close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नागौर: राना इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों ने पर्यावरण जागरुकता के लिए निकाली रैली

नागौर जिले के डेगाना स्थित राना इंटरनेशनल स्कूल के छात्र छात्राओं ने शनिवार को पर्यावरण जागरुकता के लिए रैली निकाली.

नागौर: राना इंटरनेशनल स्कूल के छात्रों ने पर्यावरण जागरुकता के लिए निकाली रैली
छात्रों ने लोगों को कैरी बैग देकर जागरुकता फैलाने का प्रयास किया.

डेगाना: नागौर जिले के डेगाना स्थित राना इंटरनेशनल स्कूल के छात्र छात्राओं ने शनिवार को पर्यावरण जागरुकता के लिए रैली निकाली. इस दौरान छात्र तख्तियां लेकर आम लोगों को प्लाटिक थैली के उपयोग बंद करने को लेकर पूरे शहर में घूमे.

इस रैली को बीसीएमओ डॉ रामकिशोर सारण ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. यह रैली स्थानीय नगरपालिका से रवाना होकर मुख्य बाजार तक गई. इस दौरान खरीददारी कर रहे छात्रों ने हाथ ठेलों पर जाकर कपड़े के कैरी बैग भी दिए. ताकि आम लोग इस संवेदनशील मुद्दे पर जागरूक हो सके.

सरकार भी संवेदनशील और सख्त
आपको बता दें कि प्रदेश सरकार इस मुद्दे पर काफी संवेदनशील और सख्त रवैया अपनाए हुए है. इससे पहले प्रदूषण नियंत्रण मंडल ने आरसीडीएफ को नोटिस थमाकर दूध की थैलियों के निस्तारण के आदेश दिए थे. इसके बाद आरसीडीएफ इसकी डीपीआर बना रहा है. जिससे व्यवस्था में सुधार हो सके.

लाइव टीवी देखें-:

10 लाख लीटर दुध की पॉलिथिन में सप्लाई
राजधानी जयपुर में 10 लाख लीटर दूध की सप्लाई पॉलिथिन में होती है. जिसे बड़े पैमाने पर प्रदुषण होता है. लेकिन इसकी रोकथाम के लिए जरुरी कदम उठाए जा रहे हैं.

रियूज नहीं हो पा रहे हैं प्लास्टिक
राजस्थान में हर दिन 3 से 3.5 लाख किलो प्लास्टिक का यूज पॉलीबैग, पॉलीथिन, दूध की थैली, बिस्किट, नमकीन, वेफर्स, पानी की बोतल के रूप में यूज हो रहा हैं. लेकिन इस प्लास्टिक का निस्तारण और रियूज नहीं होने के कारण डम्पिग स्टेशन पर प्लास्टिक के पहाड़ खड़े हो रहे हैं और ये पहाड़ ही पर्यावरण के लिए खतरा बनते जा रहे हैं.

पॉल्यूशन बोर्ड ने जारी किए निर्देश
इस मामले में राजस्थान स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड ने नोटिस जारी कर स्पष्ट निर्देशित किया है कि जितना प्लास्टिक का यूज किया जा रहा हैं, उस प्लास्टिक का 30 प्रतिशत प्लास्टिक वापस कलेक्ट करके निस्तारण करे.