close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोटा: एजुकेशन सिस्टम पर बोले रमेश पोखरियाल कहा- 'देश में जल्द लागू होगी एक शिक्षा नीति'

समारोह को संबोधित करते हुए प्रदेश के यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के सामने कोटा के मुद्दों को उठाया.

कोटा: एजुकेशन सिस्टम पर बोले रमेश पोखरियाल कहा- 'देश में जल्द लागू होगी एक शिक्षा नीति'
केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने जल्द से जल्द शिक्षा नीति में सुधार की बात कही.

कोटा: राजस्थान के कोटा में शिक्षा विकास मंच की ओर से रविवार को शिक्षक सम्मान समारोह आयोजित किया गया. शिक्षक सम्मान समारोह में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला, केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल और प्रदेशके यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल बतौर मुख्य अतिथि मौजूद रहें 

समारोह को संबोधित करते हुए प्रदेश के यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के सामने कोटा के मुद्दों को उठाया. इस दौरान मंत्री निशंख ने जल्द से जल्द शिक्षा नीति में सुधार की बात कही.

कार्यक्रम में मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि कोचिंग संस्थानों से 18 पर्सेंट जीएसटी लिया जाता है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कोटा में आयोजित होने वाली कई प्रवेश परीक्षाएं जिनको एनटीए आयोजित करवाती है. उनके परीक्षा केंद्र नहीं है. इस मामले में धारीवास ने केंद्रीय मंत्री निशंक से मदद की अपील की. 

साथ ही धारीवाल ने यह प्रश्न भी उठाया कि जब एक देश एक विधान है और एक जीएसटी कर पूरे देश में वसूला जा रहा है, तो पूरे देश की एक शिक्षा नीति क्यों नहीं है. उन्होने कहा कि पूरे राष्ट्र की एक शिक्षा नीति होनी चाहिए.  

मंत्री शांति धारीवाल के सवालों का जवाब देते हुए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री निशंक ने कहा कि हमने अभी आर्टिकल 370 को हटाकर एक देश, एक निशान और एक विधान का काम पूरा किया गया है. उससे पहले एक देश एक टैक्स के रूप में जीएसटी लगाया था और बारी-बारी से हर काम किए जा रहे हैं. निशंख ने कहा कि हम जल्दी ही ऐसी शिक्षा नीति भी जरूर लेकर आएंगे, जो पूरे देश में लागू होगी.

आपको बता दें कि रविवार को कोटा में आयोजित हुए इस समारोह में हाडौती भर से आए करीब 2500 सेवानिवृत शिक्षकों को सम्मानित किया गया. इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे.