत्री का पुत्र चुनाव लड़ रहा है यही कारण है कि टिकट वितरण के बाद मुख्यमंत्री ने वैभव गहलोत को ट्रेन से जोधपुर भेजा और अकेले ही जनसंपर्क अभियान शुरू करने के निर्देश दिए. लोकसभा क्षेत्र में कुल 19.34 लाख मतदाता हैं और यहां राज्य के पहले चरण में 29 अप्रैल को मतदान होगा.