जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में रक्षंदा जलील अनुवादक अवॉर्ड से सम्मानित

समारोह में बतौर अवॉर्ड जुरी नमिता गोखले, नीता गुप्ता, संदीप भुतोरिया भी मौजूद थे. अवॉर्ड के तौर पर रक्षंदा को एक लाख रुपये की धनराशि और वाणी फाउंडेशन का सम्मान चिह्न दिया गया.

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में रक्षंदा जलील अनुवादक अवॉर्ड से सम्मानित
जयपुर साहित्य उत्सव 27 जनवरी तक जारी रहेगा.

जयपुर: जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में लेखिका, अनुवादक और साहित्यिक इतिहासकार रक्षंदा जलील को जयपुर के डिग्गी पैलेस, दरबार हाल में जयपुर बुकमार्क के ऑपनिंग डे पर 5वें वाणी फाउंडेशन डिस्टिनगुइश ट्रांसलेटर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया है. यह अवॉर्ड पब्लिशिंग हाउस वाणी प्रकाशन ग्रुप और कला एवं मनोरंजन कंपनी टीमवर्क आर्ट्स प्राइविट लिमिटेड की ओर से प्रस्तुत किया गया था.

समारोह के मुख्य अतिथि भारत में नॉर्वे के राजदूत हेंस जेकॉब फ्राइडेनलेंड और अभिनेत्री, राजनेता और केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड की सदस्य वाणी त्रिपाठी टिक्कू ने रक्षंदा जलील को अवॉर्ड से सम्मानित किया.

समारोह में बतौर अवॉर्ड जुरी नमिता गोखले, नीता गुप्ता, संदीप भुतोरिया भी मौजूद थे. अवॉर्ड के तौर पर रक्षंदा को एक लाख रुपये की धनराशि और वाणी फाउंडेशन का सम्मान चिह्न दिया गया.

जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल का शुभारंभ 23 जनवरी से हो चुका है और यह 27 जनवरी तक जारी रहेगा. इस बार इसमें कई रोचक व मजेदार सत्र होंगे जिनमें कुछ ऐसे विषय शामिल हैं जिन पर चर्चाएं होती रही हैं, जैसे कि कश्मीर मुद्दा, भारतीय संविधान, विवेकानंद, सावरकर और पटेल. 

समारोह में टीमवर्क आर्ट्स के प्रबंध निदेशक संजय रॉय ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में जेएलएफ का बहुत महत्व है जब अंध-राष्ट्रीयता का दुनिया में शासन है. उत्सव में 550 वक्ता भाग लेंगे जिनमें से 120 पुरस्कार विजेता वक्ता रह चुके हैं. इसके साथ ही नमिता ने आखिर में कहा, 'एक बार फिर से दुनिया जयपुर में होगी और 

जयपुर में पूरी दुनिया'.