close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: जनता की मुश्किलें हुई आसान, परिवहन विभाग हुआ 'डिजिटल'

'वाहन सॉफ्टवेयर' और 'सारथी सॉफ्टवेयर' ने परिवहन विभाग को पूरी तरह डिजिटल बना दिया है

राजस्थान: जनता की मुश्किलें हुई आसान, परिवहन विभाग हुआ 'डिजिटल'
अब फीस जमा करवाने जैसे समस्त काम भी ऑनलाइन होंगे

कोटा: सरकार के बढ़ते डिजिटलाइजेशन के जोर के बाद अब राजस्थान सरकार का परिवहन विभाग भी पूरी तरह से 'डिजिटल' हो गया है. यहां अब ऑफिसों के चक्कर नहीं लगाने पड़ते है क्योंकि सब कुछ ऑनलाइन है. बता दें कि अब तक परिवहन विभाग मे जनता को अपना काम कराने के लिए पूरे पूरे दिन दफ्तरों के चक्क काटने पड़ते थे. वही लाइनें इतनी लंबी होती थीं कि पूरे दिन कतारों में खड़े होने के बाद भी लोगों का काम नहीं हो पाता था.   

वहीं ऑफिस के बाहर दलालों, एजेंटों का जमावड़ा होता था और उनके मार्फ़त ही आवश्यक कार्य संभव हो पाते थे. लेकिन वक्त की मांग के अनुसार अब परिवहन विभाग  भी पूरी तरह डिजिटल हो गया है. आरटीओ महकमे की कोशिश ने जनता की आवश्यकता से सम्बंधित सभी कार्यों को ऑनलाइन करने में सफलता हासिल कर ली है. 

खबर के अनुसार यह संभव हुआ है 'वाहन सॉफ्टवेयर' और 'सारथी सॉफ्टवेयर' के जरिये. इन दोनों सॉफ्टवेयर ने परिवहन विभाग को पूरी तरह डिजिटल बना दिया है. अब चाहे रजिस्ट्रेशन हो, लाइसेंस हो, फिटनेस हो या परमिट, सभी काम अब ऑनलाइन होंगे. यहां तक कि अब फीस जमा करवाने जैसे समस्त काम भी ऑनलाइन होंगे.

वहीं डीलरों के माध्यम से होने वाले रजिस्ट्रेशन के कार्य ऑनलाइन हो रहे है. लाइसेंस के लिए भी ऑनलाइन एप्लीकेशन देनी होती है और उसके लिए स्लॉट भी ऑनलाइन मिल जाता है. साथ ही ड्राइविंग टेस्ट के लिए भी ऑटोमेटेड ड्राइविंग ट्रैक है.

दूसरी ओर अब परिवहन विभाग ई-चालान की व्यवस्था भी इसी सप्ताह से शुरू कर रहा है. जिससे चालान शुदा वाहन का रिकॉर्ड पूरे देश में ऑनलाइन हो जाएगा. ऐसे में अब आरटीओ दफ्तरों में आपको एजेंट के पास चक्कर नहीं लगाने होंगे. आपको सिर्फ अपने कंप्यूटर पर 'वाहन' और 'सारथी' सॉफ्टवेयर खोलना है और अपना आवेदन करना है.

आरटीओ अधिकारी प्रकाश सिंह के मुताबिक 'अब परिवहन विभाग एक मात्र सरकारी महकमा है जो सौ प्रतिशत डिजिटल हो चुका है. अब सभी कार्य ऑनलाइन किये जा रहे है. इसका सीधा लाभ जनता को मिल रहा है क्योंकि उन्हें अब ऑफिस के चक्कर नहीं लगाने पड़ते.'