पत्नी संग प्रेमी को रिश्तेदारों ने जलाया, पति ने उठाया ये कदम...

अजमेर के ब्यावर में जवाजा थाना क्षेत्र के काबरा गांव में एक विवाहिता के प्रेम प्रसंग की भनक लगने के बाद विवाहिता के रिश्तेदारों की ओर से विवाहिता सहित उसके प्रेमी को जिंदा जलाने का प्रयास का मामला सामने आया है.  

पत्नी संग प्रेमी को रिश्तेदारों ने जलाया, पति ने उठाया ये कदम...
प्रतीकात्मक फोटो

दिलीप चौहानअजमेर: जिले के ब्यावर में जवाजा थाना क्षेत्र के काबरा गांव में एक विवाहिता के प्रेम प्रसंग की भनक लगने के बाद विवाहिता के रिश्तेदारों की ओर से विवाहिता सहित उसके प्रेमी को जिंदा जलाने का प्रयास का मामला सामने आया है. घटना में विवाहिता 70 प्रतिशत तक जल गई. जबकि प्रेमी को उसके परिजनों ने बाहर निकालकर बचा लिया.

विवाहिता को उपचार के लिए राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया है. मामले को लेकर विवाहिता के पति ने रिश्तेदारों के खिलाफ जवाजा थाने में लिखित शिकायत की है. प्रकरण में गुरुवार सुबह उपखंड अधिकारी जेएस संधू ने अस्पताल में जीवन व मृत्यु के बीच संघर्ष कर रही विवाहिता के 174 में बयान दर्ज किए हैं. 

जवाजा थानाधिकारी कंवरपाल सिंह ने बताया कि काबरा गांव में सुरेश रावत की पत्नी आशादेवी अपने एक लड़के और एक लड़की के साथ रहती है. उसका पति सुरेश केटरिंग का काम करता है और ज्यादातर पाली में ही रहता है. 

सिंह ने बताया कि बुधवार को आशादेवी के घर पर एक युवक आया था. इसकी जानकारी पड़ोस में रहने वाले उसके रिश्तेदार शंकरसिंह, नरेन्द्र और चरणसिंह को हुई. जानकारी के बाद उसके रिश्तेदारों ने 10-15 अन्य लोगों के साथ मिलकर आशादेवी और उस युवक को मारने की नियत से उसके घर में घुस गए. घर में रखे गैस सिलेण्डर में आग लगाकर दरवाजा बंद करते हुए बाहर निकल गए. 

इस प्रकार की घटना की जानकारी मिलते ही युवक के परिजन मौके पर पहुंचे. घर का दरवाजा खोलकर उसे बाहर निकाल लिया और दरवाजा पुन: बंद कर दिया. घटना की जानकारी मिलने पर अन्य गांव वालों ने दरवाजा खोलकर आग को बुझाया, लेकिन विवाहिता 70 प्रतिशत तक जल गई थी. 

उधर प्रकरण की जानकारी मिलते ही जावाजा थानाधिकारी कंवरपालसिंह मय जाब्ते के मौके पर पहुंचे तथा विवाहिता को झुलसी हुई हालत में उपचार के लिए राजकीय अमृतकौर चिकित्सालय लाकर भर्ती करवाया. पत्नी के साथ घटे घटनाक्रम की जानकारी पर उसका पति भी घर पहुंचा. इस संदर्भ में विवाहिता न रिश्तेदार शंकरसिंह, नरेन्द्र और चरणसिंह सहित 10-15 अन्य के खिलाफ जान से मारने के आरोप में शिकायत दी है. 

पुलिस ने धारा 370 में मामला दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी है. बताया जा रहा है कि रावली बराखन निवासी आशादेवी का 2015 में काबरा निवासी सुरेश के साथ नाता हुआ था. यहां पर विवाहिता के एक बेटा व एक बेटी है.