राज्यसभा चुनाव 2020: महेश जोशी का बड़ा बयान, बाड़ेबंदी के लिए कांग्रेस नहीं भाजपा रहे तैयार

राजस्थान में भाजपा की ओर से राज्यसभा चुनाव में दो में से एक उम्मीदवार का नाम वापस नहीं लेने पर मुकाबला रोचक हो गया है. 

राज्यसभा चुनाव 2020: महेश जोशी का बड़ा बयान, बाड़ेबंदी के लिए कांग्रेस नहीं भाजपा रहे तैयार
कांग्रेस ने बीजेपी को राज्यसभा के लिया किया सतर्क

जयपुर: राजस्थान में भाजपा की ओर से राज्यसभा चुनाव में दो में से एक उम्मीदवार का नाम वापस नहीं लेने पर मुकाबला रोचक हो गया है. 26 मार्च को मतदान भी तय हैं. भाजपा को उम्मीद है कि कई विधायक उनके पक्ष में राज्यसभा में मतदान करेंगे. वहीं, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मुख्य सचेतक विधानसभा महेश जोशी का कहना है कि प्रदेश की राजनीतिक परिस्थितियों के मद्देनजर बाड़े बंदी की जरूरत भाजपा को है कांग्रेस को नहीं.

राजस्थान में 3 राज्यसभा सीटों के लिए भाजपा और कांग्रेस ने दो-दो उम्मीदवार मैदान में उतारे हैं. नाम वापसी का समय बीत जाने के बावजूद तय संख्या बल नहीं होने के बावजूद भाजपा ने ओंकार सिंह लखावत का नाम वापस नहीं लिया, ऐसे में मतदान होना तय है. मुख्य सचेतक महेश जोशी का कहना है कि कांग्रेस के दोनों प्रत्याशियों की जीत तय है. भाजपा ने उम्मीदवार दूसरा क्यों उतारा? वह उनका विषय है, लेकिन राजस्थान में किसी भी तरह की ऐसी स्थिति नहीं है कि भाजपा जीत सकें. कांग्रेस के एक उम्मीदवार की दावेदारी को लेकर उपजे असंतोष पर उनका कहना था कि फिलहाल सभी विधायक एक राय हैं अन्य पार्टी और निर्दलीयों का भी समर्थन कांग्रेस के साथ हैं.

नगर निगम चुनाव की तारीख 6 सप्ताह आगे बढ़ाने पर महेश जोशी का कहना था कि सभी राजनीतिक पार्टियों की पहली प्राथमिकता कोरोना वायरस (Coronavirus) को हराना है. इसमें राजनीति नहीं होनी चाहिए. राजस्थान सरकार भी कोरोना की आशंकाओं के मद्देनजर जरूरी कदम उठा रही है. स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर भी अतिरिक्त सतर्कता बरती जा रही है. धार्मिक स्थलों के मुखियाओं ने भी सहयोग देने की बात कही है. सभी की मदद से ही कोरोना को हराया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: फिलीपींस में फंसे 1500 भारतीय छात्रों की मदद के लिए आगे आए राजस्थान BJP के यह नेता!

राजस्थान में मतदान की स्थिति के लिए कांग्रेस तैयार है. मतदान से ठीक पहले मॉक पोलिंग के लिए सभी सदस्यों को ट्रेनिंग दी जाएगी. वहीं, असंतुष्ट या नाराजगी दर्शा चुके नेताओं से भी लगातार संवाद किया जा रहा है. कांग्रेस इस समय भाजपा के उठाए गए कदमों के बावजूद पूरी तरह दोनों राज्य सभा सीटें जीतने के लिए आश्वस्त नजर आ रही है.