राजस्थान के फलोदी में 2 दिन से हो रही तेज बारिश, चुनाव प्रचार हुआ प्रभावित

प्रत्याशियों को जहां एक ओर प्रचार के अंतिम दिन से पहले जमकर प्रचार करना था. वहीं अपने कार्यालय में बैठकर बारिश के बंद होने का इंतजार करना पड़ रहा है. 

राजस्थान के फलोदी में 2 दिन से हो रही तेज बारिश, चुनाव प्रचार हुआ प्रभावित
फाइल फोटो

फलोदी: नगर पालिका चुनाव का प्रचार आज शाम तक थम जाएगा लेकिन पिछले 2 दिनों से हो रही बादलों की तेज गर्जना के साथ रुक-रुक कर बारिश ने चुनाव प्रत्याशियों के मंसूबों पर पानी फेर दिया है. यहां प्रत्याशी चुनाव प्रचार के अंतिम दिन से 2 दिन पहले अपना प्रचार ठीक से कर नहीं पाए जिसके चलते प्रत्याशियों के मन में प्रचार को लेकर असंतुष्टी देखी जा रही है. 

प्रत्याशियों को जहां एक ओर प्रचार के अंतिम दिन से पहले जमकर प्रचार करना था. वहीं अपने कार्यालय में बैठकर बारिश के बंद होने का इंतजार करना पड़ रहा है. कुछ ऐसा ही नगरपालिका फलोदी के वार्ड क्रमांक 19 के प्रत्याशी अपने समर्थकों और पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बारिश के बंद होने का इंतजार करते हुए अपने कार्यालय में ही बैठे दिखाई दिए लेकिन कार्यालय में बैठे प्रत्याशियों की कवरेज कर रही जब मीडिया की टीम को देखा तो कांग्रेस प्रत्याशी दीनदयाल जोशी अपने आप को रोक नहीं पाए और उन्होंने सरकार की योजनाओं को गिनाते हुए अपने वार्ड के प्रत्येक नागरिक तक सरकारी जनकल्याणकारी योजनाओं को पहुंचाने का वादा करते हुए सदैव उनके साथ खड़ा होने की बात कह डाली.

आज शाम तक निकाय चुनाव के प्रचार का अंतिम दिन होगा लेकिन वाकई बारिश ने नगरपालिका के प्रत्याशियों के प्रचार में खलल जरूर डाल दी है. जिसके चलते तकरीबन सभी प्रत्याशी अपने आप को ठगा महसूस कर रहे हैं लेकिन प्रकृति के सामने क्या नेता क्या अभिनेता सब के सब एक समान माने जाते हैं. 

जिसके चलते इंद्रदेव की वर्षा को आज तक कोई रोक नहीं पाया. अब आज अंतिम दिन के बाद चुनाव प्रचार खत्म होते ही कल से डोर टू डोर जनसंपर्क में सभी प्रत्याशी अपना दमखम आजमाते देखे जाएंगे लेकिन इससे पहले इंद्रदेव की मेहरबानी भी बेहद आवश्यक है. 

इस बार नगर पालिका चुनाव की तस्वीर कुछ इस तरह है कुल 40 वार्डों में अब 108 प्रत्याशी चुनाव मैदान में है. जिसमें भाजपा के 38 और कांग्रेस के 38. इससे पहले दोनों ही पार्टियों के एक-एक प्रत्याशी निर्विरोध जीत दर्ज कर चुके हैं. वहीं 32 निर्दलीय प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं जो कहीं ना कहीं दोनों ही पार्टियों के सरदर्द साबित हो रहे हैं.